Thursday, May 30, 2024
Homeविविध विषयअन्यKL राहुल और हार्दिक पांड्या पर BCCI ने लगाया 20-20 लाख का जुर्माना

KL राहुल और हार्दिक पांड्या पर BCCI ने लगाया 20-20 लाख का जुर्माना

दोनों ने बॉलीवुड डायरेक्टर करण जौहर के शो 'कॉफी विद करण' पर महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक बातें कहीं जिसके बाद इन दोनों के खिलाफ जाँच के आदेश दिए गए थे और इन दोनों खिलाड़ियों पर अस्थायी प्रतिबंध भी लगाया गया था।

महिलाओं पर अभद्र टिप्‍पणी के मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने एक नज़ीर पेश करते हुए हार्दिक पांड्या और केएल राहुल पर कार्रवाई की है। बीसीसीआई ने दोनों पर अर्थ दंड के रूप में 20-20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। इसके लिए दोनों क्रिकेटरों को 4 सप्ताह का समय दिया गया है।  

बता दें कि बीसीसीआई की ओर से दोनों खिलाड़ियों पर लगाए गए 20 लाख रुपए के जुर्माने में से 1-1 लाख रुपए की रकम ड्यूटी के दौरान शहीद हुए सुरक्षा बलों के 10 कांस्‍टेबलों के परिवारों को देने को कहा गया है। बची हुई 10 लाख रुपए की धनराशि को दृष्टिबाधितों के लिए बनाए गए क्रिकेट एसोसिएशन के फंड में जमा कराने के निर्देश दिए गए हैं। इस रकम से दृष्टिबाधित लोगों के लिए खेल का प्रमोशन किया जाएगा।

बीसीसीआई ने कहा कि अर्थ-दंड की रकम चुकाने के लिए खिलाड़ियों को एक महीने का समय दिया गया है। बोर्ड का कहना है कि अगर तय समय में दोनों ने जुर्माना नहीं चुकाया तो यह रकम उनकी मैच फीस से काटी जाएगी।

पूरा मामला यह है कि दोनों ने बॉलीवुड डायरेक्टर करण जौहर के शो ‘कॉफी विद करण’ पर महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक बातें कहीं जिसके बाद इन दोनों के खिलाफ जाँच के आदेश दिए गए थे और इन दोनों खिलाड़ियों पर अस्थायी प्रतिबंध भी लगाया गया था।

हालाँकि, बाद में पांड्या और राहुल ने इस विवाद के बाद माफी भी माँगी थी। जिसे नाकाफी मानते हुए महिलाओं के खिलाफ दिए गए विवादास्पद बयान को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के लोकपाल डीके जैन ने हार्दिक पांड्या और बल्लेबाज लोकेश राहुल को नोटिस थमा दिया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -