Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजन'तारीफ मेरे ईमान के लिए खतरनाक, दुआ करें कि अल्लाह मेरी कमियों को नजरअंदाज...

‘तारीफ मेरे ईमान के लिए खतरनाक, दुआ करें कि अल्लाह मेरी कमियों को नजरअंदाज करें’

"मैं सभी से आग्रह करती हूँ कि किसी भी तरह से मेरी तारीफ न करें। यह दुआ करें कि अल्लाह मेरी कमियों को नजरअंदाज करें, जो अनगिनत हैं। मेरे दिल को दया की रोशनी और ईमान के साथ भर दे।"

तबलीगी जमात पर टिप्पणी कर सुर्खियों में आईं दबंग गर्ल बबीता फोगाट द्वारा जायरा वसीम का नाम लेने के बाद सोशल मीडिया पर एक नई बहस शुरू हो गई है। इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व एक्ट्रेस जायरा ने लोगों से अपनी तारीफ न करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि यह उनके लिए सही नहीं है और उनके ईमान के लिए खतरनाक भी है।

जायरा वसीम ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा, “अस्सलाम वालेकुम। मैं विनम्रता के साथ यह स्वीकार करती हूँ कि सभी लोग मुझे प्यार करते हैं। साथ ही मैं इस बात पर ज्यादा जोर नहीं दे सकती कि मुझे मिल रही तारीफ कैसे मेरे लिए संतोषजनक नहीं है और कैसे यह मेरे लिए बहुत बड़ी परीक्षा है और कैसे यह मेरे ईमान के लिए खतरनाक है। मैं इतनी बड़ी धार्मिक नहीं हूँ कि लोगों को प्रभावित कर सकूँ?”

जायरा ने आगे लिखा है, “मैं सभी से आग्रह करती हूँ कि किसी भी तरह से मेरी तारीफ न करें। यह दुआ करें कि अल्लाह मेरी कमियों को नजरअंदाज करें, जो अनगिनत हैं। मेरे दिल को दया की रोशनी और ईमान के साथ भर दे। मेरे इरादे को सुधार दे और मुझे वह ज्ञान दे, जो फायदेमंद हो। एक जुबान और दिल दे, जो हमेशा उसे याद रखे और अक्सर उसके पास ही पश्चाताप के लिए जाऊँ। मुझे केवल उसके लिए धार्मिक काम करने की अनुमति दे। मुझे स्थिर रहकर मुस्लिम के रूप में जीने और मरने का मौका दे। (पूरी तरह उसे समर्पित कर दूँ)।”

माना जा रहा है कि यह पोस्ट दबंग गर्ल बबीता फोगाट के बयान के जवाब में आया है। बबीता ने कहा था कि लोग उन्हें जायरा न समझें, जो एक धमकी से घर बैठ जाए। बबीता ने कहा था कि मुझे लगातार सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिल रही हैं, लेकिन मैं इनसे डरने वाली नहीं। मैं हमेशा सच के साथ हूँ। देश के लिए लड़ीं हूँ और देश के लिए ही लड़ूँगी। उन्होंने अपने उस ट्वीट पर भी कायम रहने की बात कही थी, जिसमें तबलीगी जमात को कोरोना फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराया था।

ज्ञात हो कि सोशल मीडिया पर बबीता का ट्वीट आने के बाद मीडिया गिरोह के लोग उनपर अचानक हमलावर हो गए। लगातार उनके ख़िलाफ़ रिपोर्टिंग हुई और उनपर आरोप लगा दिए गए कि वे नफरत फैलाने का काम कर रही हैं। हकीकत ये है कि अपने ट्वीट में उन्होंने सिर्फ़ जमातियों के बारे में टिप्पणी की है, जिनके कारण हर राज्य में कोरोना तेजी से फैला।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe