Thursday, May 23, 2024
Homeविविध विषयअन्यमुंबई इंडियंस में युजवेंद्र चहल का शारीरिक शोषण भी हुआ था, अब मुश्किल में...

मुंबई इंडियंस में युजवेंद्र चहल का शारीरिक शोषण भी हुआ था, अब मुश्किल में विदेशी क्रिकेटर: जानें क्या है मामला

युजवेंद्र चहल के खुलासे के बाद इंगलैंड की काउंटी टीम डरहम ने कहा कि वो इस मामले पर अपने हेड कोच व न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर जेम्स फ्रैंकलीन से निजी तौर पर बात करेंगे। और इस घटना से संबंधी अधिक तथ्य जुटाएँगे।

भारतीय क्रिकेट टीम के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने हाल में अपने साथ 2011 में घटित हुए एक वाकया का खुलासा करके सबको चौंका दिया। उन्होंने बताया कि कैसे मुंबई इंडियंस की ओर से IPL खेलते हुए उनके दो साथी क्रिकेटरों ने उनके साथ बदसलूकी करते हुए उन्हें रात भर रस्सी से बाँधे रखा था और बाद में उनसे माफी भी नहीं माँगी थी। इन दोनों क्रिकेटरों के नाम जेम्स फ्रैंकलीन (न्यूजीलैंड) और एंड्रियू साइमंड्स (ऑस्ट्रेलिया) हैं।

आरसीबी पॉडकॉस्ट पर चहल के इसी खुलासे के बाद खबर आई है कि इंग्लैंड की काउंटी टीम डरहम ने अपने मुख्य कोच जेम्स फ्रैंकलिन से निजी तौर पर बात करने का फैसला लिया है। डरहम ने कहा है कि वो इस बाबत जेम्स फ्रैंकलीन से बात करेंगे और अधिक तथ्य जुटाने का प्रयास करेंगे। अपने बयान में डरहम टीम ने कहा, “हमें हाल फिलहाल में आई न्यूज रिपोर्ट्स का पता चला जो साल 2011 की घटना से जुड़ी हैं और जिसमें हमारे स्टाफ का नाम है। हमारे स्टाफ का नाम होने की वजह से क्लब उनसे अकेले में बात करेगा और तथ्यों का पता लगाएगा।”

जेम्स फ्रैंकलीन न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर हैं। उन्हें 2019 में डरहम कोच के तौर पर नियुक्त किया गया था। उन्होंने 31 टेस्ट, 110 एक दिवसीय और 38 टी-20 मैच खेले हैं। इन सबके अलावा फ्रैंकलीन ने मुंबई इंडियंस की ओर से 2011 और 2012 में 20 खेल भी खेले थे।

2011 में मुंबई इंडियंस की जीत के बाद चहल के बाँधे गए हाथ-पाँव

साल 2011 में ऑस्ट्रेलिया के एंड्रियू साइमंड्स, न्यूजीलैंड के जेम्स फ्रैंकलीन और भारत के युजवेंद्र चहल मुंबई इंडियंस टीम का हिस्सा थे। युजवेंद्र ने हाल में ही ये खुलासा किया कि उस समय फ्रैंकलीन और साइमंडस ने उनके हाथ-पाँव बाँधकर उन्हें कमरे में बंद कर दिया था और बाद में अपनी की हरकत को भूल भी गए थे।

चहल ने कहा था, “ये घटना 2011 की है जब मुंबई इंडियंस ने चैंपियंस लीग को जीता था। हम चेन्नई में थे। साइमंड्स ने बहुत फ्रूट जूस पी लिया था। मुझे नहीं पता कि वो क्या सोच रहा था लेकिन उसने और जेम्स फ्रैंकलीन ने साथ में मेरे हाथ-पैर बाँधे और कहा कि तुम्हें ही गाँठ खोलनी होगी। वे इतना खोए हुए थे कि उन्होंने मेरा मुँह टेप से बाँध दिया था और मेरा ध्यान उन्हें पूरी पार्टी में नहीं था। वे सब चले गए थे। सुबह में जब कोई सफाई के लिए आया और मुझे देखा तब मेरे हाथ खोले। उन्होंने मुझसे पूछा कि आप कब से थे यहाँ। इस पर मैंने कहा कि मैं तो पूरी रात से यही हूँ। ये एक एक मजाकिया कहानी बन गई।”

चहल से जब पूछा गया कि क्या उनसे किसी ने इस हरकत के लिए माफी माँगी। इस पर चहल ने कहा, “नहीं। उन लोगों ने कहा कि जब आप जूस ज्यादा पी लेते हो तो आपको सुबह में याद नहीं रहता।”

जब 15 वीं मंजिल से लटका दिए गए थे चहल

बता दें कि इससे पहले युजवेंद्र चहल ने इससे पहले अपने साथ साल 2013 में घटित घटना के बारे में खुलासा किया था। उन्होंने बताया था कि  2013 में आईपीएल के छठे सीजन में उनकी जान जाते-जाते बची थी। उस समय वह मुंबई इंडियंस का हिस्सा थे। उन्होंने कहा था, “मेरी यह स्टोरी कुछ लोगों को पता है। लेकिन आज से पहले मैंने यह बात कभी किसी को नहीं बताई। अब लोग इसके बारे में जानेंगे। यह 2013 की बात है, जब मैं मुंबई इंडियंस टीम का हिस्सा था। हमारा बैंगलोर में एक मैच था। मैच के बाद एक गेट-टुगेदर था। वहाँ एक खिलाड़ी था, जो शराब के नशे में धुत था, मैं उसका नाम नहीं लूँगा। वह काफी देर से मुझे घूर रहा था, फिर कुछ सोचकर उसने मुझे अपने पास बुलाया।”

चहल ने आगे कहा था, “वह मुझे बाहर ले गया और मुझे बालकनी से लटका दिया। मेरे हाथ उसके गले से लिपटे हुए थे। अगर मेरा हाथ फिसल जाता तो… मैं 15वीं मंजिल से ही गिर गया होता। तभी वहाँ मौजूद लोगों ने पूरी स्थिति को सँभाला। मैं तो बेहोश हो गया था, मुझे लोगों ने पानी पिलाया। उस दिन मुझे समझ में आया कि हमें बाहर जाते हुए कितना सर्तक रहना चाहिए। यह एक ऐसी घटना थी, जिसमें मैं बाल-बाल बचा था। अगर थोड़ी सी भी चूक हो जाती तो मैं 15वीं मंजिल से नीचे गिर गया होता।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -