Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयअन्यअब तक 5 वीरता पुरस्कार लेने वाले हर्षपाल सिंह: गोली-छर्रे लगने से गंभीर रूप...

अब तक 5 वीरता पुरस्कार लेने वाले हर्षपाल सिंह: गोली-छर्रे लगने से गंभीर रूप से घायल फिर भी…

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में तैनात डिप्टी कमांडेंट हर्षपाल ने 31 मई 2008 को वीरता के लिए अपना पहला पुलिस पदक प्राप्त किया था। जिस ऑपरेशन के लिए उन्हें यह पुलिस पदक मिला था, वह...

73वें स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर देश के लिए वीरता और साहस का परिचय देने वाले वीर जवानों को पुरस्कार को सम्मानित किया जाएगा। जहाँ एक तरफ एयरफोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को वीर चक्र से सम्मानित किया जाएगा। तो वहीं, भारतीय वायुसेना की ही स्क्वैड्रन लीडर मिंटी अग्रवाल को युद्ध सेवा मेडल देने का ऐलान किया गया है। इसके अलावा केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF) के डेप्युटी कमांडेंट हर्षपाल सिंह को भी उनकी वीरता के लिए कीर्ति चक्र से सम्मानित किया जाएगा।

CRPF में शामिल होने के बाद से 38 वर्षीय हर्षपाल सिंह का यह पाँचवा वीरता पुरस्कार है। हर्षपाल और उनकी टीम ने जम्मू में झज्जर – कोटली में पिछले सितंबर में तीन आतंकवादियों का ख़ात्मा किया था। मुठभेड़ में गोली और छर्रे लगने से वो गंभीर रूप से घायल हो गए थे, पर वो आतंकियों के सामने मज़बूती से डटे रहे और उन्हें मार गिराने तक पीछे नहीं हटे।

कीर्ति चक्र मिलने से खुश हर्षपाल सिंह ने कहा, “इस पुरस्कार को पाकर मैं काफी गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। मैं अपनी बटालियन और संगठन के लिए भी अच्छा महसूस कर रहा हूँ। ऑपरेशन के दौरान जिन वीर साथियों ने मेरा साथ दिया और मेरे निर्णय के साथ खड़े रहे, मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूँ।”

हर्षपाल सिंह को वीरता के लिए तीन पुलिस पदक और वीरता के लिए झारखंड के मुख्यमंत्री के पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है। महानिदेशक, CRPF आरआर भटनागर ने कहा, “यह अत्यंत दुर्लभ है। हमें बेहद गर्व है। यह एक बहुत अच्छा सम्मान है।” 

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में तैनात डिप्टी कमांडेंट हर्षपाल ने 31 मई 2008 को वीरता के लिए अपना पहला पुलिस पदक प्राप्त किया था। जिस ऑपरेशन के लिए उन्हें यह पुलिस पदक मिला था, वह झारखंड के खुंटी जिले के चुंदरमांडू में हुआ था। यहाँ उन्हें खुंटी में वरिष्ठ माओवादी नेताओं की बैठक के बारे में खुफिया जानकारी मिली थी। और इसी जानकारी के आधार पर ऑपरेशन चलाया गया था।

बता दें कि राष्ट्रपति एवं सशस्त्र सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर रामनाथ कोविंद ने सशस्त्र सेनाओं एवं अर्द्धसैन्य बल के जवानों के लिए 132 पुरस्कार अनुमोदित किए हैं। इनमें से दो कीर्ति चक्र, एक वीर चक्र, 14 शौर्य चक्र, आठ बार टू सेना पदक (शौर्य), 90 सेना पदक (शौर्य) 5 नौसेना पदक (शौर्य), 7 वायु सेना पदक (शौर्य) और 5 युद्ध सेना पदक शामिल हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -