Thursday, June 13, 2024
Homeविविध विषयअन्य'तुरंत हटाओ गौतम गंभीर के खिलाफ वीडियो': S श्रीसंत को लीगल नोटिस, बोले गौती...

‘तुरंत हटाओ गौतम गंभीर के खिलाफ वीडियो’: S श्रीसंत को लीगल नोटिस, बोले गौती – युवराज सिंह पर नहीं होती बात क्योंकि उनके पास अच्छी PR एजेंसी नहीं

उनकी पत्नी विधिता ने भी गंभीर की निंदा की। उन्होंने कहा कि श्रीसंत से ये जानना ये हैरान करने वाला है कि उनके साथ वर्षों तक खेल चुका कोई खिलाड़ी इतना नीचे गिर सकता है।

हाल ही में पूर्व क्रिकेटरों गौतम गंभीर और S श्रीसंत के बीच झगड़े की खबर ने खूब सुर्खियाँ बटोरी। श्रीसंत का आरोप है कि गंभीर ने उन्हें कई बार ‘फ़िक्सर’ कहा है और साथ ही आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया। अब जहाँ ‘लेजेंड्स लीग क्रिकेट’ (LLC) जिसके मैच में ये झगड़ा हुआ उसके प्रबंधन ने S श्रीसंत को नोटिस भेजा है वहीं गौतम गंभीर ने ANI पर स्मिता प्रकाश के साथ एक पॉडकास्ट में खुद को लेकर हुए कई विवादों पर बात की और सवालों के जवाब दिए।

लेजेंड्स लीग क्रिकेट: S श्रीसंत को लीगल नोटिस

LLC कमिश्नर ने S श्रीसंत को कानूनी नोटिस भेजा है और कहा है कि गौतम गंभीर के साथ झगड़े को लेकर उन्होंने सोशल मीडिया पर जो वीडियो डाले हैं उन्हें वो तुरंत हटाएँ। ‘इंडिया कैपिटल्स’ और ‘गुजरात टाइटंस’ के बीच हुए एलिमिनेटर मैच में ये बहस हुई थी। श्रीसंत ने वीडियो के जरिए गौतम गंभीर पर गाली देने का आरोप लगाया। LLC ने मामले में जाँच का आश्वासन दिया है। संस्था ने कहा है कि करार के तहत खिलाड़ियों के दायित्व और आचार नीति के तहत इस मामले को देखा जा रहा है।

‘लेजेंड्स लीग क्रिकेट’ के CEO एवं सह-संस्थापक रमन रहेजा ने ये जानकारी दी। TOI ने अपनी खबर में बताया है कि LLC ने नोटिस में कहा है कि चर्चाएँ तभी शुरू होंगी जब श्रीसंत वीडियो हटाएँगे। उस दौरान बीच-बचाव करने वाले अंपायरों ने जो रिपोर्ट सौंपी है, उसमें फ़िक्सर वाले आरोप का जिक्र नहीं है। श्रीसंत ने गंभीर को पूर्णरूपेण अभिमानी और असभ्य करार दिया था। उनकी पत्नी विधिता ने भी गंभीर की निंदा की। उन्होंने कहा कि श्रीसंत से ये जानना ये हैरान करने वाला है कि उनके साथ वर्षों तक खेल चुका कोई खिलाड़ी इतना नीचे गिर सकता है।

उन्होंने कहा कि पालन-पोषण मायने रखता है और जब ग्राउंड पर इस तरह के मामले सामने आते हैं तो ये दिखने लगता है।

ANI पॉडकास्ट में गौतम गंभीर का ‘PR’ वाला तंज

उधर गौतम गंभीर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘पनौती’ कहे जाने वाले सवाल का जवाब दिया। बता दें कि अहमदाबाद में ऑस्ट्रेलिया से हुए ODI क्रिकेट विश्व कप के सेमीफइनल मैच के दौरान पीएम मोदी भी दर्शक दीर्घा में मौजूद थे, और भारत की हार के बाद विपक्षी दलों के नेताओं ने उनके लिए ‘पनौती’ शब्द का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था।

गौतम गंभीर ने कहा कि ये जो शब्द का इस्तेमाल किया गया, ये किसी के भी खिलाफ इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे ख़राब शब्द हो सकता है, खासकर देश के प्रधानमंत्री के लिए। उन्होंने याद दिलाया कि 2011 में पाकिस्तान के साथ हुए सेमीफइनल में तत्कालीन पीएम डॉ मनमोहन सिंह भी मौजूद थे और उस दौरान अगर हम ये मैच हारे होते तो मनमोहन सिंह आकर खिलाड़ियों से आकर मिलते तो इसमें क्या खराबी होती? उन्होंने IPL 2023 में नवीन उल हक़ के साथ हुए विवाद पर भी टिप्पणी की।

गौतम गंभीर ने कहा कि वो चूँकि टीम के मेंटर (लखनऊ सुपर जायंट्स/LSG के) थे, ऐसे में ये नहीं हो सकता कि कोई भी चल कर आए और उनके खिलाड़ियों को कुछ कहने लगे। गौतम गंभीर ने कहा कि जब तक मैच चल रहा था, उनका कोई अधिकार नहीं था हस्तक्षेप करने का, लेकिन खेल खत्म होने के बाद उनके खिलाड़ी से बहस करे तो फिर उनका काम है हस्तक्षेप करना। 2011 में श्रीलंका के खिलाफ हुए फाइनल मैच में गौतम गंभीर ने 97 रनों की पारी खेली थी जबकि विजयी छक्का लगाने वाले MS धोनी ने 91 रन मारे थे।

गौतम गंभीर अक्सर कहते रहे हैं कि कैसे इस मैच में उनकी पारी की बात नहीं की जाती। इस पर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जब ये लोग टैग देते हैं न ‘अंडररेटेड’ वाला और कहते हैं कि कितनी अंडररेटेड पारी है, कितने ‘अंडररेटेड’ प्लेयर हैं – ये वही लोग हैं जो अनदेखा करते हैं और सही मूल्यांकन नहीं करते। युवराज सिंह पर उन्होंने पूछा कि जो खिलाड़ी ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ हुआ उसे लेकर कितने लोग बात करते हैं, केवल इसीलिए क्योंकि उसके पास अच्छी PR एजेंसी नहीं है?

उन्होंने कहा कि ब्रॉडकास्टर कभी प्यार एजेंसी नहीं हो सकती, उसे हमेशा निष्पक्ष होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिसे ज़्यादा दिखाया जाएगा, वो ब्रांड बन जाएगा। बता दें कि MS धोनी पर गौतम गंभीर अप्रत्यक्ष रूप से कई आरोप लगाते रहे हैं। 2011 के फाइनल में धोनी ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ रहे थे। पूर्वी दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर अक्सर कई मुद्दों पर मुखर रहते हैं और बेबाक राय रखते रहते हैं। वर्ल्ड कप की कमेंट्री के दौरान भी वो खासे चर्चा में रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -