Sunday, May 29, 2022
Homeविविध विषयमनोरंजनजब दिल्ली में हुआ था दक्षिण भारतीय सिनेमा का अपमान: मेगास्टार चिरंजीवी ने याद...

जब दिल्ली में हुआ था दक्षिण भारतीय सिनेमा का अपमान: मेगास्टार चिरंजीवी ने याद किए वो दिन, कहा- उन्होंने हिंदी सिनेमा को ही दिखाया भारतीय सिनेमा

चिरंजीवी ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में तब बात की थी लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। हालाँकि, बाहुबली या आरआरआर के साथ, उन्हें गर्व महसूस होता है कि अब देश दक्षिण भारत के निर्देशकों, अभिनेताओं और लेखकों को पहचान रहा है।

मेगास्टार चिरंजीवी ने अपने जीवन के एक ऐसे पल का खुलासा किया जब उन्होंने खुद को ‘अपमानित’ महसूस किया। हाल ही में एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें चिरंजीवी अपने उस अपमानजनक दौर को याद करते हुए 1989 की एक घटना का जिक्र करते हैं। दिल्ली में फिल्म आचार्य के पूर्व-रिलीज़ के कार्यक्रम बोलते हुए, अभिनेता चिरंजीवी ने बताया कि उन्हें 1989 दिल्ली बुलाया गया था क्योंकि उनकी फिल्म रुद्रवीणी को नरगिस दत्त पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा था।

उन्होंने कहा कि पुरस्कार समारोह से एक दिन पहले, सरकार ने एक हाई टी का आयोजन किया, जिसके दौरान वह भारतीय सिनेमा के इतिहास को प्रदर्शित करने वाली एक हाल में टहल रहे थे। उन्हें याद आया कि दीवार में पृथ्वीराज कपूर से लेकर अमिताभ बच्चन तक और उनके बारे में एक संक्षिप्त विवरण के साथ चित्रित किए गए थे।

चिरंजीवी ने खुलासा किया, “मैं दक्षिण की फिल्मों पर कुछ देखने की उम्मीद में आगे बढ़ता रहा। हालाँकि, जयललिता के साथ एमजीआर और प्रेम नजीर की एक तस्वीर ही थी। उन्होंने इसे साउथ फिल्म्स का नाम दिया। यहाँ तक कि वे राज कुमार या विष्णुवर्धन या एनटी रामाराव या नागेश्वर राव या शिवाजी गणेशन या यहाँ तक ​​कि हमारे फिल्म उद्योग के दिग्गज फिल्म निर्माताओं को नहीं पहचानते थे। उस पल मैं बहुत अपमानित महसूस कर रहा था। यह अपमान जैसा था। उन्होंने हिंदी सिनेमा को भारतीय सिनेमा के रूप में चित्रित किया था। जबकि अन्य फिल्मों को ‘क्षेत्रीय फिल्मों’ के रूप में वर्गीकृत किया गया था और उन्हें सम्मान नहीं दिया गया था।”

चिरंजीवी ने कहा कि उन्होंने इसके बारे में तब बात की थी लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। हालाँकि, बाहुबली या आरआरआर के साथ, उन्हें गर्व महसूस होता है कि अब देश दक्षिण भारत के निर्देशकों, अभिनेताओं और लेखकों को पहचान रहा है। उन्होंने कहा कि फिल्मों ने क्षेत्रीय बाधाओं को तोड़ दिया है और सम्मानपूर्वक अखिल भारतीय फिल्म होने का टैग अर्जित किया है।

चिरंजीवी ने आगे कहा, “बाहुबली ने मुझे गौरवान्वित किया क्योंकि इसने क्षेत्रीय और हिंदी सिनेमा के बीच के बैरियर को तोड़ा और साबित कर दिया कि हम सभी भारतीय फिल्म उद्योग का हिस्सा हैं। इन फिल्मों ने तेलुगु दर्शकों को गौरवान्वित किया है। हमें बाहुबली और आरआरआर जैसी फिल्में देने के लिए एसएस राजामौली को सलाम। उन्हें हमेशा याद किया जाएगा।” चिरंजीवी ने उन्हें ‘भारतीय सिनेमा के देवता’ का टैग दिया।

चिरंजीवी ने यश की KGF 2 और अल्लू अर्जुन की पुष्पा की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि इन फिल्मों की सफलता से प्रभास सहित कई अभिनेता अखिल भारतीय अभिनेता बन गए हैं।

आगे बात बोलते हुए अभिनेता ने यह भी उल्लेख किया कि कैसे एसएस राजामौली भी एक कारण है कि आचार्य जैसी फिल्म संभव हो सकता है। बता दें कि चिरंजीवी का रोल सबसे पहले उनके बेटे को ऑफर हुआ था। उन्होंने इस बात का खुलासा भी किया कि आचार्य में उनके रोल करने की पहली पेशकश उनके बेटे राम चरण को की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe