Monday, November 28, 2022
Homeविविध विषयअन्यजिस कर्नल काजी को 50 साल से तलाश रहा पाकिस्तान उन्हें पद्मश्री: जला दिया...

जिस कर्नल काजी को 50 साल से तलाश रहा पाकिस्तान उन्हें पद्मश्री: जला दिया था घर, माँ-बहन को भी फौज ने किया था टारगेट

कर्नल जहीर 1969 के आखिर में पाकिस्तानी फौज में शामिल हुए थे। तब बांग्लादेश भी पाकिस्तान का ही हिस्सा हुआ करता था। लेकिन तब के पूर्वी पाकिस्तान और आज के बांग्लादेश में पाकिस्तानी फौजियों ने जो अत्याचार किए, उसने उनको हिलाकर रख दिया और उन्होंने अपनी ही फौज के खिलाफ मोर्चा खोल दिया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जिन शख्सियतों को पद्म पुरस्कारों से सम्मानित किया है, उनमें एक नाम कर्नल काजी सज्जाद अली जहीर का भी है। बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के इस नायक को पाकिस्तान 50 साल से तलाश रहा है। 1971 की लड़ाई में वे जान बचाकर पाकिस्तान से भारत आने में कामयाब रहे थे। बताया जाता है कि उन्होंने पाकिस्तानी फौज के कई गोपनीय दस्तावेज भारत को सौंपे थे। पाकिस्तानी फौज ने उस समय उनके घर को जला दिया था। उनकी माँ-बहन तक को टारगेट किया गया था, लेकिन वे भी जान बचाने में सफल रहीं थीं।

कर्नल काजी सज्जाद अली जहीर को पद्मश्री से सम्मानित किया गया है। उनके अलावा दो और बांग्लादेशी नागरिक संजीदा खातून और मुअज्जम अली को भी इस बार पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। कर्नल जहीर ने बांग्लादेश मुक्ति वाहिनी को प्रशिक्षण भी दिया था। पाकिस्तान ने उनकी मौत का वारंट जारी किया था।

कर्नल जहीर 1969 के आखिर में पाकिस्तानी फौज में शामिल हुए थे। तब बांग्लादेश भी पाकिस्तान का ही हिस्सा हुआ करता था। लेकिन तब के पूर्वी पाकिस्तान और आज के बांग्लादेश में पाकिस्तानी फौजियों ने जो अत्याचार किए, उसने उनको हिलाकर रख दिया और उन्होंने अपनी ही फौज के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। उन्होंने पाकिस्तान से भागकर भारत में प्रवेश किया। कर्नल जहीर के भारत आने के बाद बांग्लादेश में उनके घर को पाकिस्तानी फौज ने आग लगा दी। उनकी माँ और बहन को भी फौज ने टारगेट किया, लेकिन वो दोनों भागकर सुरक्षित ठिकाने पर पहुँच गईं।

बांग्लादेश की आजादी के बाद उन्होंने शुद्धोई मुक्तिजोद्धो नाम से एक संगठन की स्थापना की। इस संगठन ने मुक्ति संग्राम का हिस्सा रहे बांग्लादेशी और भारतीय लोगों की पहचान की। ऐसे लोगों के योगदान को दस्तावेज तैयार कर समेटा। वे आज भी बांग्लादेश में कट्टरपंथ के खिलाफ मुहिम चला रहे है। उनका मानना है कि जब तक बांग्लादेशी कट्टरपंथ और देश विरोधी ताकतों से दूर हैं तभी तक उनका मुल्क सुरक्षित है। वे जोर देकर कहते हैं बांग्लादेश को सुरक्षित रखने के लिए पाकिस्तान मॉडल के पैरोकारों को दूर रखना ही होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मदरसों में पढ़ रहे आठवीं तक के छात्रों को अब नहीं मिलेगी स्कॉलरशिप, पिछले साल 16558 मदरसों के 5 लाख बच्चों को मिला था

केंद्र की मोदी सरकार ने फैसला लिया है कि मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को जो छात्रवृत्ति मिलती है वो 1 से 8 कक्षा तक नहीं मिलेगी।

चीन के कई शहरों में फैला प्रदर्शन, सड़कों पर उतरे छात्र: शी जिनपिंग के खिलाफ नारेबाजी, पत्रकार को पुलिस ने पीटा

चीन में शी जिनपिंग के खिलाफ होता विरोध प्रदर्शन देश के कई शहरों में फैल गया है। लोग उस इलाके तक आ गए हैं जहाँ सबसे ज्यादा एबेंसी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,826FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe