Saturday, October 1, 2022
Homeविविध विषयअन्यनीरज चोपड़ा का भाला पाकिस्तानी अरशद नदीम के हाथ में: वीडियो से सारी शंकाओं...

नीरज चोपड़ा का भाला पाकिस्तानी अरशद नदीम के हाथ में: वीडियो से सारी शंकाओं को दूर किया गोल्डन बॉय ने

"अरशद नदीम जो पाकिस्तानी जैवलिन थ्रोअर है, उससे जैवलिन ली… उसका काफी बड़ा मुद्दा बना दिया, जोकि एक बहुत ही सिंपल सी बात है कि हम जो हमारी पर्सनल जैवलिन होती है, वो हम उसको उसमें रखते हैं, जिसे सभी थ्रोअर उसे यूज कर सकते हैं। ये रूल है।"

टोक्यो ओलंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा ने टाइम्स ऑफ इंडिया को एक इंटरव्यू दिया था। इसके बाद सोशल मीडिया में इसे लेकर कुछ शंकाएँ एक पाकिस्तानी जैवलिन थ्रोअर अरशद नदीम को लेकर हो गई थी। अब नीरज चोपड़ा ने एक वीडियो ट्वीट कर सारी शंकाओं को विराम दे दिया है।

नीरज ने वीडियो में कहा:

“सभी को नमस्कार। सबसे पहले तो सभी का नमस्कार करता हूँ कि आप लोगों ने इतना सपोर्ट किया, इतनी दुआएँ दीं, इतना प्यार दिया। काफी अच्छा लग रहा है।

साथ में मैं बताना चाहूँगा कि अभी एक मुद्दा उठ रहा है, जो अभी मैंने एक इंटरव्यू में कहा कि जो जैवलिन है, वो पहली थ्रो करने से पहले अरशद नदीम जो पाकिस्तानी जैवलिन थ्रोअर है, उससे जैवलिन ली… तो उसका काफी बड़ा मुद्दा बना दिया है, जोकि एक बहुत ही सिंपल सी बात है कि हम जो हमारी पर्सनल जैवलिन होती है, वो हम उसको उसमें रखते हैं, जिसे सभी थ्रोअर उसे यूज कर सकते हैं। ये रूल है। इसमें ऐसा बिल्कुल कुछ भी गलत नहीं है कि वो जैवलिन लेके प्रिरेअर कर रहा था अपनी थ्रो के लिए और मैंने अपनी थ्रो के लिए उसको माँगा।

ये इतनी बड़ी बात नहीं है। मुझे काफी दुख है कि इस बात को मेरा सहारा लेके इतना बड़ा मुद्दा बना रहे हैं। आप सभी से यही विनती करता हूँ कि ऐसा ना करें। स्पोर्ट्स सभी को मिल कर चलना सिखाता है। हम सभी जैवलिन थ्रोअर प्यार से रहते हैं, सभी आपस में अच्छे से बात करते हैं, तो कोई भी ऐसी बात न कहें, जिससे हमको ठेस पहुँचे। थैंक यू।”

नीरज चोपड़ा-अरशद नदी-जैवलीन मामला

नीरज चोपड़ा ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया था कि वह फाइनल राउंड की शुरुआत में अपने भाले को खोज रहे थे और उन्हें वह मिल नहीं रहा था। तभी, उन्होंने पाकिस्तानी एथलीट अरशद नदीम को अपने जैवलीन के साथ घूमते देखा। चोपड़ा ने नदीम से फौरन उनका भाला लौटाने को कहा। नदीम ने उन्हें उस भाले को दिया और फिर चोपड़ा ने खेल में पार्टिसिपेट किया। चोपड़ा कहते हैं कि इसी वाकये की वजह से वह पहली थ्रो के समय थोड़ा हड़बड़ाहट में थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe