Wednesday, May 22, 2024
Homeविविध विषयअन्यमस्जिद से ऐलान और मार दिए गए BSF के 16 जवान: बाँस में लटकाकर...

मस्जिद से ऐलान और मार दिए गए BSF के 16 जवान: बाँस में लटकाकर शव ले जाते बांग्लादेशियों की वह तस्वीर जिसे आज भी नहीं भूला है भारत

18 अप्रैल 2002 को बोराईबारी में बांग्लादेशी फौजियों ने सैकड़ों गाँव वालों के साथ मिलकर बीएसएफ के 16 जवानों की बेरहमी से हत्या कर दी थी।

16 दिसंबर 1971, वह तारीख है जिस दिन पाकिस्तानी फौज ने भारत के सामने सरेंडर किया था। 13 दिन तक चला युद्ध समाप्त हुआ था और बांग्लादेश का जन्म हुआ था। बांग्लादेश से भारत की सीमा 4000 किमी से ज्यादा की लगती है। इस सीमा से होने वाले घुसपैठ और तस्करी किस तरह भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर रहे हैं, इससे हम सब परिचित हैं। लेकिन इस सीमा पर 2001 में एक ऐसा हिंसक झड़प हुआ था, जिसमें बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) के 16 जवानों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। जवानों के क्षत-विक्षत शव, बांग्लादेशियों के कंधों पर बाँस से लटके मृत जवानों के शव की तस्वीरें जब सामने आई थी तो पूरी दुनिया हैरान रह गई थी।

भारत-बांग्लादेश की सीमा पर अब तक की यह सबसे हिंसक झड़प 18 अप्रैल 2001 को हुई थी। इसमें बांग्लादेश राइफल्स (BDR) जो अब बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (BGB) के नाम से जानी जाती है की सीधी संलिप्तता थी। कई जानकारों ने इसके पीछे पाकिस्तान की कुख्यात एजेंसी आईएसआई की साजिश होने का भी संदेह जताया था। इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय जवानों पर हमले से पहले मस्जिद से ऐलान किया गया था। यह आवाज बीएसएफ की 118वीं बटालियन के डिप्टी कमांडर रहे बीआर मंडल और उनके साथियों ने भी सुनी थी।

इस संघर्ष का केंद्र बोराईबारी था जो भारत-बांग्लादेश की सीमा पर मेघालय में है। हिंसक झड़प से दो दिन पहले बोरईबारी से करीब 200 किलोमीटर दूर पिरडीवाह गाँव (इसे पडुवा के नाम से भी जानते हैं) पर 16 अप्रैल 2001 को बांग्लादेशी जवानों ने अचानक हमला कर दिया। वहाँ रह रहे लोगों को भागने को मजबूर किया। उस गाँव में स्थित बीएसएफ की चौकी में मौजूद 31 जवानों को चारों तरफ से घेर लिया गया था। फायरिंग के बाद दोनों पक्ष बातचीत की टेबल पर आते हैं।

BDR का दावा था कि बांग्लादेश की सरकार ने उसे पिरडीवाह गाँव को मुक्त कराने का आदेश दिया है, क्योंकि भारत ने इस पर 1971 से कब्जा कर रखा है। इसके अगले दिन बांग्लादेश राइफल्स के डायरेक्टर जनरल फजलुर रहमान का एक भड़काऊ बयान आता है। उसके बाद 18 अप्रैल को बोराईबारी में बांग्लादेशी फौजियों ने सैकड़ों गाँव वालों के साथ मिलकर बीएसएफ के 16 जवानों की बेरहमी से हत्या कर दी। आरोप लगाया गया कि बीएसएफ के जवान बांग्लादेश की सीमा में घुसकर वो बीडीआर की चौकी पर कब्जा करना चाहते थे। बीएसएफ के जवानों को तड़पाने के बाद उन्हें प्वाइंट ब्लैंक रेंज से गोली मारी गई। बाद में छत विछत शवों को भारत को वापस कर दिया गया।

इसके बाद भारत की सख्ती के सामने बांग्लादेश को घुटने टेकने पड़े थे और पिरडीवाह को भारत को वापस कर दिया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -