Friday, December 3, 2021
Homeविविध विषयअन्यबंगाल की खाड़ी में Nivar चक्रवा: तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की ओर बढ़ रहा...

बंगाल की खाड़ी में Nivar चक्रवा: तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश की ओर बढ़ रहा है, जानिए क्या हो सकता है असर

बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान निवार की वजह से तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग द्वारा जारी चक्रवाती तूफान निवार की चेतावनी के बाद तमिलनाडु के नागापट्टिनम और कराईकल क्षेत्रों में राष्ट्रीय आपदा बचाव दल (NDRF) की 6 टीमों को अलर्ट किया गया है।

दक्षिण-पश्चिम तटों और बंगाल की दक्षिणी खाड़ी में हवा का दबाव बढ़ने की वजह से तमिलनाडु और पुडुचेरी में चक्रवात ‘निवार’ (Cyclone Nivar) का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटों में इस तेज हवा के तूफान में तब्दील होने की आशंका है। 

कब टकराएगा तट से

इस तूफान के 25 नवंबर को तमिलनाडु और पुडुचेरी के तट पर बसे इलाके कराईकल और मामल्लापुरम पहुँचने का अनुमान है। अगर हवा का दबाव उत्तर-पश्चिम की ओर जाता है, तो निवार तूफान उत्तर-पूर्व होते हुए 24 नवंबर को श्रीलंकाई तटों पर पहुँच सकता है।

इन इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट

निवार तूफान के प्रभाव से तटीय इलाकों में समान्य से अधिक बारिश हो सकती है। बारिश के साथ तेज हवाएँ भी इन इलाकों की परेशानियाँ बढ़ा सकती हैं। तूफान के प्रभाव की वजह से साउथ पेनिनसुलर इंडिया के क्षेत्रों में बारिश सामान्य की तुलना में ज्यादा होने की संभावना है। वहीं, 24 से 26 नवंबर के बीच इस तूफान के प्रभाव से आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों रायलसीमा और तेलंगाना में भारी बारिश की संभावना है।

NDRF की टीम तैनात

बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान निवार की वजह से तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग द्वारा जारी चक्रवाती तूफान निवार की चेतावनी के बाद तमिलनाडु के नागापट्टिनम और कराईकल क्षेत्रों में राष्ट्रीय आपदा बचाव दल (NDRF) की 6 टीमों को अलर्ट किया गया है।

फिलहाल कहाँ है ये तूफान

मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान निवार के अगले 24 घंटे में तमिलनाडु और पुडुचेरी तटों को पार करने का अनुमान है। फिलहाल चक्रवाती तूफान पुडुचेरी से 600 किलोमीटर दक्षिण जबकि चेन्नई से दक्षिण पूर्व में 630 किलोमीटर दूर है। अगले 24 घंटे में ये चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। इस दौरान हवा की गति धीरे-धीरे बढ़ेगी। बंगाल की दक्षिण-पश्चिम खाड़ी और तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों पर 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएँ चल सकती हैं। 

मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह 

मौसम विभाग ने अपने अनुमान में कहा है कि तमिलनाडु और पुडुचेरी में 24 से 25 नंवबर और आंध्र प्रदेश के दक्षिणी और रायलसीमा में 25 से 26 नवंबर और तेलंगाना में 26 नंवबर को भारी बारिश होगी। मौसम विभाग ने इस दौरान मछुआरों को समुद्र तट पर न जाने और सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा राहत और बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की टीमों को भी अलर्ट रहने को कहा गया है।

चेन्नई के क्षेत्रीय मौसम विभाग के डिप्टी निदेशक एस बालाचंद्रन का कहना है कि तटीय जिलों में सोमवार से ही बारिश पड़ सकती है जो कि धीरे-धीरे चक्रवाती तूफान में बदल जाएगी। उन्होंने कहा कि मंगलवार और बुधवार को तटीय इलाकों में भारी बारिश के आसार हैं। 

बताया जा रहा है कि नागपट्टिनम से लेकर चेन्नई के बीच का समूचा तटीय क्षेत्र 36 घंटों के लिए भयानक मौसम का अनुभव कर सकता है। इस दौरान सम्पत्तियों को व्यापक नुकसान की आशंका है। चेन्नई और पुडुचेरी के बीच तटीय इलाकों पर 25 नवंबर का दिन भारी पड़ सकता है। निचले इलाकों में बारिश का पानी भर सकता है और कई इलाकों में बाढ़ का संकट भी पैदा हो सकता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe