Friday, August 6, 2021
Homeसोशल ट्रेंडकट्टरपंथियों और सेकुलरों को बबीता फोगाट ने दिया जवाब, कहा- मैं जायरा वसीम नहीं...

कट्टरपंथियों और सेकुलरों को बबीता फोगाट ने दिया जवाब, कहा- मैं जायरा वसीम नहीं हूँ कि डरके घर पर बैठ जाऊँगी

सोशल मीडिया पर बबीता का ट्वीट आने के बाद मीडिया गिरोह के लोग उनपर अचानक हमलावर हो गए। कल से लगातार उनके ख़िलाफ़ रिपोर्टिंग हुई और उनपर आरोप लगा दिए गए कि वे नफरत फैलाने का काम कर रही हैं।

कुश्ती चैंपियन बबीता फोगाट देश में कोरोना संक्रमण के अधिकतर मामलों के लिए जिम्मेदार माने जा रहे रहे तबलीगी जमात पर एक ट्वीट करने के कारण चर्चा में आ गई। सोशल मीडिया पर उनके एक ट्वीट हलचल मचा दी। इस ट्वीट में उन्होंने तबलीगी जमात को जाहिल कहा था। जिसे देखकर कट्टपंथी उनपर हमलावर हो गए और उन्हें तरह-तरह के मैसेज करके ट्रोल करने लगे।

और जब ट्रोल करके मन नहीं भरा तो उन्हें फोन पर धमकी भी दी गई। अब यही बर्दाश्त से बाहर होने के बाद बबीता फोगाट ने इन लोगों को जवाब देने के लिए एक वीडियो जारी कर अपना पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि वह ‘जायरा वसीम’ नहीं हैं और न ही वह किसी तरह की धमकी से डरने वाली हैं।

बबीता द्वारा जारी की गई वीडियो में वो कह रही हैं “कान खोलकर एक बात सुन लो और दिमाग में बिठा लेना कि मैं कोई जायरा वसीम नहीं हूँ कि तुम्हारी धमकियों से डरकर घर पर बैठ जाऊँगी। मैं तुम्हारी धमकियों से नहीं डरने वाली। मैं असली बबीता फोगाट हूँ। मैं जो ट्वीट किया है, मैंने उसमें कुछ भी गलत नहीं लिखा है। मैं उस पर अभी भी कायम हूँ। मैंने सिर्फ उन लोगों के बारे में लिखा है, जिन्होंने कोरोना संक्रमण को फैलाया। क्या तबलीगी जमात वाले नंबर वन पर नहीं बने हुए हैं। तबलीगी जमात ने कोरोना संक्रमण नहीं फैलाया होता, तो अब तक लॉकडाउन खुल गया होता।”

ज्ञात हो कि सोशल मीडिया पर बबीता का ट्वीट आने के बाद मीडिया गिरोह के लोग उनपर अचानक हमलावर हो गए। कल से लगातार उनके ख़िलाफ़ रिपोर्टिंग हुई और उनपर आरोप लगा दिए गए कि वे नफरत फैलाने का काम कर रही हैं। जबकि हकीकत ये है कि अपने ट्वीट में उन्होंने सिर्फ़ जमातियों के बारे में टिप्पणी की है। जिनके कारण हर राज्य में कोरोना तेजी से फैला।

मगर, फिर भी इस बीच द वायर के एक्स पत्रकार प्रशांत कनौजिया ने उनपर कई टिप्पणियाँ की। वहीं प्रिंट के शहबाज अंसार ने भी उन्हें उनके एक ट्वीट पर छिछोरा बोला। शहबाज ने बबीता के ट्वीट पर, जिसमें उन्होंने रंगोली के बारे में लिखा था, उसपर लिखा, “मारी छोरी छिछोरों से कम हैं क्या?”

बता दें, इन विरोधियों के अलावा बबीता के ट्वीट पर कई लोग ऐसे भी थे जिन्होंने उनका खुलकर समर्थन किया। पहलवान बजरंग पूनिया भी बबीता के बचाव में उतरे। उन्होंने ट्रोलर्स से पूछा कि खिलाड़ी देश के लिए हर रोज संघर्ष करते हैं, लेकिन आप क्या कर रहे हैं। इसके अलावा उनकी बहन गीता फोगाट ने भी उनका समर्थन किया। नतीजतन देखते ही देखते आज सुबह सोशल मीडिया पर दो ट्रेंड चलने लगे। एक उनके समर्थन में और एक उनका अकाउंट सस्पेंड करवाने के लिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,172FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe