Saturday, October 16, 2021
Homeविविध विषयअन्यCyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें,...

Cyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें, फ्लाइट रद्द, NDRF की टीम तैनात

“चक्रवाती तूफान के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका प्रबल है। इसके उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और 25 नवंबर की रात या 26 नवंबर तड़के तमिलनाडु और पुडुचेरी के बीच कराईकल और मामल्लापुरम पर तट से टकराने की आशंका है।”

चक्रवाती तूफान ‘निवार’ (Cyclonic Storm Nivar) अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धर बुधवार आधी रात या गुरुवार तड़के तमिलनाडु और पुडुचेरी के बीच तट से टकराएगा। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने यह जानकारी दी। इस बीच सरकार ने कहा है कि चेम्बरमबक्कम झील में क्षमता से अधिक पानी होने की आशंका के चलते झील का पानी छोड़ा जाएगा।

बुधवार को आईएमडी द्वारा जारी बुलेटिन में कहा गया, “चक्रवाती तूफान के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका प्रबल है। इसके उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने और 25 नवंबर की रात या 26 नवंबर तड़के तमिलनाडु और पुडुचेरी के बीच कराईकल और मामल्लापुरम पर तट से टकराने की आशंका है। तूफान की गति 120-130 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी जो बढ़कर 145 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है।”

राष्ट्रीय आपदा रिस्पांस फोर्स के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया है, “तमिलनाडु से लगभग 30,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी से 7,000 लोगों को निकाला गया है। केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारें मिलकर काम कर रही हैं। क्षति को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “चक्रवात निवार को ‘बेहद गंभीर’ के रूप में वर्गीकृत किया गया है। इस दृष्टिकोण के साथ हम खराब से खराब स्थिति से निपटने की तैयारी कर रहे हैं। हमारी टीमें पिछले 2 दिनों से मैदान पर हैं। अब तक तमिलनाडु, पुडुचेरी और आंध्र प्रदेश में 25 टीमें तैनात हैं।”

घरों में रहने की अपील

तमिलनाडु और पुडुचेरी के तट से आज चक्रवाती तूफान निवार गुजरने वाला है। इसे लेकर सरकार और एनडीआरएफ की टीमें सतर्क हो गई हैं। तटीय इलाकों में बिना किसी कारण लोगों से घर से बाहर निकलने से मना किया गया है। पुडुचेरी की एलजी किरण बेदी ने लोगों से घर में रहने की अपील की है। पुडुचेरी के मुख्यमंत्री नारायण सामी ने कहा है कि साइक्लोन आज शाम से तटीय इलाकों को छुएगा। एनडीआरएफ, तटरक्षक बल, दमकल विभाग सहित विभिन्न राज्य और केंद्रीय एजेंसियों के कर्मचारियों की तैनाती किसी भी स्थिति से निपटने के लिए की गई है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी से बातचीत कर तूफान से पैदा हालात की जानकारी ली और केंद्र से हर संभव मदद का भरोसा दिया। एनडीआरएफ ने कहा कि चक्रवाती तूफान की स्थिति तेजी से बदल रही है और यह 120 से 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाले अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। 

तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और पुडुचेरी में बुधवार को सार्वजनिक छुट्टी घोषित की गई है और सार्वजनिक परिवहन को स्थगित कर दिया गया है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने कहा, “बुधवार को राज्य में आम छुट्टी होगी लेकिन आवश्यक सेवा से जुड़े कर्मी काम करेंगे।”

पुडुचेरी के उद्योग एवं राजस्व मंत्री एमओएचएफ शाहजहाँ ने कहा कि बुधवार को सभी सरकारी कार्यालयों में छुट्टी होगी और लोगों की सुरक्षा के लिए सभी कदम उठाए जा रहे हैं। उधर, चक्रवात को देखते हुए विमान सेवा इंडिगो ने कहा है कि बुधवार को निर्धारित 49 उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि आगे की स्थितियों के अनुरूप अब फैसला लिया जाएगा।

तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी में चक्रवाती तूफान निवार के मद्देनजर एनडीआरएफ के करीब 1,200 बचाव कर्मियों को तैनात किया गया है और 800 अन्य को तैयार रखा गया है। चेन्नई हवाई अड्डे पर आने और यहाँ से जाने वाली उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। इसके अलावा ट्रेनों को भी रद्द किया गया है। खतरनाक चक्रवात ‘निवार’ के मद्देनजर चेन्नई एयरपोर्ट पर उड़ानों का संचालन आज शाम 7 बजे से लेकर कल सुबह 7 बजे तक निलंबित किया गया है।

फिलहाल कहाँ है चक्रवात

निवार चक्रवात फिलहाल पश्चिम-पश्चिमोत्तर की ओर बढ़ रहा है और 6 घंटे बाद इसके उत्तर-पश्चिम की ओर मुड़ने का अनुमान है। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पश्चिम में है, जो कि कुड्डालोर के पूर्व और दक्षिण पूर्व में 310 किमी दूर है। पुडुचेरी से इसकी दूरी 350 किमी और चेन्नई से 370 किमी दूर है। अगले 6 घंटों में इसके और ज्यादा खतरनाक होने की आशंका बढ़ती जा रही है।

तमिलनाडु के मामल्लापुरम में भारी बारिश हो रही है। निवार चक्रवात आज आधी रात को या कल तड़के मामल्लापुरम और कराईकल के बीच से गुजर सकता है। मामल्लापुरम में बारिश के साथ-साथ तेज हवाएँ भी चल रही हैं। वहीं समुद्र में तेज लहरें भी उठ रही हैं।

इमरजेंसी के लिए स्वास्थ्य सेवा

तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री सी. विजयभास्कर ने कहा कि आपातकालीन मेडिकल सुविधाएँ सुनिश्चित करने के लिए पूरी तैयारी की जा रही है। पीएचसी स्तर पर दवाएँ भंडारित कर ली गई हैं। सभी सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था की जा रही है। साथ ही किसी भी इमरजेंसी के लिए ‘हॉस्पिटल ऑन व्हील्स’ को भी तैयार रहने को बोला गया है।

यूजीसी-नेट 2020 परीक्षा स्थगित

चक्रवाती तूफान ‘निवार’ के खतरा को देखते हुए तमिलनाडु और पुडुचेरी में 26 नवंबर को होने वाली यूजीसी-नेट 2020 (गणित और रसायन विज्ञान) की परीक्षा अगले आदेश तक स्थगित कर दी गई है। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रुद्राक्ष पहनने और चंदन लगाने की सज़ा: सरकार पोषित स्कूल में ईसाई शिक्षक ने छात्रों को पीटा, माता-पिता ने CM स्टालिन से लगाई गुहार

शिक्षक जॉयसन ने पवित्र चंदन (विभूति) और रुद्राक्ष पहनने पर लड़कों को यह कहते हुए फटकार लगाई कि केवल उपद्रवी और मिसफिट लोग ही इसे पहनते हैं।

5 साल पहले ISKCON वालों ने मुस्लिमों को मंदिर के अंदर रमजान में करवाया था इफ्तार, अब वही मंदिर में घुस कर रहे हत्या-रेप

बांग्लादेश में आज कट्टरपंथी इस्कॉन मंदिर को अपना निशाना बना रहे हैं। वहीं दूसरी ओर बंगाल में आज से 5 साल पहले मुस्लिम बंधुओं को मंदिर प्रशासन ने इफ्तारी करवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,973FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe