Monday, April 19, 2021
Home विविध विषय अन्य आज ही के दिन नेहरू के कड़े विरोध के बावजूद डॉ राजेंद्र प्रसाद देश...

आज ही के दिन नेहरू के कड़े विरोध के बावजूद डॉ राजेंद्र प्रसाद देश के पहले राष्ट्रपति चुन लिए गए थे

डॉ अंबेडकर द्वारा हिंदू कोड बिल प्रस्ताव पेश करने के बाद नेहरू हर हाल में बिल को कानूनी रूप देना चाहते थे, जबकि राजेंद्र प्रसाद इस मामले में जनमत के आधार पर किसी निष्कर्ष पर पहुँचना चाहते थे।

देश के राजनीतिक इतिहास में 24 जनवरी की तारीख़ बेहद ख़ास है। इसी दिन संविधान सभा ने राजेंद्र बाबू को देश के पहले राष्ट्रपति के रूप में चुन लिया था। लेकिन राजेंद्र प्रसाद का राष्ट्रपति पद तक पहुँचना बेहद उतार-चढ़ाव से भरा हुआ था। कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता और बाद में देश के पहले प्रधानमंत्री बनने वाले पंडित नेहरू किसी भी कीमत पर राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति नहीं बनने देना चाहते थे।

नेहरू के नहीं चाहने के बावजूद कॉन्ग्रेस संगठन में मजबूत पकड़ रखने वाले सरदार पटेल ने राष्ट्रपति पद के लिए अपनी तरफ़ से संविधान सभा में राजेंद्र प्रसाद के नाम का प्रस्ताव रखा और इस तरह प्रसाद संविधान सभा द्वारा देश के पहले राष्ट्रपति चुन लिए गए। लेकिन इतना पढ़ने के बाद क्या आपने सोचा कि पंडित नेहरू आखिर क्यों डॉ प्रसाद को देश का राष्ट्रपति नहीं बनने देना चाहते थे? आइए इस सवाल का जवाब आपको बताते हैं।

राजेंद्र प्रसाद के राष्ट्रपति चुने जाने से दो साल तीन महीने पहले अक्टूबर 1947 की बात है। संविधान सभा में डॉ भीमराव अंबेडकर ने हिंदू कोड बिल नाम से एक प्रस्ताव पेश किया। इस प्रस्ताव पर बहस के दौरान संविधान सभा दो हिस्से में बँटी नजर आई।

संविधान सभा में बैठे हुए कुछ लोग हिंदू कोड बिल को कानूनी रूप देने के समर्थन में थे, जबकि कुछ इस पर किसी भी तरह की जल्दबाजी करने के पक्ष में नहीं थे। डॉ अंबेडकर द्वारा हिंदू कोड बिल प्रस्ताव पेश करने के बाद नेहरू हर हाल में बिल को कानूनी रूप देना चाहते थे, जबकि राजेंद्र प्रसाद इस मामले में जनमत के आधार पर किसी निष्कर्ष पर पहुँचना चाहते थे।

दरअसल हिंदू कोड बिल के तहत देश में रहने वाले बहुसंख्यक हिंदुओं के लिए एक नियम संहिता बनाई जानी थी। इस नियम संहिता के तहत हिंदुओं के लिए विवाह, विरासत जैसे मामले पर कानून बनाया जाना था। इस बिल के तहत हिंदुओं के लिए एक समान विवाह की व्यवस्था करने के अलावा भी कई तरह के कानून बनाए जाने थे।

इस मामले में राजेंद्र प्रसाद चाहते थे कि परंपराओं से जुड़े किसी भी मसले पर कानून बनाने से पहले पूरे देश में लोगों की राय जान लेना चाहिए। राजेंद्र प्रसाद मानते थे कि ऐसे मामलों पर महज नेताओं द्वारा बहस करके कोई कानून बनाने से बेहतर है कि आम लोगों की राय के आधार पर कानून बनाया जाना जाए।

परंपरा और संस्कृति से जुड़ाव होने की वजह से जैसे ही यह मामला सभा के समक्ष रखा गया बतौर संविधान सभा अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने तुरंत मामले में दखल दिया।

राजेंद्र प्रसाद के मामले में दख़ल देने के बाद नेहरू ने इस मसले पर सख़्त रूख अपना लिया था । यही नहीं नेहरू ने इस मसले को अपने प्रतिष्ठा से भी जोड़ लिया। इस तरह पंडित नेहरू द्वारा इस मामले में ज़ज्बाती फ़ैसले लेने से राजेंद्र प्रसाद इतने दु:खी हुए कि उन्होंने गुस्सा हो कर नेहरू को एक पत्र लिखा।

अपने पत्र में डॉ प्रसाद ने नेहरू को अलोकतांत्रिक व्यक्ति बताया। इंडिया टुडे के एक लेख में इस बात का ज़िक्र है कि नेहरू के पास पत्र भेजने से पहले राजेंद्र प्रसाद ने यह पत्र सरदार पटेल को दिखाया। पटेल ने पत्र पढ़ने के बाद अपने पास रख लिया और डॉ प्रसाद को गुस्सा करने के बजाय पार्टी में अपनी बात रखने के लिए कहा। पटेल आने वाले समय में राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनाना चाहते थे, शायद इसीलिए उन्होंने ऐसा किया था।

26 जनवरी 1950 को देश में संविधान लागू होना था। ऐसे में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना था। नेहरू सी राजगोपालाचार्य को देश का राष्ट्रपति बनाना चाहते थे। जबकि सरदार पटेल ने राजेंद्र प्रसाद का नाम आगे किया। नेहरू के नहीं चाहने के बावजूद संगठन में मजबूत पकड़ रखने की वजह से संविधान सभा द्वारा डॉ राजेंद्र प्रसाद को देश का पहला राष्ट्रपति चुन लिया गया।

राष्ट्रपति बनने के बाद भी नेहरू व राजेंद्र प्रसाद के बीच मतभेद जारी रहा। इसकी सबसे बड़ी वजह यह थी कि नेहरू आस्था व संस्कृति जैसी चीजों को ढकोसला मानते थे। जबकि इसके ठीक उल्टा राजेंद्र प्रसाद तरक्की पसंद ज़रूर थे, लेकिन अपनी परंपराओं को साथ लेकर चलना चाहते थे। राजेंद्र प्रसाद जानते थे कि वह राष्ट्र अपने स्वाभिमान को कभी नहीं गिरवी रख सकता, जहाँ के लोगों की रोम-रोम में अपनी परंपरा और संस्कृति बसती हो।

एक तरह से डॉ प्रसाद की छवि ऐसे लोगों की थी जिनका इरादा आसमान की तरह ऊँचा व विशाल था, परंतु पैर अपनी परंपरा के जमीन पर थी। जबकि नेहरू परंपरा व संस्कृति जैसी चीजों से नफ़रत करते हुए एक ऐसे भारत के निर्माण का सपना देखते थे, जिसकी बुनियाद भारतीय संस्कृति से बिल्कुल जुड़ी नहीं थी।

इसी तरह सोमनाथ मंदिर के मामले में भी राजेंद्र प्रसाद पर नेहरू अपना निजी राय थोपने लगे थे। दरअसल सोमनाथ मंदिर बनकर तैयार होने के बाद जब उद्घाटन के लिए राजेंद्र प्रसाद के पास न्योता भेजा गया तो उन्होंने इसे सहर्ष स्वीकार कर लिया।

इसके बाद नेहरू ने उनके इस फ़ैसले की जमकर आलोचना की। हालाँकि, नेहरू को करारा जवाब देते हुए डॉ प्रसाद ने कहा, “मैं एक हिंदू हूँ, लेकिन सारे धर्मों का आदर करता हूँ। कई मौकों पर चर्च, मस्जिद, दरगाह और गुरुद्वारा भी जाता रहता हूँ।”

इस तरह स्वतंत्र भारत में राजेंद्र प्रसाद आज ही के दिन एक ऐसे राष्ट्रपति के रूप चुने गए जिन्होंने धर्म, आस्था, संस्कृति व परंपराओं की जमीन पर विकसित राष्ट्र के सपने की बीज को बोया था, जो बीज आज के समय में एक पौधे का रूप ले रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुराग आनंद
अनुराग आनंद मूल रूप से (बांका ) बिहार के रहने वाले हैं। बैचलर की पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय से पूरी करने के बाद जामिया से पीजी डिप्लोमा इन हिंदी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद राजस्थान पत्रिका व दैनिक भास्कर जैसे संस्थानों में काम किया। अनुराग आनंद को कहानी और कविता लिखने का भी शौक है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जमातों के निजी हितों से पैदा हुई कोरोना की दूसरी लहर, हम फिर उसी जगह हैं जहाँ से एक साल पहले चले थे

ये स्वीकारना होगा कि इसकी शुरुआत तभी हो गई थी जब बिहार में चुनाव हो रहे थे। लेकिन तब 'स्पीकिंग ट्रुथ टू पावर' वालों ने जैसे नियमों से आँखें मूँद ली थी।

मनमोहन सिंह का PM मोदी को पत्रः पुराने मुखौटे में कॉन्ग्रेस की कोरोना पॉलिटिक्स को छिपाने की सोनिया-राहुल की नई कवायद

ऐसा लगता है कि कॉन्ग्रेस ने मान लिया है कि सोनिया या राहुल के पत्र गंभीरता नहीं जगा पाते। उसके पास किसी भी तरह के पत्र को विश्वसनीय बनाने का एक ही रास्ता है और वह है मनमोहन सिंह का हस्ताक्षर।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

मोदी सरकार ने चुपके से हटा दी कोरोना वॉरियर्स को मिलने वाली ₹50 लाख की बीमा: लिबरल मीडिया के दावों में कितना दम

दावा किया जा रहा है कि कोरोना की ड्यूटी के दौरान जान गँवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए 50 लाख की बीमा योजना केंद्र सरकार ने वापस ले ली है।

पंजाब में साल भर से गोदाम में पड़े हैं केंद्र के भेजे 250 वेंटिलेटर, दिल्ली में कोरोना की जगह ‘क्रेडिट’ के लिए लड़ रहे...

एक तरफ राज्य बेड, वेंटिलेंटर और ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं, दूसरी ओर कॉन्ग्रेस शासित पंजाब में वेंटिलेटर गोदाम में बंद करके रखे हुए हैं।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,231FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe