Tuesday, October 19, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनपाकिस्तानी प्यादों से बॉलीवुड सितारों के डायरेक्ट कनेक्शन पर उठे सवाल, नेटिजन्स ने की...

पाकिस्तानी प्यादों से बॉलीवुड सितारों के डायरेक्ट कनेक्शन पर उठे सवाल, नेटिजन्स ने की जाँच की मॉंग

एक तस्वीर में शाहरुख खान और उनकी पत्नी एक अलगाववादी नेता के साथ नज़र आ रहे थे। कैलिफोर्निया के रहने वाले अलगाववादी नेता टोनी अशाई पर कश्मीर के युवकों को भारत के विरुद्ध भड़काने का आरोप है। शाहरुख के टोनी के साथ बहुत अच्छे सम्बन्ध बताए जाते हैं।

बॉलीवुड से जुड़े कई लोगों के डी कंपनी के सरगना दाऊद इब्राहिम से लेकर पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी आईएसआई से रिश्ते होने की बात सामने आती रही है। बुधवार को ऐसे कई बड़े कलाकारों की पाकिस्तानियों के साथ तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल हुई थी।

इसके बाद से इन कलाकारों की भूमिका और नज़रिए पर सवाल उठ रहे हैं। आखिर बॉलीवुड के लोगों का ऐसे “भारत विरोधी” लोगों से इतना सीधा संपर्क कैसे है?

एक तस्वीर में शाहरुख खान और उनकी पत्नी एक अलगाववादी नेता के साथ नज़र आ रहे थे। कैलिफोर्निया के रहने वाले अलगाववादी नेता टोनी अशाई पर कश्मीर के युवकों को भारत के विरुद्ध भड़काने का आरोप है। शाहरुख के टोनी के साथ बहुत अच्छे सम्बन्ध बताए जाते हैं।

यह भी बताया जा रहा है कि टोनी की दुबई, आबू धाबी और लॉस एंजिलिस में अच्छी-खासी सम्पत्ति है। उसके बेटे बिलाल अशाई ने कश्मीर के युवकों से हथियार उठाने की अपील की थी। 

श्रीनगर के सामाजिक कार्यकर्ता अल सिकंदर ने अपने आधिकारिक ट्विटर एकाउंट से सिलसिलेवार ट्वीट किया था। जिसमें उन्होंने टोनी/अज़ीज़ पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। ट्वीट में उन्होंने लिखा कि टोनी आईएसआई द्वारा प्रायोजित आतंकवादी संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का सदस्य रह चुका है। वहीं शाहरुख खान का कहना है कि उन्होंने टोनी से बतौर आर्किटेक्ट मदद ली थी। 

शाहरुख खान की पत्नी गौरी खान का कहना था टोनी ने हमारी कई प्रोजेक्ट में मदद की है। साथ ही अल सिकंदर ने यह भी लिखा कि सब पहले से तय की गई योजनाओं के आधार पर होता है। टोनी बॉलीवुड के प्रभाव का इस्तेमाल करना चाहता है इसलिए उसने ऐसे संपर्क बनाए। शाहरुख खान भले खुद को देशभक्त बताते हों, लेकिन उन्हें टोनी के मॅंसूबों के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

साभार – अल सिकंदर

खबरों के मुताबिक़ टोनी अशाई उर्फ़ अज़ीज़ अशाई ने जेकेएलएफ के खर्च पर अमेरिका की बफैलो यूनिवर्सिटी से पढ़ाई पूरी की। टोनी के पहले व्यवसाय का नाम अशाई डिज़ाइन था, यह भी जेकेएलएफ द्वारा ही प्रायोजित था। साल 1992 के दौरान मार्च-अप्रैल के महीने में टोनी को बर्किंघम की एक शेल कंपनी से लगभग 450 हज़ार डॉलर मिले थे। इसके अलावा अल सिकंदर ने अपने ट्वीट में टोनी के बेटे बिलाल पर पाकिस्तान के आतंकवादी संगठनों से मिले होने का आरोप लगाया। 

अल सिकंदर ने टोनी की एक तस्वीर भी साझा की जिसमें वह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मौजूद था। साथ ही उस पर यह आरोप लगाया कि उसे आईएसआई से वेतन भी मिलता है। इसके अलावा वह जम्मू-कश्मीर और भारत के अलग-अलग हिस्सों में रहने वाले तमाम लोगों से संपर्क में है। 

कुछ और नेटीज़न ने अशाई की तस्वीर साझा की जिसमें वह कैलिफ़ोर्निया स्थित अपने महॅंगे और आरामदायक कमरे में बैठ कर कश्मीर के युवाओं को भारत के खिलाफ भड़का रहा था। वहीं उसके बेटे ने हाल ही में लॉस एंजिलिस की साउदर्न कैलिफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी की। 

साभार – अल सिकंदर

टोनी अशाई के भाई आर्थर का रवैया भी कुछ ऐसा ही है। ट्विटर पर साझा किए गए एक वीडियो में वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का समर्थन करने वालों का मज़ाक बना रहा है। वह इस बात से नाराज़ था कि एक भारतीय व्यक्ति ने उसके सामने ‘मोदी जिंदाबाद’ कह दिया था। इसके बाद आर्थर ने उस व्यक्ति का बहुत मज़ाक बनाया और अंत में पूछा क्या वह फिर से ‘मोदी जिंदाबाद’ तो नहीं कहेगा। 

सिर्फ टोनी अशाई ही नहीं नेटीज़न ने एक और भारत विरोधी व्यक्ति के साथ बॉलीवुड के कई बड़े कलाकारों की तस्वीर खोज निकाली। इसमें सोनम कपूर, अनिल कपूर और करन जौहर जैसे लोग भी शामिल थे। नेटीज़न ने इस बात पर ज़ोर दिया कि कैसे एक पाकिस्तानी व्यवसायी अनिल मुसरत के भारतीय कलाकारों के साथ इतने अच्छे सम्बन्ध हैं।

मुसरत, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का करीबी है। शाहरुख खान से लेकर करन जौहर तक, अनिल कपूर से लेकर सोनम कपूर तक और दीपिका पादुकोण से लेकर रणवीर सिंह तक इन सभी के अनील मुसरत से अच्छे सम्बन्ध हैं। इस मामले से जुड़े कई ट्वीट खूब वायरल हुए थे। 

पाकिस्तानी मूल का ब्रिटिश नागरिक अनील मुसरत, मूल रूप से कारोबारी और रियल एस्टेट उद्योगपति है। उसके पाकिस्तानी सेना के मुखिया जनरल बजवा और आईएसआई के निदेशक आसिफ गफूर से भी संपर्क है। 

मुसरत ने भारत में अवैध रूप से दाखिल हुए रोहिंग्या शरणार्थियों के समर्थन में भी खूब आवाज़ उठाई थी, जिन्हें भारत सरकार ने “राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा” घोषित कर दिया था। उसने मिन्हाज फ़ाउंडेशन के साथ मिल कर राफे मुसरत फाउंडेशन की शुरुआत की थी, जो रोहिंग्या शरणार्थियों की मदद करती थी। वह अक्सर भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भी मज़ाक बनाता है। 

वह पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की कई मामलों में मदद भी करता है। नवंबर 2019 में करतारपुर गुरुद्वारा साहिब का उद्घाटन था, जिसमें भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी शामिल हुए थे। जैसे ही वह उनके करीब आकर सेल्फी लेने की कोशिश करता है, सुरक्षाकर्मी उसे धक्का देकर किनारे कर देते हैं।

साल 2017 के दौरान लंदन में हुई उसकी बेटी की शादी में इमरान खान समेत कई बॉलीवुड कलाकार शामिल हुए थे। 

पाकिस्तानी मूल का होस्टन में रहने वाला रेहान सिद्दीकी कश्मीर में होने वाली आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देता है और भारत के विरुद्ध नफ़रत फैलाता है। रेहान का म्युज़िक और रेडियो इंडस्ट्री में कई सालों का अनुभव है। उसने दक्षिणी एशिया समेत बॉलीवुड के कई कलाकारों के साथ लगभग 400 कॉन्सर्ट किए हैं। पिछले कुछ समय से रेहान ने कई बॉलीवुड इवेंट कराए और भारत विरोधी गतिविधियों की फंडिंग की (खासकर कश्मीर)। होस्टन में उसका खुद का एक रेडियो चैनल में जिसमें वह सिर्फ भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करता है। 

अमेरिका में रहने वाले भारतीय लोगों ने रेहान द्वारा आयोजित कार्यक्रमों का विरोध किया था। साथ ही इस बात का भी उल्लेख किया था कि बॉलीवुड के कलाकारों को आईएसआई एजेंट के कार्यक्रम में शामिल नहीं होना चाहिए। लोगों का कहना था कि बॉलीवुड के लोगों को रेहान के कार्यक्रम में शामिल होने पर रोक लगाई जानी चाहिए। 

इसके अलावा लोगों ने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि रेहान और अन्य पाकिस्तानी नागरिक सीएए के विरोध में प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं। साथ ही सिख समुदाय के स्थानीय लोगों के साथ मिल कर खालिस्तान का समर्थन करने की योजना भी बना रहा है। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद रेहान ने अपने रेडियो चैनल पर खूब भारत विरोधी एजेंडा चलाया था। 

इतना कुछ होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष बैजयंत जय पंडा ने इस मामले पर ट्वीट किया था। ट्वीट में उन्होंने लिखा “बॉलीवुड के देशभक्तों को ऐसे लोगों से अपना सम्बन्ध ख़त्म कर देना चाहिए जो कश्मीर में हिंसा को बढ़ावा देने की बात करते हैं।”

साभार – बैजयंत जय पंडा

इसके बाद हज़ारों – लाखों की संख्या में सोशल मीडिया यूज़र्स और नेटीज़न ने इस मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई। उन्होंने सरकार से गुज़ारिश की बॉलीवुड कलाकारों के ,पाकिस्तान से रिश्ते पर जाँच होनी चाहिए।      

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe