पाकिस्तान का कर्ज 6 हज़ार अरब से बढ़कर 30 हज़ार अरब रुपए के पार, 30 जून है डेडलाइन

इमरान ने सरकार के खर्चे काट कर किसी तरह देश चलाने की भी तरकीब निकालने की कोशिश की, इसके लिए लक्जरी कारों से लेकर भैंस तक की नीलामी की थी। बता दें कि इमरान खान ने किसी तरह देश की डूबती अर्थव्यवस्था को हल्का सा सहारा देने के लिए प्रधानमंत्री आवास की 102 लग्जरी कारों में से 70 कारें बेंच दी थीं।

आतंक और आतंकियों की शरणस्थली पाकिस्तान की हालत बेहद खस्ता है। पाकिस्तान में मंगलवार (जून 11, 2019) को बजट-2019 पेश किया गया। चिंता की बात यह है कि पाकिस्तान में बजट पेश होने से एक दिन पहले यानी सोमवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाक की चरमराई आर्थिक स्थिति जनता के सामने रखते हुए इमरान ने कहा, “आप सभी से मेरी अपील है कि संपत्ति घोषित स्कीम में हिस्सा लें।

इमरान खान ने कहा कि पिछले 10 साल में पाकिस्तान का कर्ज 6 हजार अरब रुपए से बढ़कर 30 हजार अरब रुपए तक पहुँच गया है। कर्ज में डूबे पाकिस्तान की हालत बेहद पतली हो गई है। देश की स्थिति में थोड़ी सी सुधार की आस में इमरान खान को कहना पड़ा कि अगर आप टैक्स नहीं देते तो हम देश को आगे नहीं ले जा सकेंगे।”

इमरान खान ने चरमराई पाक की अर्थव्यवस्था को कुछ यूँ समझाया, उन्होंने कहा कि जो आप सालाना टैक्स जमा करते हैं, तक़रीबन 4 हजार अरब रुपया, उसमें से आधा टैक्स इन कर्ज की किस्तें अदा करने में चली जाती है। जो बाकी पैसा बचता है उसमें यह मुल्क अपने खर्चे पूरा नहीं कर सकता है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें पाकिस्तान को पश्त हालात से निकालने के लिए लोगों से अधिक से अधिक टैक्स देने। साथ ही 30 जून 2019 तक का अपनी आवाम को वक़्त दिया है, जिसके अंदर उन्हें अपनी बेनामी संपत्ति, बेनामी बैंक अकाउंट को घोषित करने की अपील की है। इमरान ने यहाँ तक कहा है कि उनके अधिकारियों को सब पता है। इमरान खान को ऐसा इसलिए करना पद रहा है कि इस समय पाकिस्तान के पास अपनी रोजमर्रा के खर्च चलाने के लिए भी पर्याप्त पैसे नहीं हैं।

इस समय पाकिस्तान की स्थिति बहुत ही ख़राब है, उस पर से आतंकी छवि होने और चरमराई अर्थव्यस्था के कारण इस समय पाकिस्तान को कोई भी देश क़र्ज़ भी देने को तैयार नहीं है। इमरान खान ने खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेते हुए कहा था कि अपने समूचे इतिहास में देश इतना ऋणग्रस्त कभी नहीं रहा, जितना पिछले 10 साल में हो गया है।

इमरान ने सरकार के खर्चे काट कर किसी तरह देश चलाने की भी तरकीब निकालने की कोशिश की, इसके लिए लक्जरी कारों से लेकर भैंस तक की नीलामी की थी। बता दें कि इमरान खान ने किसी तरह देश की डूबती अर्थव्यवस्था को हल्का सा सहारा देने के लिए प्रधानमंत्री आवास की 102 लग्जरी कारों में से 70 कारें बेंच दी थीं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बता दें कि पाकिस्‍तान में 11 जून, 2019 को आम बजट पेश किया गया है। यह इमरान खान सरकार का पहला बजट है। इस बार का बजट 7.022 लाख करोड़ पाकिस्‍तानी रुपए का है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: