Thursday, August 18, 2022
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिओडिशा का लिंगराज मंदिर जहाँ शिवलिंग में मौजूद है 12 ज्योतिर्लिंगों का अंश, गैर-हिंदुओं...

ओडिशा का लिंगराज मंदिर जहाँ शिवलिंग में मौजूद है 12 ज्योतिर्लिंगों का अंश, गैर-हिंदुओं का प्रवेश है वर्जित

लिंगराज मंदिर अपने कड़े नियमों के लिए जाना जाता है। यहाँ गैर-हिंदुओं का प्रवेश पूर्णतः वर्जित है लेकिन मंदिर के बाहर एक बड़ा चबूतरा है, जहाँ से गैर-हिन्दू मंदिर के अंदर के दिव्य वातावरण के दर्शन कर सकते हैं।

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में स्थित है लिंगराज मंदिर जो भगवान शिव को समर्पित है। भुवनेश्वर के सबसे पुराने मंदिरों में से एक लिंगराज मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में हुआ था। राक्षसों से युद्ध के बाद थकी और प्यासी माता पार्वती को जल उपलब्ध कराने के लिए इस स्थान पर भगवान शिव ने एक कूप का रूप धारण किया था और सभी नदियों को यहीं बुला लिया था।

1400 साल पुराना है मंदिर का इतिहास

180 फुट ऊँचे लिंगराज मंदिर का निर्माण सोमवंशी शासकों द्वारा कराया गया था। बाद में गंग वंश के शासकों ने भी लिंगराज मंदिर का पुनर्निर्माण कराया। हालाँकि मंदिर का वर्तमान स्वरूप सन् 1090 से सन् 1104 के दौरान हुआ लेकिन मंदिर के कुछ हिस्से 1400 वर्ष पुराने हैं। छठवीं शताब्दी के उपलब्ध लेखों से यह ज्ञात होता है कि लिंगराज मंदिर का निर्माण ललाटेंदु केशरी ने सन् 615 से सन् 657 के बीच करवाया था।

मंदिर के विषय में एक धार्मिक मान्यता है कि लिट्टी तथा वसा नाम के दो राक्षसों से माता पार्वती का भीषण युद्ध हुआ। माता पार्वती ने इन दोनों राक्षसों का वध इसी स्थान पर किया लेकिन युद्ध के कारण माता पार्वती को प्यास लगी। ऐसी स्थिति में माता पार्वती की सहायता करने के लिए भगवान शिव ने कूप का रूप धारण कर लिया और सभी नदियों को योगदान देने के लिए वहीं बुला लिया। इसके बाद से इस स्थान पर भगवान शिव कीर्तिवास के रूप में पूजे जाने लगे। बाद में भगवान शिव को हरिहर या भुवनेश्वर के रूप में जाना गया। मंदिर में भगवान शिव के अलावा भगवान विष्णु की मूर्तियाँ भी विराजित हैं।

मंदिर के गर्भगृह में स्थापित है एक महान शिवलिंग, जो स्वयंभू माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि मंदिर के गर्भगृह में स्थापित 8 फुट मोटे शिवलिंग में देश के विभिन्न कोनों में स्थित द्वादश ज्योतिर्लिंगों के अंश समाहित हैं। यही कारण है कि यहाँ भगवान शिव को लिंगराज कहा जाता है।

लिंगराज मंदिर की वास्तुकला

लिंगराज मंदिर कलिंग वास्तुकला का सर्वोच्च उदाहरण है। मंदिर की नक्काशी को देखकर कोई भी यह सोच सकता है कि क्या एक व्यक्ति इतनी सुंदर और सूक्ष्म कलाकृतियाँ अपने हाथों से बना सकता है? मंदिर का निर्माण देउल शैली में किया गया है। मंदिर के चार घटक हैं, विमान (जहाँ गर्भगृह स्थित है), जगमोहन (जो कि एक असेंबली हॉल है), नटमंदिर (उत्सव मंडप) और भोग मंडप (जहाँ प्रसाद का वितरण होता है)।

55 मीटर ऊँचा यह मंदिर लगभग ढाई लाख वर्ग फुट क्षेत्र में फैला हुआ है। मंदिर पवित्र बिन्दुसागर झील के किनारे स्थित है जो हिंदुओं के लिए परम पवित्र है। सबसे पहले बिन्दुसरोवर में स्नान किया जाता है, उसके बाद क्षेत्रपति अनंत वासुदेव के दर्शन किए जाते हैं। फिर श्रद्धालु गणेश पूजा के बाद गोपालनी देवी और शिव जी के वाहन नंदी की पूजा कर लिंगराज के दर्शन के लिए मुख्य स्थान में प्रवेश करते हैं। 

ओडिशा का यह लिंगराज मंदिर, पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर की तरह ही कड़े नियमों के लिए जाना जाता है। यहाँ गैर-हिंदुओं का प्रवेश पूर्णतः वर्जित है लेकिन मंदिर के बाहर एक बड़ा चबूतरा है, जहाँ से गैर-हिन्दू मंदिर के अंदर के दिव्य वातावरण के दर्शन कर सकते हैं। यहाँ का महाप्रसादम भी भक्तों के बीच बहुत प्रसिद्ध है। उसे मिट्टी के बर्तनों में पुजारियों द्वारा तैयार किया जाता है। पहले इसका भोग भगवान को लगाया जाता है, फिर भक्तों को बाँटा जाता है।

कैसे पहुँचे?

ओडिशा की राजधानी होने के कारण भुवनेश्वर, वायुमार्ग से सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। लिंगराज मंदिर से भुवनेश्वर हवाईअड्डे की दूरी लगभग 3 किमी है। इसके अलावा भुवनेश्वर में रेलवे मार्ग से भी देश के बड़े शहरों से आसानी से पहुँचा जा सकता है। मंदिर से भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन की दूरी लगभग 6 किमी है। सड़क मार्ग से भी भुवनेश्वर पहुँचने के मार्ग अत्यंत सुगम हैं।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ओम द्विवेदी
ओम द्विवेदी
Writer. Part time poet and photographer.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड बनवा रहा है PFI : पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा

फर्जी दस्तावेज से पीएफआई बनवा रहा है रोहिंग्याओं और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड। पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा।

श्रीकृष्ण ही सत्य हैं, अब तो ‘सुलेमान’ भी साक्षी है: द्वापर के इतिहास को आज से जोड़ती है ‘कार्तिकेय 2’, नए पैन-इंडिया स्टार का...

'कार्तिकेय 2' ने ये सुनिश्चित कर दिया है कि इस फ्रैंचाइजी जी अगली फिल्म पैन-इंडिया होगी। निखिल सिद्धार्थ का अभिनय उम्दा और उनकी स्क्रीन प्रेजेंस दमदार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,056FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe