Tuesday, October 19, 2021
Homeविविध विषयभारत की बातट्रेन पर मिथिला पेंटिंग देख चमत्कृत हुए जापान और कनाडा, कहा 'हमें भी चाहिए'

ट्रेन पर मिथिला पेंटिंग देख चमत्कृत हुए जापान और कनाडा, कहा ‘हमें भी चाहिए’

भारत में कई ट्रेनों पर पहले ही मिथिला पेंटिंग उकेरी जा चुकी है और वो लोगों को काफ़ी पसंद भी आ रही हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) भी मिथिला पेंटिंग वाले ट्रेनों की प्रशंसा कर चुका है।

बिहार की संस्कृति की धमक अब दुनिया भर में सुनाई देने लगी है। जापान और कनाडा जैसे देश मिथिला पेंटिंग से अभिभूत हैं और उन्होंने इसकी माँग भी कर दी है। जापान को मिथिला पेंटिंग इतना पसंद आ गई है कि उसने मिथिला पेंटिंग करने वाले चित्रकारों की एक टीम की माँग की है। जापान की तरफ से भारत को इसके लिए अनुरोध पत्र भेजा गया है। ऐसे में, कल को अगर आप जापान जाते हैं और आपको वहाँ की रेलगाड़ियों पर मिथिला पेंटिंग्स दिखते हैं, तो चौंकने की ज़रूरत नहीं है।

महानंदा एक्सप्रेस से होकर मिथिला पेंटिंग बंगाल पहुँची

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस बारे में ट्वीट कर जानकारी देते हुए लिखा कि भारत की मिथिला पेंटिंग्स जब ट्रेन पर उकेरी गई तो इसने देश के साथ विदेशियों को भी अपनी सुंदरता से प्रभावित किया। उन्होंने बताया कि जापान ने मिथिला पेंटिंग्स की ख़ूबसूरती को देखकर इस कला के चित्रकारों की टीम भेजने का अनुरोध किया है। भारत सरकार ने भी मित्र राष्ट्र जापान के इस अनुरोध को सहर्ष स्वीकार कर लिया है।

जापान के बाद अब कनाडा ने भी मिथिला पेंटिंग के चित्रकारों की एक टीम की माँग की है ताकि वहाँ की ट्रेनों पर भी मिथिला पेंटिंग उकेरी जा सके। कनाडा रेलवे बोर्ड के निदेशक ने भारत सरकार को भेजे अपने अनुरोध पत्र में कहा:

“मिथिला पेंटिंग्स न सिर्फ़ पर्यटकों व यात्रियों को आकर्षित करती है, बल्कि इसे देखने के बाद एक सकारात्मक विचार मन में उत्पन्न होता है। जब भी व्यक्ति तनाव में रहता है तो सकारात्मक चित्र या अच्छे माहौल में रहने से वह कम होता है। ऐसे में यदि भारत सरकार कलाकारों की टीम को कनाडा भेजती है तो यहाँ की प्रमुख ट्रेनों की बोगियों पर इस पेंटिंग्स को उकेरा जाएगा ।”

भारत में कई ट्रेनों पर पहले ही मिथिला पेंटिंग उकेरी जा चुकी है और वो लोगों को काफ़ी पसंद भी आ रही हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ (UN) भी मिथिला पेंटिंग वाले ट्रेनों की प्रशंसा कर चुका है। भारतीय रेलवे ने कहा है कि जापान और कनाडा भेजने के लिए मिथिला पेंटिंग के कलाकारों का चयन किया जा रहा है और जल्द ही टीम तैयार कर उन देशों में भेजी जाएगी। मिथिला पेंटिंग को मधुबनी पेंटिंग भी कहते हैं।

मिथिला पेंटिंग ने संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की सुंदरता में चार चाँद लगा दिए

आपको ये जान कर सुखद आश्चर्य होगा कि यहाँ से हज़ारों कोस दूर जापान के निगाता में एक मिथिला म्यूज़ियम है, जिसमे मिथिला पेंटिंग की एक अलग ही दुनिया बसी हुई है। 15 हज़ार से भी ज़्यादा मिथिला पेंटिंग्स के साथ सुशोभित यह म्यूज़ियम भारत से मिथिला कलाकारों को आमंत्रित करता रहा है और उनके रहने, खाने की भी व्यवस्था करता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe