Monday, December 6, 2021
Homeविविध विषयअन्यअसम में मोबाइल इंटरनेट सेवा फिर से चालू, ब्रॉडबैंड पहले से ही था बहाल

असम में मोबाइल इंटरनेट सेवा फिर से चालू, ब्रॉडबैंड पहले से ही था बहाल

असम में ब्रॉडबैंड सेवा पहले से ही बहाल हो चुकी है। लेकिन मोबाइल इंटरनेट सेवा शुक्रवार से चालू की गई है। इससे पहले गुवाहटी उच्च न्यायालय ने इंटरनेट सेवा बहाल करने के...

असम में शुक्रवार (दिसंबर 20, 2019) को 10 दिन के बाद इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई। नागरिकता संशोधन कानून के कारण असम में हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद सुरक्षा कारणों से इसे निलंबित किया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एयरटेल के वरिष्ठ अधिकारी ने इंटरनेट बहाली के बारे में सूचना देते हुए बताया कि शुक्रवार सुबह नौ बजे इंटरनेट पर लगा प्रतिबंध हटाया गया। उन्होंने कहा, चूँकि उन्हें हाल में प्रतिबंध जारी रखने के कोई निर्देश नहीं मिले, इसलिए उन्होंने मोबाइल इंटरनेट सेवा फिर से बहाल कर दी है।

गौरतलब है कि असम में ब्रॉडबैंड सेवा पहले से ही बहाल हो चुकी है। लेकिन मोबाइल इंटरनेट सेवा शुक्रवार से चालू की गई है। इससे पहले गुवाहटी उच्च न्यायालय ने गुरुवार को शाम 5 बजे ही इंटरनेट सेवा बहाल करने के आदेश दे दिए थे।

इधर, राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी अपनी ओर से जनता को समझाने की पूरी कोशिश रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने असम के हालातों को इंगित करते हुए कहा कि कुछ लोग गलत सूचना और फर्जी खबरें फैला रहे हैं। ये लोग समाज के दुश्मन हैं। उन्होंने कहा कि असमिया भाषा को हमेशा के लिए राज्य भाषा के रूप में संरक्षित किया जाएगा और सरकार इसे करेगी।

सीएम ने लोगों को आश्वस्त किया है कि कोई भी असम की धरती के बेटों के अधिकारों को नहीं चुरा सकता, उनकी भाषा या उनकी पहचान को कोई खतरा नहीं है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि किसी भी तरह से असम का सम्मान प्रभावित नहीं होगा। वे लोगों के समर्थन में हमेशा रहेंगे और राज्य में शांति के साथ आगे बढ़ेंगे।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के बाद असम में कुछ गलतफहमियों के चलते बीते दिनों काफी आक्रोश देखा जा रहा था। जिसके कारण राज्य के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुआ और स्थिति को नियंत्रिण में रखने के लिए इंटरनेट बंद किया गया। लेकिन अब स्थिति सुधरता देख, दोबारा इन्हें बहाल कर दिया गया और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है।

दरगाह में 3000 की भीड़, नमाज के बाद पुलिसकर्मियों पर बरसाए पत्थर: 19 पुलिसकर्मी घायल, 32 हिरासत में

CAA-विरोध की आड़ में आंतकी कनेक्शन का खुलासा: घुसे इंडियन मुजाहिदीन और सिमी के आतंकी

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पिता को 15 टुकड़ों में काटा, बैग में भरकर झेलम किनारे फेंका’: USA में पल्लवी जोशी ने दुनिया को बताया कश्मीरी पंडितों का दर्द

अभिनेत्री पल्लवी जोशी ने बताया कि 'द कश्मीर फाइल्स' के निर्माण के दौरान उन्होंने कई कश्मीरी पंडितों के इंटरव्यूज लिए, जो अपने-आप में एक दर्द भरा अनुभव था।

UAE में खुले में नमाज पर ₹20000 जुर्माना: ‘द गार्डियन’ के लिए मुस्लिम पीड़ित और हिन्दू गुंडे, सड़कों को बता रहा ‘नमाज साइट्स’

90% सुन्नी मुस्लिम जनसंख्या वाले UAE में सड़क किनारे नमाज पढ़ने पर Dh 1000 (20,484 रुपए) के जुर्माने का प्रावधान है। गुरुग्राम पर हंगामा क्यों?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,816FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe