Wednesday, December 1, 2021
Homeविविध विषयअन्य20 दिन में 5 गोल्ड, स्टार एथलीट हिमा दास का स्वर्णिम सफर जारी

20 दिन में 5 गोल्ड, स्टार एथलीट हिमा दास का स्वर्णिम सफर जारी

हिमा ने चेक रिपब्लिक में चल रहे एक इंटरनेशनल इवेंट में 400 मीटर रेस की स्पर्धा में पहला पायदान हासिल किया। इस दौड़ को जीतने के लिए उन्होंने 52.09 सेकंड का समय लिया।

भारतीय स्टार एथलीट हिमा दास का स्वर्णिम अभियान जारी है। उन्होंने शनिवार (जुलाई 20, 2019) को एक और स्वर्ण पदक अपने नाम किया। हिमा ने चेक रिपब्लिक में चल रहे एक इंटरनेशनल इवेंट में 400 मीटर रेस की स्पर्धा में पहला पायदान हासिल किया। इस दौड़ को जीतने के लिए उन्होंने 52.09 सेकंड का समय लिया। महीने भर के भीतर यह हिमा का 5वाँ गोल्ड है। हिमा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर फोटो शेयर कर इसकी जानकारी दी है।

इस स्पर्धा में दूसरे स्थान पर भी भारत की वीके विस्मया रहीं जो हिमा से 53 सेकंड पीछे रहीं। विस्मया ने 52.48 सेकंड में रेस को पूरा किया। वहीं, तीसरे स्थान पर सरिता बेन गायकवाड़ रहीं। जिन्होंने इस रेस को पूरा करने में 53.28 सेकंड का समय लिया। 

बता दें कि, हिमा ने 2 जुलाई को पोजनान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स में 200 मीटर का रेस 23.65 सेकंड में जीतकर पहला गोल्ड मेडल जीता था। इसके बाद 7 जुलाई को पोलैंड में कुटनो एथलेटिक्स मीट में 200 मीटर रेस को 23.97 सेकंड में पूरा कर दूसरा गोल्ड अपने नाम किया था। फिर 13 जुलाई को चेक रिपब्लिक में हुई क्लांदो मेमोरियल एथलेटिक्स में महिलाओं की 200 मीटर रेस को 23.43 सेकंड में पूरा कर तीसरा गोल्ड मेडल जीतने के साथ ही 17 जुलाई को चेक रिपब्लिक में चल रहे टबोर एथलेटिक्स मीट में एक और गोल्ड मेडल अपने नाम कर देश का नाम रौशन किया।


 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe