Monday, April 6, 2020
होम विविध विषय भारत की बात 2 लाख का इलाज, 2300 फ़ील्ड ऑपरेशन: भारतीय सेना के रंगराज को मिलेगा 'वॉर...

2 लाख का इलाज, 2300 फ़ील्ड ऑपरेशन: भारतीय सेना के रंगराज को मिलेगा ‘वॉर हीरो’ का सबसे बड़ा युद्ध सम्मान

भारतीय सेना की इस प्लाटून एंबुलेंस ने घूम-घूम कर युद्ध क्षेत्र में ख़तरों के बीच घायल हुए सैनिकों का इलाज किया था। इस दौरान भारत के तीन सैनिक वीरगति को प्राप्त हो गए थे, जबकि 23 जवान घायल हुए थे। लगभग तीन साल (1950-53) तक चलने वाले इस युद्ध में लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराज.....

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

दक्षिण कोरिया ने 1950-53 के बीच हुए कोरियाई युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाले भारतीय सेना के लेफ़्टिनेंट कर्नल (स्वर्गीय) एजी रंगराज को अपने देश के सबसे बड़े युद्ध सम्मान ‘वॉर हीरो’ से सम्मनित करने का ऐलान किया है। 2020 में इस युद्ध को पूरे 70 साल हो जाएँगे, इसी ख़ास मौक़े पर दक्षिण कोरिया की तरफ से इस सम्मान का ऐलान किया गया। बता दें कि दक्षिण कोरिया के वॉर-वेटरन मंत्रालय की तरफ से हर साल युद्ध की याद में इस सम्मान का ऐलान किया जाता है। 


भारतीय सेना के लेफ़्टिनेंट कर्नल (स्वर्गीय) एजी रंगराज (तस्वीर साभार: www.ssbcrack.com)

नई दिल्ली स्थित कोरियन एंबेसी के कर्नल ली इन ने बताया कि कोरिया की तरफ से लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराज को उनके महान कार्यों के लिए यह सम्मान दिया जा रहा है। साथ ही सियोल में मौजूद कोरियन वॉर मेमोरियल में अगले साल जुलाई 2020 में लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराज की एक बड़ी-सी तस्वीर भी लगाई जाएगी।  

आइए अब आपको बताते हैं भारतीय सेना के लेफ़्टिनेंट कर्नल (स्वर्गीय) एजी रंगराज के बारे में, जिनकी अगुआई में 60वीं पैराशूट फ़ील्ड एंबुलेंस ने नॉर्थ और साउथ कोरिया के बीच हुए युद्ध में मोबाइल आर्मी सर्जिकल हॉस्पिटल (MASH) चलाया गया था। 

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

दरअसल, यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि 1950 में जब उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच युद्ध हुआ था, तो भारतीय सेना ने किसी एक सेना का साथ देने की बजाए एक तटस्थ भूमिका निभाते हुए अपनी एक मोबाइल मिलिट्री एंबुलेंस प्लाटून को एशिया के सुदूर-पूर्व में युद्ध के मैदान में भेजा था। यही प्लाटून थी 60वीं पैराशूट फ़ील्ड एंबुलेंस प्लाटून। लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराज इसी पलाटून के कमांडर (प्लाटून-कमांडर) थे जिसमें कुल 627 जवान थे। 

भारतीय सेना की इस प्लाटून एंबुलेंस ने घूम-घूम कर युद्ध क्षेत्र में ख़तरों के बीच घायल हुए सैनिकों का इलाज किया था। इस दौरान भारत के तीन सैनिक वीरगति को प्राप्त हो गए थे, जबकि 23 जवान घायल हुए थे। लगभग तीन साल (1950-53) तक चलने वाले इस युद्ध में लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराजन पूरी मुस्तैदी के साथ वहाँ डटे रहे। उनके इस अदम्य साहस के लिए भारत सरकार ने उन्हे महावीर चक्र से भी सम्मानित किया था।

जानकारी के अनुसार, कर्नल रंगराज ख़ासतौर पर पहाड़ के संचालन के लिए प्रशिक्षित थे, जैसे कोरियन होते थे, और उनके पास इस तरह के काम के लिए आला दर्जें के उपकरण थे। भारतीय सेना भीषण सर्दी से जूझती हुई भीषण युद्ध के दौरान इलाज कर रही थी। 

मार्च 1951 में, युद्ध के दूसरे सबसे बड़े हवाई ऑपरेशन, ऑपरेशन टॉमहॉक में, 4,000 अमेरिकी सैनिकों के साथ लाइनों के पीछे 60वीं पैराशूट में एक दर्जन डॉक्टर्स थे, जिसमें रंगराज भी मौजूद थे।

उस समय काफ़ी जनहानि हुई थी। अमेरिका के कमांडर के अनुसार, “मुझे भारतीयों की दक्षता से तुरंत धक्का लगा। एक छोटी भूमिका में अनुकूलित उस छोटी इकाई ने 103 ऑपरेशन किए थे। जो उस तरह की छोटी इकाई के लिए बड़े साहस की बात थी।”

सितंबर, 1951 में, राष्ट्रमंडल सैनिकों से जुड़े रहने के दौरान, उन्होंने छ: दिनों की लड़ाई में 448 हताहतों का इलाज किया। भारतीयों ने सैकड़ों घायलों को बचाया। कुल मिलाकर, उन्होंने लगभग 200,000 घायलों का इलाज किया। इसमें 2,300 फ़ील्ड मेडिकल ऑपरेशन शामिल थे… और इस बीच, उन्होंने स्थानीय कोरियाई डॉक्टर्स और नर्सों को भी प्रशिक्षित किया।

भारत ने लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराज को श्रद्धांजलि स्वरूप उनकी वीरता को सम्मानित करते हुए एक डाक टिकट भी जारी किया। 60 के दशक में लेफ़्टिनेंट कर्नल एजी रंगराजन की अगुआई में भारतीय सेना के जवानों ने कोरिया में फरवरी 1954 तक (क़रीब साढ़े तीन साल तक) सेवा की।

2010 में दक्षिण कोरिया के पूर्व राष्ट्रपति ली म्युंग-बाक ने टिप्पणी की थी कि अगर भारतीय सेना के जवानों ने बलिदान न दिया होता, तो कोरिया ऐसा न होता जैसा वो आज है।

आपको बता दें कि कोरियाई युद्ध में मारे गए सैनिकों की याद में दक्षिण कोरिया ने राजधानी सिओल में वॉर मेमोरियल बनाया है। उस वॉर मेमोरियल में ‘भारत’ के नाम से अलग स्मारक बनाया गया है जहाँ तिरंगा झंडा बड़ी शान से लहराता रहता है। उस स्मारक पर 60वीं पैराशूट फील्ड एंबुलेस प्लाटून की उपलब्धियों के विषय में लिखा है।

इन उपलब्धियों के विषय में लिखा है कि भारतीय सैनिकों ने कोरियाई युद्ध के दौरान ‘लैंड ऑफ मॉर्निंग काम’ में आजादी और शांति के लिए अपना खून-पसीना बहाया था जो दोनों देशों के बीच प्रगाढ़ सबंधों को बयां करता है। ये फील्ड एंबुलेंस इन दिनों आगरा में तैनात रहती है और जब भी कोई नया कोरियाई राजदूत भारत पहुँचता है वो इस यूनिट में ज़रूर एक विजिट करता है।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

ताज़ा ख़बरें

वो 20 खबरें जो ‘नौ बजे नौ मिनट’ के बाद लिब्रान्डू-वामपंथी मीडिया फैला सकती है

सोशल मीडिया समेत ऑपइंडिया के भी कुछ सुझाव हैं कि आने वाले समय में 'नौ बजे नौ मिनट' के नाम पर कैसी दर्द भरी कहानियाँ आ सकती हैं। हमने ये सुझाव वामपंथियों की कम होती क्रिएटिविटी के कारण उन पर तरस खाकर दिए हैं।

4.1 दिन में ही दोगुनी हो गई कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या, तबलीगी जमात नहीं होता तो लगते 7.1 दिन

कल से आज तक 472 नए मामले सामने आए हैं, जिससे देश में कोरोना संक्रमित कुल मामलों की संख्या अब 3374 तक पहुँच चुकी है। अग्रवाल ने यह भी बताया कि अब तक देश के 274 जिलों से कोरोना संक्रमण के केसेस आ चुके हैं। जबकि भारत में अब तक कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या 79 हो चुकी है, जिसमें से 11 शनिवार और रविवार को मिलाकर हुई हैं।

तबलीगी कारनामे की लीपापोती में जुटा ध्रुव राठी और गैंग, फैलाया 8 फैक्ट चेक (फर्जी) का प्रोपेगेंडा

जब 50 करोड़ हिन्दुओं को कोरोना से खत्म करने की दुआ करता मौलवी गिरफ्तार होता है, या फिर TikTok पर युवक इसे अल्लाह का कहर बताते नजर आते हैं, तो लोगों की जिज्ञासा एक बार के लिए मुस्लिम समुदाय पर सवाल खड़े जरूर कर देती है। ऑल्ट न्यूज़ जैसे फैक्ट चेकर्स के कंधे पर बंदूक रखकर दक्षिणपंथियों के दावों को खारिज करने का दावा करने वाला ध्रुव राठी यहाँ पर एक बार फिर सस्ती लोकप्रियता जुगाड़ते व्यक्ति से ज्यादा कुछ भी नजर नहीं आते।

राहुल-थरूर को ठेंगा दिखा इस कॉन्ग्रेसी नेता ने कर दिया PM मोदी का समर्थन, MP कॉन्ग्रेस में एक और फूट!

ग्वालियर से कॉन्ग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने प्रधानमंत्री मोदी के रात नौ बजे नौ मिनट पर 'दिया जलाने' की मुहिम का समर्थन करने का एलान कर दिया। ट्विटर पर पूर्व प्रधानंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता "आओ फिर से दिया जलाएँ" के जरिए उन्होंने कहा कि यही एकता प्रदर्शित करने का समय है और...

AIMIM के नहीं हैं 5 सांसद, इसके लिए मोदी जिम्मेदार: मीटिंग का बुलावा न मिलने पर ओवैसी ने बताया अपमान

ओवैसी के ये सारे आरोप महज राजनीति से ही प्रेरित नजर आते हैं क्योंकि प्रधामंत्री कार्यालय की तरफ से इस संदर्भ में जो प्रेस रिलीज जारी की गई है, उसमें यह स्पष्ट तौर पर रेखांकित है कि प्रधामंत्री इस विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली मीटिंग में सिर्फ उन्हीं राजनीतिक दलों के फ्लोर लीडर्स से बात करेंगे, जिनके सदस्यों की संख्या दोनों सदनों में मिलाकर कम से कम 5 है।

सरकार जान से मार देगी, नहीं लेंगे दवा-सूई: जमातियों का हॉस्पिटल में हँगामा, DM ने मुस्लिम डॉक्टर को बुलाकर समझाया

26 तबलीगी जमात के सदस्यों को दरियापुर से लाकर सोला के सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जब मेडिकल टीम ने उनकी जाँच करने की कोशिश की, तो उन्होंने जाँच करवाने से मना करते हुए हँगामा खड़ा कर दिया। इनका आरोप था कि सरकार इन्हें जान से मारने की कोशिश कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

फलों पर थूकने वाले शेरू मियाँ पर FIR पर बेटी ने कहा- अब्बू नोट गिनने की आदत के कारण ऐसा करते हैं

फल बेचने वाले शेरू मियाँ का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा था, जिसमें वो फलों पर थूक लगाते हुए देखे जा रहे थे। इसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई कर गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनकी बेटी फिजा का कुछ और ही कहना है।

वैष्णो देवी गए 145 को हुआ कोरोना: पत्रकार अली ने फैलाया झूठ, कमलेश तिवारी की हत्या का मनाया था जश्न

कई लोग मीडिया पर आरोप लगा रहे थे कि जब किसी हिन्दू धार्मिक स्थल में श्रद्धालु होते हैं तो उन्हें 'फँसा हुआ' बताया जाता है जबकि मस्जिद के मामले में 'छिपा हुआ' कहा जाता है। इसके बाद फेक न्यूज़ का दौर शुरू हुआ, जिसे अली सोहराब जैसों ने हज़ारों तक फैलाया।

नर्सों के सामने नंगे हुए जमाती: वायर की आरफा खानम का दिल है कि मानता नहीं

आरफा की मानें तो नर्सें झूठ बोल रही हैं और प्रोपेगेंडा में शामिल हैं। तबलीगी जमात वाले नीच हरकत कर ही नहीं सकते, क्योंकि वे नि:स्वार्थ भाव से मजहब की सेवा कर रहे हैं। इसके लिए दुनियादारी, यहॉं तक कि अपने परिवार से भी दूर रहते हैं।

मधुबनी, कैमूर, सिवान में सामूहिक नमाज: मस्जिद के बाहर लाठी लेकर औरतें दे रही थी पहरा

अंधाराठाढ़ी प्रखंड के हरना गॉंव में सामूहिक रूप से नमाज अदा की गई। यहॉं से तबलीगी जमात के 11 सदस्य क्वारंटाइन में भेजे गए हैं। बताया जाता है कि वे भी नमाज में शामिल थे। पुरुष जब भीतर नमाज अदा कर रहे थे दर्जनों औरतें लाठी और मिर्च पाउडर लेकर बाहर खड़ी थीं।

जो लाइट्स ऑफ करेगा, उनके दरवाजे पर चॉक से निशान बनेगा: TMC अपनाएगी हिटलर वाला तरीका

पीएम मोदी ने लोगों से 5 अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट के लिए घर की सभी लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील कर रखी है। टीएमसी से जुड़े प्रसून भौमिक ने अपने फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि जो ऐसा करेंगे उनके घरों के दरवाजे पर निशान लगा कर चिह्नित किया जाएगा।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

172,802FansLike
53,692FollowersFollow
213,000SubscribersSubscribe
Advertisements