Thursday, October 22, 2020
Home विविध विषय धर्म और संस्कृति मकर संक्रान्ति: देश एक, परम्परा व उत्सव के रूप अनेक

मकर संक्रान्ति: देश एक, परम्परा व उत्सव के रूप अनेक

मकर संक्रान्ति का त्योहार आज पूरा देश बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मना रहा है। इस त्योहार को मनाने के पीछे शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक पक्ष तो शामिल हैं ही, इनके अलावा वैज्ञानिक पक्ष भी शामिल है

मकर संक्रान्ति का त्योहार आज पूरा देश बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मना रहा है। इस त्योहार को मनाने के पीछे शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक पक्ष तो शामिल हैं ही, इनके अलावा वैज्ञानिक पक्ष भी शामिल है।

शास्त्रीय मत के अनुसार, प्रकाश में अपना शरीर छोड़ने वाले व्यक्ति का पुनर्जन्म नहीं होता जबकि अँधकार में मृत्यु को प्राप्त करने वाले का पुनर्जन्म होता है। यहाँ प्रकाश और अंधकार का मतलब सूर्य की उत्तरायण एवं दक्षिणायन स्थिति से है। सूर्य के उत्तरायण के इस वैज्ञानिक महत्व के कारण ही भीष्म ने अपने प्राण तब तक नहीं छोड़े थे, जब तक मकर संक्रान्ति यानि सूर्य की उत्तरायन स्थिति नहीं आ गई थी। इसके अलावा सूर्य के उत्तरायण की स्थिति के महत्व के बारे में छांदोग्य उपनिषद में भी वर्णन किया गया है।

मकर संक्रान्ति का महत्व हम भारतवासियों के लिए बहुत है और इसके मनाने का तरीका विविध। वैज्ञानिक महत्व को जानने के बाद आइए अब हम आपको बताते हैं कि यह त्योहार देश के अलग-अलग हिस्सों में किस नाम से और कैसे मनाया जाता है।

पंजाब की लोहड़ी

पंजाब में रहने वालों के लिए मकर संक्रान्ति या लोहड़ी सर्दियों के आख़िरी दिन का प्रतीक होता है। इसके अलावा यह फसलों से संबंधित एक त्योहार होता है, जिसे पंजाब के लोग बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं। महिलाएँ एक दिन पहले ही ‘सरसों दा साग’, ‘खिचड़ी’ और ‘गन्ने के रस से बनी खीर’ बनाना शुरू कर देती हैं। यही इनके अगले दिन का भोजन होता है।

एक दिन पहले बनने वाली ये सभी खाद्य सामग्री ही त्योहार के पूरे दिन खाते हैं। सुबह गुरुद्वारा में जाने के अलावा, दावत खाने का भरपूर आनंद लिया जाता है और फिर परिवार के साथ समय बिताया जाता है। रात में एक अलाव (आग) का आयोजन होता है, जो वास्तव में पारंपरिक लोहड़ी है। इस अलाव में कुछ पके हुए चावल, तिल के बीज, लड्डू, गुड़, मक्के का लावा (पॉपकॉर्न) के साथ अपनी सर्वश्रेष्ठ फसल अग्नि देव को समर्पित की जाती है और आग के चारों ओर घूमकर खुशहाल और समृद्ध खेती की प्रार्थना की जाती है। इस त्योहार की समाप्ति अपने पसंदीदा भाँगड़ा नाच, ताश खेलने, ‘साग’ और ‘मक्के दी रोटी’ के साथ ‘गुड़’ और ‘घी’ खाने के साथ होती है।

गुजरात की पतंग वाली संक्रान्ति

गुजरात में भी मकर संक्रान्ति का काफी महत्व है। सूर्य की उत्तरायण स्थिति गुजरात के लोगों के लिए और पूरे राज्य के गुजराती परिवारों के एक साथ मिल जाने जैसा होता है। इस ख़ास दिन की तैयारी लोग एक महीने पहले से ही शुरू कर देते हैं। दरअसल यहाँ के लोग यह योजना बनाते हैं कि वे अपने दिन को विशेष कैसे बनाएंगे क्योंकि यह पूरे सप्ताह मनाया जाता है।

हर साल गुजरात में इस ख़ास दिन पर अलग-अलग छटा बिखरी देखी जा सकती है। यहाँ आपको विभिन्न प्रकार की पतंगें, भोजन और अद्भुत सामान देखने को मिलेंगे। पतंग उड़ाने के लिए लोग दुकानदार के पास खड़े होते हैं, जब वे उनके लिए धागा (मांझा) बुन रहे होते हैं। भोजन का मेन्यू हमेशा पहले से तय कर लिया जाता है। त्योहार के लिए ‘जलेबी के साथ तिल गुड़ चिक्की,  उधिंयू पुरी (Undhiyu Puri) और फ़रसाण (Farsaan)’ यहाँ के लोगों की पसंदीदा खाद्य सामग्री होती है। युवा वर्ग महीने की शुरुआत से ही पतंग उड़ाना शुरू कर देते हैं। महिलाएँ विभिन्न भोजन-पकवान बनाना शुरू कर देती हैं।

रात में, परिवार और दोस्त अलाव के लिए इकट्ठे होते हैं। म्यूजिक स्पीकर्स या डीजे की व्यवस्था छत पर की जाती है और विभिन्न प्रकार के खेल खेले जाते हैं। चायनीज़ लालटेन (उच्च न्यायालय द्वारा प्रतिबंधित किए जाने से पहले) को आकाश में उड़ाया जाता था, जिसके बाद आसमान का नज़ारा देखते ही बनता था।

बिहार का तिलकुट

बिहार में मकर संक्रान्ति का त्योहार काफ़ी मायने रखता है। इसमें दान आदि किए जाने का भी विशेष महत्व होता है। मकर संक्रान्ति के दिन, सभी सुबह जल्दी उठकर स्नान (नहाए बिना बिहार में कुछ भी खाने की परम्परा नहीं इस दिन) करते हैं। फिर मंदिर के पंडितों को और कुछ ज़रूरतमंदों को भोजन व अन्य चीजें दान की जाती हैं। उसके बाद, दिन की ‘पूजा’ में शामिल होने की परंपरा है।

‘तिलकुट’ (तिल के साथ चीनी या गुड़ से बना) खाने के साथ दिन की शुरुआत की जाती है। दिन का मुख्य भोजन दही, दूध और गुड़ के साथ ‘चूड़ा’ (चिड़वा – जिससे पोहा बनता है) ही होता है। इसके साथ पारंपरिक सब्ज़ियों के साथ आलू, गाजर, मटर और फूलगोभी वाली तरकारी खाई जाती है। मुख्य रूप से केवल यही एक खाद्य सामग्री होती है, जिसे दिन भर खाया जाता है। दिन के समय घर में और कोई खाना नहीं बनता। यहाँ ‘पतंग उड़ाना’ इस त्योहार का सबसे मनोरंजक पहलू है। पूरा आसमान ढेरों रंग-बिरंगी पतंगों से सज जाता है। शाम तक, घर की महिलाएँ खिचड़ी तैयार करना शुरू कर देती हैं, जिसे चोखे (मैश किए हुए आलू), टमाटर की चटनी, बैंगन का भर्ता और पापड़ के साथ रात के खाने में परोसा जाता है।

ओडिशा-झारखण्ड-बंगाल में टुसू

मकर संक्रान्ति को टुसू पर्व के रूप में भी मनाए जाने की परंपरा है। टुसू पर्व ओडिशा, झारखंड और पश्चिम बंगाल के ग्रामीण इलाकों में मनाया जाने वाला फसलों से संबंधित एक उत्सव है। लोग देवी टुसू की मूर्तियाँ बनाते हैं और उनकी पूजा करते हैं। एक महीने तक चलने वाला यह मेला मकर संक्रान्ति के दिन टुसू देवी की मूर्तियों के विसर्जन के साथ समाप्त हो जाता है। महिलाएँ चमकीले रंग के कपड़े पहनती हैं और कलाकृतियों और कपड़ों से सजे बाँस के फ्रेम को उठाकर देवी से प्रार्थना करती हैं और टूसू गीत गाते हुए नदी तक जाती हैं।

यह फसल से संबंधित एक उत्सव है, इसलिए युवा लड़कियाँ अपनी प्रजनन क्षमता और अच्छे पति की भी प्रार्थना करती हैं। पूरा नदी तट एक ऐसी जगह में बदल जाता है, जहाँ लड़के अपने समुदाय की समृद्धियों की कामना करते हैं, उसे और विकसित करने की प्रार्थना करते हैं।

पश्चिम बंगाल में इस दिन परंपरागत रूप से लोग स्नान करते थे और सूर्य देव की प्रार्थना के लिए गंगा तट पर जाते थे, लेकिन अब यह प्रक्रिया अपने घरों में ही की जाती है। धार्मिक समारोहों के बाद, लोग ‘दही और चूरा’ (चिड़वा, जिससे पोहा बनता है) के साथ ‘पेठा’ (चावल, नारियल और दूध से बने) खाते हैं। इस दिन घर आए लोगों का स्वागत पेठा खिलाकर किया जाता है।

पश्चिम बंगाल के बोलपुर में शांतिनिकेतन रोड में, पौष मेला (मेला) आयोजित किया जाता है, जिसमें बहुत सारे लोग आते हैं। बड़ी संख्या में लोग हर साल इस मेले में शिरक़त करते हैं, जिसे रंग-बिरंगे तरीक़े से सजाया जाता है। यहाँ हस्तनिर्मित उत्पादों जिनमें खाद्य, बैग, आभूषणों की काफ़ी क़िस्में देखने को मिलती है। यह सभी वस्तुएँ ज़्यादातर स्थानीय कारीगरों और निवासियों द्वारा बनाई जाती हैं।

तमिलनाडु में पोंगल

तमिलनाडु में पोंगल नाम से विख्यात त्योहार असल में मकर संक्रान्ति का ही रूप है। पोंगल तमिलनाडु के लोगों के लिए चार दिन तक मनाया जाने वाला त्योहार है। चार दिन तक मनाए जाने वाले इस त्योहार को वो एक उत्सव की तरह मनाते हैं। पहला दिन, ‘भोगी पोंगल’ मनाए जाने का होता है, जिसमें पुराना सामान जलाने की परंपरा है। दूसरे दिन, पोंगल का वास्तविक त्योहार ‘सककारई पोंगल’ होता है, जिसे घर पर ही मनाया जाता है।

इस दूसरे दिन मीठे ‘पोंगल’ को सात या नौ सब्ज़ियों से बनी कढ़ी के साथ परोसा जाता है। तमिलवासी इस दिन सूर्य देव को धन्यवाद देते हैं और उन्हें ये खाद्य सामग्री प्रसाद स्वरूप भेंट करते हैं।

तीसरे दिन ‘मट्टू (गाय) पोंगल’ का होता है। चूंकि इस त्योहार का संबंध फसलों से होता है, तो किसानों को जिन उपयोगी उपकरणों की मदद से अच्छी फसल प्राप्त होती है, उनका भी विशेष महत्व होता है। अच्छी फसल प्राप्त करने के लिए गायों के योगदान को भी नहीं भूला जा सकता। इसलिए इस दिन गायों के सींग को रंगा जाता है। मुख्य द्वार पर सजे हुए तोरण लगाए जाते हैं। गाड़ियों के पहिए सजाए जाते हैं और गाँव में जल्लीकट्टू व अन्य खेल आयोजित किए जाते हैं।

फिर चौथे दिन, ‘कन्नम (देखते हुए) पोंगल’ का होता है। परंपरागत रूप से इस दिन लोग अपने परिवार के साथ पर्यटन स्थलों का भ्रमण करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

‘अर्नब इतने हताश हो जाएँगे कि उन्हें आत्महत्या करनी पड़ेगी’: स्टिंग में NCP नेता और उद्धव के मंत्री नवाब मलिक का दावा

NCP मुंबई के अध्यक्ष और उद्धव सरकार में अल्पसंख्यक विकास मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि अर्नब इसमें स्पष्ट रूप से फँस चुके हैं और इसका असर उनकी मानसिक अवस्था पर पड़ेगा।

मुंबई: पूर्व असिस्टेंट कमिश्नर इकबाल शेख ने ‘फेक TRP स्कैम’ में रिपब्लिक टीवी की रिपोर्टिंग रोकने के लिए अदालत की ली शरण

मुंबई पुलिस के पूर्व असिस्टेंट कमिश्नर इकबाल शेख ने मुंबई के एक कोर्ट में याचिका दायर कर रिपब्लिक टीवी, आर भारत और अर्नब गोस्वामी पर कथित TRP घोटाले की रिपोर्टिंग से रोक लगाने की माँग की है।
- विज्ञापन -

मुनव्वर राणा की बेटी उरूसा ने थामा कॉन्ग्रेस का हाथ, CAA विरोध प्रदर्शन से आई थी चर्चा में

शायर मुनव्वर राणा की बेटी उरूसा कॉन्ग्रेस में शामिल हो गई हैं। इससे पहले उरूसा लखनऊ में हुए CAA विरोध प्रदर्शनों के कारण चर्चा में आई थी।

यूथ कॉन्ग्रेस प्रमुख ने मोदी सरकार के बिहार पैकेज पर फैलाई फर्जी सूचना, BJP अध्यक्ष के बयान में घुसाई अपनी गणित

यूथ कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष ने मोदी सरकार द्वारा स्वीकृत कुल पैकेज के रूप में स्वास्थ्य, शिक्षा और किसानों पर होने वाले खर्च को झूठा मानते हुए आरएसएस की शाखाओं पर कटाक्ष करने की कोशिश की।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

शीना बोरा की गुमशुदगी के बारे में जानते थे परमबीर सिंह, फिर भी नहीं हुई थी FIR

शीना बोरा जब गायब हुई तो राहुल मुखर्जी और इंद्राणी, परमबीर सिंह के पास गए। वह उस समय कोंकण रेंज के आईजी हुआ करते थे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,946FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe