Sunday, June 16, 2024
Homeविविध विषयअन्य'मेरे पास शब्द नहीं, ये बहुत सुंदर है' : नए संसद भवन को देख...

‘मेरे पास शब्द नहीं, ये बहुत सुंदर है’ : नए संसद भवन को देख मोहित हुईं पद्मश्री सुधा मूर्ति, कहा- मैं पूरा दिन यहाँ बिताना चाहती हूँ

सुधा मूर्ति ने संसद को देखने के बाद कहा, "यह सच में बहुत सुंदर है…मेरे पास शब्द नहीं है कि मैं इनका वर्णन करूँ। मैं इसे बहुत लंबे समय तक देखना चाहती हूँ। जैसे कोई सपना पूरा हुआ हो। बहुत सुंदर है। कला, संस्कृति और भारतीय साहित्य- सब कुछ सुंदर है।"

इंफोसिस के नारायणमूर्ति की पत्नी सुधा मूर्ति ने पहली बार संसद का दौरा किया। सुधा मूर्ति संसद के नए और पुराने भवन को देखने के बाद मीडिया से बात करते हुए अपनी खुशी जाहिर की।

समाचार एजेंसी एएऩआई से बता करते हुए उन्होंने कहा, “यह सच में बहुत सुंदर है…मेरे पास शब्द नहीं है कि मैं इनका वर्णन करूँ। मैं इसे बहुत लंबे समय तक देखना चाहती हूँ। जैसे कोई सपना पूरा हुआ हो। बहुत सुंदर है। कला, संस्कृति और भारतीय साहित्य- सब कुछ सुंदर है।”

उन्होंने कहा, “मुझे नई बिल्डिंग अच्छी लगी, मैंने दोनों बिल्डिंग को पहली बार देखा, आर्ट-कल्चर इंडियन हिस्ट्री सब कुछ है। सब कुछ बहुत बढ़िया है। सब कुछ अच्छे तरीके से रखा गया है व्यवस्थित ढंग से। मैं पूरा दिन बिताना चाहती थी यह सब देखने के लिए जो देखा उसे मैंने एंजॉय किया।” जब उनसे पूछा गया कि क्या आप वो राजनीति में आना चाहती हैं तो इसके जवाब में उन्होंने कहा- “मैं जो हूँ उसमें खुश हूँ।”

बता दें कि सुधा मूर्ति की पहचान सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका के तौर पर होती है। वह पद्मभूषण और पद्मश्री से सम्मानित की जा चुकी हैं। उन्होंने 8 उपन्यास लिखे हैं। वह ऑटो निर्माता इंजीनियर और लोकोमोटिव कंपनी टेल्को में काम करने वाली पहली महिला इंजीनियर भी हैं। उनके पति जहाँ इंफोसिस कंपनी के संस्थापक हैं तो बेटी अक्षता नारायण ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक की पत्नी हैं। शिक्षा क्षेत्र में उपलब्धि की बात करें तो उन्होंने बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नॉलजी, हुबली से इलेक्टिकल इंजिनियरिंग में ग्रेजुएशन किया था। उस समय भी वह इंजीनियरिंग कॉलेज में 150 स्टूडेंट के बीच दाखिला पाने वाली पहली महिला थीं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -