Wednesday, July 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यओवैसी ने इकबाल के लिए माँगी थी सुषमा स्वराज से मदद, अब कह रहे...

ओवैसी ने इकबाल के लिए माँगी थी सुषमा स्वराज से मदद, अब कह रहे हैं धन्यवाद

ओवैसी ने लिखा कि वो भारत के विदेश मंत्रालय से संपर्क में हैं और उन्होंने आश्वासन दिया है कि वे वीजा प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए सभी प्रयास कर रहे हैं।

हमेशा से BJP की आलोचना करने के लिए पहचाने जाने वाले असदुद्दीन ओवैसी ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को धन्यवाद दिया है। ओवैसी द्वारा विदेश मंत्री को यह धन्यवाद कल न्यूजीलैंड में हमले का शिकार हुए लोगों के परिवार वालों को शीघ्र से शीघ्र वहाँ भेजने के लिए किए जाने वाले प्रयासों पर दिया गया।

दरअसल, कल (मार्च 16, 2019) न्यूज़ीलैंड में हुए हमले में जो लोग घायल हुए, उसमें हैदराबाद निवासी इक़बाल जहाँगीर के भाई अहमद जहाँगीर भी शामिल हैं। हमले की खबर सुनने के बाद इकबाल अपने भाई के परिवार को सहारा देने के लिए न्यूज़ीलैंड जाना चाहते थे। इसके लिए ओवैसी ने ट्वीटर के ज़रिए सुषमा स्वराज से माँग की थी कि इकबाल के न्यूजीलैंड जाने के लिए जरूरी प्रबंधन करा दें।

इस ट्वीट के कुछ देर बाद ही, इस मामले का अपडेट देने के लिए ओवैसी ने एक और ट्वीट किया। इसमें उन्होंने कहा कि वो सुषमा स्वराज का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने खुद उन्हें अहमद के परिवार वालों को समय से न्यूज़ीलैंड पहुँचाने संबंधी प्रयासों से अवगत कराया।

ओवैसी ने लिखा कि वो भारत के विदेश मंत्रालय से संपर्क में हैं और उन्होंने आश्वासन दिया है कि वे वीजा प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए सभी प्रयास कर रहे हैं।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक अहमद जहाँगीर न्यूऑर्क में पिछले 15 सालों से हैदराबादी रेस्टरां चला रहे थे। शुक्रवार को अल-नूर मस्जिद में हुए हादसे के बाद वह गंभीर रूप से घायल हुए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके अलावा इस हमले में उन 9 भारतीय लोगों की सूची में एक नाम फरहाज अहसान का भी है, जो उस दिन मस्जिद में नमाज़ पढ़ने आए थे और तब से गायब हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -