Saturday, July 24, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनजिस हिरोइन सासंद ने BJP को कहा था कोरोना से ज्यादा खतरनाक, वो खुद...

जिस हिरोइन सासंद ने BJP को कहा था कोरोना से ज्यादा खतरनाक, वो खुद हो गईं कोविड-19 से संक्रमित

मुस्लिम बहुल इलाके में नुसरत ने कहा था: "आप लोग अपने आँख और कान खोलकर रखिए क्योंकि कुछ लोग कोरोना से भी खतरनाक हैं। क्या आप जानते हैं कोरोना से ज्यादा खतरनाक कौन है? ये भाजपा है।"

बंगाल विधानसभा चुनावों से कुछ समय पहले तृणमूल कॉन्ग्रेस सांसद नुसरत जहां कोरोना संक्रमित हो गई हैं। इस सूचना के सामने आने के बाद उनके सभी मीटिंग्स और अन्य कार्यक्रम रद्द कर दिए गए। उनके चाहने वाले भी सोशल मीडिया पर इस खबर को जानकर अलग-अलग तरह से रिएक्ट कर रहे हैं।

मालूम हो कि अभिनेत्री से राजनेत्री बनी नुसरत जहां पिछले दिनों अपनी शादी को लेकर विवादों में थीं। हालाँकि, राजनीति में एक्टिव रहने के कारण उन्होंने कई बार भाजपा पर भी निशाना साधा। बीते दिनों की ही बात करें तो उन्होंने भाजपा को कोरोना से ज्यादा खतरनाक करार दिया था। टीएमसी सांसद ने मुस्लिम बहुल इलाके देगंगा में चुनाव प्रचार के दौरान कहा था:

“आप लोग अपने आँख और कान खोलकर रखिए क्योंकि कुछ लोग कोरोना से भी खतरनाक हैं। क्या आप जानते हैं कोरोना से ज्यादा खतरनाक कौन है? ये भाजपा है, क्योंकि उन्हें हमारी संस्कृति नहीं पता। उन्हें इंसानियत नहीं पता। वे हमारे कड़े परिश्रम को नहीं समझते। उन्हें बस व्यापार आता है। उनके पास बहुत पैसा है। वह उसे ही हर तरफ फैला रहे हैं। वह लोगों को एक-दूसरे के मजहब के ख़िलाफ़ भड़का कर दंगे करवाते हैं।”

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार नुसरत ने यहाँ तक कहाँ था कि अगर भाजपा सत्ता में आई तो मुसलमानों की उलटी गिनती शुरू हो जाएगी।

नुसरत के इस बयान के बाद भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा था, “पश्चिम बंगाल में वैक्सीन पर सबसे खराब राजनीति हो रही है। पहले ममता बनर्जी की कैबिनेट के मौजूदा मंत्री सिद्दीकुल्ला चौधरी ने वैक्सीन ले जा रहे ट्रक को रुकवा दिया। अब एक टीएमसी सांसद मुस्लिम बहुल इलाके देगंगा में चुनाव प्रचार करते हुए बीजेपी की तुलना कोरोना से कर रही हैं। लेकिन पिशी (ममता बनर्जी) चुप हैं। क्यों? तुष्टिकरण?”

बता दें कि ये पहली या आखिरी बार नुसरत जहां ने बीजेपी पर निशाना नहीं साधा था। इससे पहले उन्होंने एक कार्यक्रम में ममता बनर्जी के सामने हुई नारेबाजी पर ट्वीट करते हुए लिखा था, “राम का नाम गले लगा कर बोलें, ना कि गला दबा कर। मैं स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती समारोह को मनाने के लिए हुए सरकार के कार्यक्रम में राजनीतिक और धार्मिक नारों की जोरदार निंदा करती हूँ।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe