Thursday, May 26, 2022
Homeविविध विषयअन्य'अस्तगफिरुल्लाह…तौबा-तौबा' : सारा अली को भगवान शिव की पूजा करते देख भड़के कट्टरपंथी, बोले-...

‘अस्तगफिरुल्लाह…तौबा-तौबा’ : सारा अली को भगवान शिव की पूजा करते देख भड़के कट्टरपंथी, बोले- पत्थर पूजती हो शर्म नहीं आती

बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान की गलती यही है कि उन्होंने भगवान शिव के ओंकारेश्वर मंदिर में बैठकर माथे पर बिंदी, चंदन लगाकर फोटो खींची और उसे इंस्टाग्राम पर डाल दिया, जिसे देख ये कट्टरपंथी भड़क गए।

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर बॉलीवुड अभिनेत्री सारा अली खान एक बार फिर से कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं। उनकी गलती यही है कि उन्होंने भगवान शिव के ओंकारेश्वर मंदिर में बैठकर माथे पर बिंदी, चंदन लगाकर फोटो खींची और उसे इंस्टाग्राम पर डाल दिया। अब यही तस्वीर कट्टरपंथियों को रास नहीं आ रही और वे उन पर उंगली उठा रहे हैं।

अहमद बलोच, सारा अली को लिखते हैं, “मुनाफिक! न तुम मुस्लिम न तुम हिंदू।” मोहम्मद शोएब ने उन्हें ‘लानत’ भेजी। वहीं एक अन्य यूजर ने उन्हें लिखा मुसलमान होकर ऐसे काम करती हो शर्म नहीं आती। रहमान जावेद ने लिखा, “तू मुस्लिम है।”

अगली यूजर ने पूछा, “तुम किस तरह की मुसलमान हो। ये सब शिर्क में आता है।” सुमैया ने कहा, “तुम्हारे अब्बा मुसलमान हैं और तुम हिंदू।”

अजीम सैफी ने सारा से पूछा “नमाज पढ़ी है क्या आपने कभी?”

नोफल यासीन ने लिखा, “नाम मुस्लिम वाला हरकत हिंदू की। तुम मुसलमान हो भी या नहीं। शर्म नहीं आती क्या।”

मनोमेहर सारा को ज्ञान देते हैं, “हाय… आप मुस्लिम हो। आप फिल्म में काम करती हो शॉर्ट्स पहनती हो समझ आता है। लेकिन प्लीज शिर्क तो न करें। तुम्हें समझ क्यों नहीं आता। तुम्हें मालूम है न इस दुनिया के बाद भी एक दुनिया है जो हमेशा रहेगी। यहाँ हम बस कुछ समय के लिए हैं। मुस्लिमों की जिंदगी मरने के बाद शुरू होती हैं। और यही सच्चाई है। समझ आई मेरी बात।”

अहमद कहते हैं, “आप एक मुस्लिम होकर ये सब करती हैं। अगर यही करना है तो अपने नाम से खान का टाइटल हटाओ।”

रसीद सैयद कहता है, “रमजाम आ रहा है। देखता हूँ तुम्हारी कितनी वीडियो आती है अल्लाह ताला के लिए।”

अन्य यूजर कहती, “हे सुंदरी। मुस्लिम ये सब नहीं करते। ये तो शिर्क है। अल्लाह दो नहीं है। वे एक ही हैं। इन सबके बाद तुमसे पूछा जाएगा तुमने क्या किया। “

एक कट्टरपंथी ने लिखा, “अस्तगफिरुल्लाह। तौबा-तौबा। ऐ अल्लाह कयामत आजाब से बचाना। आमीन।”

शेहनाम ने लिखा, “तुम लोग कैसे इंसान हो कि नाम में सारा अली हैं और पत्थरों की पूछा करते शर्म आनी चाहिए।”

ट्रोलिंग नहीं, यह विशुद्ध हिंदू-घृणा

हिंदू माँ/बीवी से संबंध वाले सारा अली खान, मोहम्मद कैफ या शाहरुख खान। जिनका ऐसा कोई संबंध नहीं, उनमें मोहम्मद शमी को रख लें या इरफान पठान को। ये सारे लोग आपस में जुड़े हुए हैं। कैसे? ये लोग आए दिन इस्लामी कट्टरपंथियों से गालियाँ सुनते रहते हैं। हिंदू पर्व-त्योहारों पर, मंदिर जाने पर… हैप्पी होली/दिवाली लिखने पर भी। ऐसे पोस्ट में इस्लामी कट्टरपंथियों की खुली चुनौती होती है कि इस्लाम के अलावे कुछ भी नहीं। इसलिए इसे ट्रोलिंग कह कर वामपंथी इसका बचाव नहीं कर सकते।

सोशल मीडिया पर धमकी का यह रूप ही जमीनी हकीकत में इस्लाम के नाम पर मॉब लिंचिंग की ओर ले जाता है। बड़े नाम कट्टरपंथी भीड़ से बच जाते हैं लेकिन किशन भरवाड, हर्षा, रूपेश पांडेय जैसे हम-आप इस आतंकी मानसिकता का शिकार हो जाते हैं। इसलिए यह ट्रोलिंग नहीं है। यह विशुद्ध रूप से हिंदू देवी-देवताओं से घृणा है, हिंदुओं से घृणा है।

“कुछ लोग ऐसा करते हैं, इसको पूरे इस्लाम से मत जोड़िए” – ऐसे तर्कों को हमेशा खारिज करना होगा। जब-जब हिंदू देवी-देवताओं की भक्ति से संबंधित किसी भी पोस्ट पर गाली-गलौच की जाएगी, हम हिंदुओं को उसका विरोध करना होगा। वो ईशनिंदा का सहारा लेकर हत्या तक को जायज ठहराते हैं, हमें विरोध को उस स्तर पर ले जाना होगा, जिससे उनका और उनकी मानसिकता का समूल नाश हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री की गोली मार कर हत्या की, 10 साल का भतीजा भी घायल: यासीन मलिक को सज़ा मिलने के बाद वारदात

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री अमरीना भट्ट की गोली मार कर हत्या कर दी है। ये वारदात केंद्र शासित प्रदेश के चाडूरा इलाके में हुई, बडगाम जिले में स्थित है।

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई...

यासीन मलिक को सजा सुनाए जाने के बाद श्रीनगर स्थित उसके घर के बाहर उसके समर्थकों ने अल्लाहु अकबर की नारेबाजी की। पत्थर भी बरसाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,868FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe