Tuesday, August 9, 2022
Homeविविध विषयअन्य50 की उम्र में शुरू किया अपना बिजनेस, अब ₹1 लाख करोड़ की कंपनी...

50 की उम्र में शुरू किया अपना बिजनेस, अब ₹1 लाख करोड़ की कंपनी की मालकिन: कहानी देश की सबसे अमीर सेल्फ-मेड महिला की

मुंबई के गुजरती परिवार में पली-बढ़ी 58 वर्षीय फाल्गुनी नायर इन्वेस्टमेंट बैंक रही हैं। उन्होंने अपने जीवन के 50 वर्ष पूरे होने के कुछ ही महीने पहले अपने बिजनेस शुरू किया था। 20 साल वो कोटक-महिंद्रा बैंक में भी रहीं।

ब्यूटी प्रोडक्ट्स कंपनी Nykaa की संस्थापक अब भारत की सबसे अमीर सेल्फमेड महिला बन गई हैं। उनकी संपत्ति 6.5 बिलियन डॉलर (48,340 करोड़ रुपए) आँकी गई है। बता दें कि हाल ही में Nykaa का IPO भी आया है, जिसका शेयर बाजार में ब्लॉकबस्टर डेब्यू हुआ है। फाल्गुनी नायर भारत की पहली महिला हैं, जो शेयर बाजार में सूचीबद्ध देश की एक यूनिकॉर्न कंपनी का नेतृत्व कर रही हैं। Nykaa का संचालन ‘FSN E-Commerce Ventures’ नामक कंपनी करती है।

ये कंपनी ‘ब्यूटी एंड वैलनेस प्रोडक्ट्स’ का निर्माण करती है और फिर इसे बाजार में उतारती है। बुधवार (10 नवंबर, 2021) को इसके शेयरों के भाव 1125 रुपए से 79% अधिक प्रीमियम पर बिक रहे हैं। संपत्ति के मामले में उन्होंने अब ‘Biocon’ की संस्थापक किरण मजूमदार शॉ को पीछे छोड़ दिया है। खुद शॉ ने उनकी तारीफ़ की है। ‘ओपी जिंदल ग्रुप’ की अध्यक्ष सावित्री जिंदल के बाद वो भारत की सबसे अमीर महिला हैं। सावित्री जिंदल 12.9 बिलियन डॉलर (95,968 करोड़ रुपए) की संपत्ति की मालकिन हैं।

अब वो ‘मुथूट फाइनेंस’ का स्वामित्व रखने वाली मुथूट परिवार से भी ज्यादा अमीर हैं। ‘Marico’ के संस्थापक अध्यक्ष हर्ष मारीवाला, ‘Cadila हेल्थकेयर’ के पंकज पटेल, ‘इंटरग्लोब एविएशन्स’ के भाटिया परिवार, ‘अल्केम लैबोरेट्रीज’ का मालिक सिंह परिवार और ‘एशियन पेंट्स’ के अभय वकील जैसे दिग्गज उद्योगपतियों को उन्होंने पीछे छोड़ दिया है। BSE में Nykaa की एंट्री 2001 रुपए के साथ हुई। इसके बाद ये 89.24% बढ़ कर 2029 रुपए हो गया। कैटरिना कैफ और आलिया भट्ट जैसे बॉलीवुड स्टार्स के उनकी कंपनी में निवेश हैं।

NSE में इसके शेयरों के भाव 79.37% बढ़ कर 2018 रुपए हो गया। इसके साथ ही FSN कंपनी का टोटल वैल्यूएशन 1 ट्रिलियन रुपया या 13.5 बिलियन डॉलर (100427 करोड़ रुपए) पहुँच गया। 5352 करोड़ रुपए के Nykaa के IPO शेयरों के भाव 1082-1125 रुपए प्रति शेयर रखे गए थे। मुंबई के गुजरती परिवार में पली-बढ़ी 58 वर्षीय फाल्गुनी नायर इन्वेस्टमेंट बैंक रही हैं। उन्होंने अपने जीवन के 50 वर्ष पूरे होने के कुछ ही महीने पहले अपने बिजनेस शुरू किया था।

उन्होंने 2012 में इस ई-कॉमर्स कंपनी को लॉन्च किया। उस समय वो ब्यूटी और पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स को अपने मोबाइल एप और वेबसाइट के माध्यम से बेचती थीं। लिस्टिंग कार्यक्रम में नायर ने कहा कि भारत में जन्मी, भारतीय के नेतृत्व व प्रबंधन वाली और भारतीय द्वारा स्थापित ये कंपनी लोगों को प्रेरणा दे, यही उनकी कामना है। ‘Nykaa’ और ‘Nykaa Fashion’ के जरिए अब मेकअप, फैशन, ब्यूटी और पर्सनल केयर के विविध प्रकार के प्रोडक्ट्स बाजार में उपलब्ध हैं।

कंपनी का आकलन है कि भारत का ब्यूटी केयर बाजार 2025 तक दोगुना हो जाएगा। ऐसे में 2 ट्रिलियन रुपए के वैल्यूएशन का लक्ष्य रखा गया है। फाल्गुनी नायर ने मुंबई के ‘Sydenham कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स’ से स्नातक किया है पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री उन्होंने IIM अहमदाबाद से ली है। 1987 में उन्होंने संजय नायर से शादी की, जो उनके साथ कॉलेज में पढ़ते थे। फाल्गुनी नायर के माता-पिता भी छोटे-मोटे व्यापार चलाते थे, लेकिन वो अब इस विरासत को अलग स्तर पर ले गई हैं।

उनका कहना है कि Nykaa ने एक तरह से भारत में ब्यूटी इंडस्ट्री का निर्माण कर दिया है। फाल्गुनी नायर ने कहा कि जब उन्होंने शुरुआत की थी तो भारत में ब्यूटी प्रोडक्ट्स का बाजार आगे नहीं बढ़ रहा था, क्योंकि विविधता भरे देश में सबके लिए प्रोडक्ट्स बनाना मुश्किल था। Nykaa में उनकी हिस्सेदारी आधी है। गूगल प्ले स्टोर में उनका एप 1 करोड़ से भी अधिक लोगों ने डाउनलोड किया है। 2020 में उनकी कंपनी को 16.3 करोड़ का घाटा हुआ था, लेकिन अगले ही साल उन्होंने 61.9 करोड़ के लाभ तक कंपनी को पहुँचाया।

FSN ई-कॉमर्स कंपनी ने देश भर के 40 शहरों में 80 फिजिकल स्टोर स्थापित कर लिए हैं। इससे पहले वो अमेरिका और यूरोप में दूसरी कंपनियों के लिए निवेश जुटाने के लिए रोड शो करती रही हैं। बता दें कि निवेशकों को लुभाने के लिए ये पुराना चलन है। उनके पति संजय नायर अमेरिका की प्राइवेट इक्विटी फर्म केकेआर के भारत में सीईओ हैं। साल 1983-85 बैच में आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए करने वाली नायर ने 1985 से 1993 तक A.F.Ferguson & Co में जॉब किया। 20 साल वो कोटक-महिंद्रा बैंक में भी रहीं

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,564FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe