Saturday, October 1, 2022
Homeविविध विषयअन्यचीनी पहलवान को पटखनी दे सेमीफाइनल में दीपक पुनिया, मेडल की रेस में रवि...

चीनी पहलवान को पटखनी दे सेमीफाइनल में दीपक पुनिया, मेडल की रेस में रवि दहिया भी

इस ओलंपिक में भारत को अब तक तीन पदक मिले हैं। तीसरा पदक महिला बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन ने कांस्य के रूप में जीता है।

भारतीय पहलवान दीपक पुनिया ने टोक्यो ओलंपिक में कुश्ती स्पर्धा के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, फ्रीस्टाइल 86 किलोग्राम भारवर्ग में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले पुनिया ने चीनी पहलवान जुशेन लिन को 6-3 के अंतर से हराकर पुरुषों की फ्रीस्टाइल के सेमीफाइनल में प्रवेश किया। अब वह सेमीफाइनल में अमेरिका के डेविड मॉरिस टेलर से भिड़ेंगे।

इससे पहले उन्होंने क्वार्टर फाइनल में नाइजीरिया के एकेरेकेमे एजियोमोर को हराया था। सेमीफाइनल 5 अगस्त (गुरुवार) को होंगे। पुनिया टोक्यो ओलंपिक 2021 में देश के लिए पदक सुनिश्चित करने से बस एक जीत की दूर पर हैं। पुनिया के अलावा, भारत के पहलवान रवि दहिया ने भी 57 किलोग्राम भारवर्ग में पुरुष फ्रीस्टाइल के क्वार्टर फाइनल में बुल्गारिया के जॉर्जी वांगेलोव को 14-4 के बड़े अंतर से हराकर सेमीफाइनल में अपनी जगह बनाई है।

दोनों पहलवान आज ही सेमीफाइनल के लिए भिड़ेंगे औऱ अगर सबकुछ ठीक रहा तो भारत की झोली में दो और मेडल शामिल हो सकते हैं। इस ओलंपिक में भारत को अब तक तीन पदक मिले हैं। तीसरा पदक महिला बॉक्सर लवलीना बोरगेहेन ने कांस्य के रूप में जीता है। सेमीफाइनल में उन्हें तुर्की की बुसेनज सुरमैनेली से हार का सामना करना पड़ा। 23 वर्ष की लवलीना को वीमेंस वेल्टरवेट (69 किलोग्राम) वर्ग में ये ख़िताब प्राप्त हुआ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुर्गा पूजा कार्यक्रम में गरबा करता दिखा मुनव्वर फारूकी, सेल्फी लेने के लिए होड़: वीडियो आया सामने, लोगों ने पूछा – हिन्दू धर्म का...

कॉमेडी के नाम पर हिन्दू देवी-देवताओं को गाली देकर शो करने वाला मुनव्वर फारुकी गरबा के कार्यक्रम में देखा गया, जिसके बाद लोग आक्रोशित हैं।

धर्म ही नहीं जमीन भी गँवा रहे हिंदू: कब्जे की भूमि पर चर्च-कब्रिस्तान से लेकर मिशनरी स्कूल तक, पहाड़ों का भी हो रहा धर्मांतरण

जमीनी स्थिति भयावह है। सरकारी से लेकर जनजातीय समाज की जमीनों पर ईसाई मिशनरियों का कब्जा है। अदालती आदेशों के बाद भी जमीन खाली नहीं हो रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
225,570FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe