Monday, July 15, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकी'बाहरी दुनिया के लिए विज्ञान, आंतरिक आत्मा के लिए मंदिर': 'चंद्रयान 3' की सफल...

‘बाहरी दुनिया के लिए विज्ञान, आंतरिक आत्मा के लिए मंदिर’: ‘चंद्रयान 3’ की सफल लैंडिंग के बाद माँ भद्रकाली के दरबार में ISRO प्रमुख, बोले – पढ़ता हूँ धर्मग्रंथ

"यदि हम इस ब्रह्मांड में हमारे अस्तित्व और हमारी यात्रा का अर्थ खोजने का प्रयास करें, तो पता चलता है कि यह हमारी संस्कृति का एक हिस्सा है। इसे आंतरिक और बाहरी चीजों का पता लगाने के लिए बनाया गया है।"

चंद्रयान-3 की सफलता के बाद ISRO के प्रमुख एस सोमनाथ रविवार (27 अगस्त, 2023) को केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम पहुँचे। यहाँ उन्होंने पूर्णमिकवु में स्थित भद्रकाली मंदिर में दर्शन कर पूजा-अर्चना की। इस दौरान उन्होंने कहा है कि चंद्रयान-3 अच्छी तरह से काम कर रहा है। साथ ही विज्ञान और आध्यात्म दोनों की ही खोज करना उनके जीवन का हिस्सा है।

भद्रकाली मंदिर में दर्शन के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) प्रमुख एस सोमनाथ ने ANI से बात की। इस बातचीत में उन्होंने कहा है, “मैं एक खोजकर्ता हूँ। मैं चंद्रमा के विषय में खोज करता हूँ। विज्ञान और आध्यात्मिकता दोनों को लेकर ही कुछ खोज करना मेरे जीवन की यात्रा का एक हिस्सा है। इसलिए मैं कई मंदिरों में जाता हूँ। कई धर्मग्रंथ पढ़ता हूँ।”

इसरो प्रमुख ने आगे कहा है, “यदि हम इस ब्रह्मांड में हमारे अस्तित्व और हमारी यात्रा का अर्थ खोजने का प्रयास करें, तो पता चलता है कि यह हमारी संस्कृति का एक हिस्सा है। इसे आंतरिक और बाहरी चीजों का पता लगाने के लिए बनाया गया है। इसलिए मैं बाहरी दुनिया के लिए विज्ञान का प्रयोग करता हूँ और आंतरिक आत्मा की तलाश के लिए मंदिरों में जाता हूँ।”

चंद्रयान-3 को लेकर अपडेट देते हुए उन्होंने बताया कि सब कुछ अच्छे तरीके से काम कर रहा है। चंद्रयान-3, लैंडर, रोवर सभी ठीक हैं। सभी पाँचों उपकरण चालू कर दिए गए हैं। इनसे डेटा मिलना भी शुरू हो गया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने आने वाले दिनों में हम सभी प्रयोगों को पूरा करने में सक्षम होंगे। साथ ही जानकारी दी कि अलग-अलग चरण हैं, जिनके लिए इसका परीक्षण किया जाना है। रोवर जहाँ-जहाँ जाएगा उन सभी जगहों की टेस्टिंग करनी होगी।

उन्होंने यह भी कहा, “चंद्रमा में मौजूद खनिज पदार्थों का पता लगाने के लिए रोवर चारों ओर घूम कर डेटा भेजेगा। हमारे पास चंद्रमा की अब तक की सबसे अच्छी तस्वीरें हैं। ये ऐसी तस्वीरें हैं जो दुनिया में किसी के पास नहीं हैं। इसलिए ये बेहद महत्वपूर्ण हैं। ये तस्वीरें अभी हमारे पास नहीं आई हैं। चंद्रयान-3 से फोटो इंडियंस अंतरिक्ष यान में स्थित कम्प्यूटर में जाती हैं। इसके बाद वैज्ञानिक उनकी गहराई से जाँच करते हैं।”

भारत के अंतरिक्ष मिशन में एक ही टीम काम कर रही है। इसकी जानकारी देते हुए इसरो प्रमुख ने कहा है, “हमारे पास ऐसा नहीं है कि आदित्य टीम, चंद्रयान टीम जैसी टीमें हों। एक ही टीम काम कर रही है। इससे चुनौतीपूर्ण काम होने के कारण उनका आत्मविश्वास भी बढ़ रहा है।”

चंद्रयान-3 के पॉइंट को ‘शिवशक्ति’ पॉइंट कहे जाने पर इसरो प्रमुख एस सोमनाथ ने कहा है कि प्रधानमंत्री ने महिला और पुरुष दोनों के संयोजन वाला नाम दिया है। उन्होंने इसका अर्थ जिस तरीके से बताया है जो सभी के लिए उपयुक्त है। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने चंद्रयान-2 के पॉइंट को तिरंगा नाम दिया है। दोनों ही भारत के लगने वाले नाम हैं। उन्होंने आगे कहा है, “हम जो कर रहे हैं उसका एक महत्व होना चाहिए। देश के प्रधानमंत्री होने के नाते यह नाम रखने का उनका विशेषाधिकार है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जो प्रधानमंत्री है खालिस्तानी आतंकियों का ‘हमदर्द’, उसने अब दिलजीत दोसांझ को दिया ‘सरप्राइज’: PM ट्रुडो से मिलकर बोले भारतीय सिंगर- विविधता कनाडा की...

कनाडा पीएम ट्रुडो जो हमेशा से खालिस्तानी आतंकियों के 'हमदर्द' बनकर रहे उन्होंने हाल में दिलजीत दोसांझ को कनाडा में 'सरप्राइज' दिया।

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -