Friday, July 30, 2021
Homeविविध विषयअन्यWhatsApp कॉल से आ सकता है वायरस, हो सकता है डाटा डिलीट, सतर्क रहें

WhatsApp कॉल से आ सकता है वायरस, हो सकता है डाटा डिलीट, सतर्क रहें

इसका फायदा उठाकर कोई भी हमलावर अपने दुश्मन के फ़ोन को साइबर हमले और डाटा लीक का शिकार बना सकता है। इसके लिए उसे केवल WhatsApp के जरिए सामने वाले को फ़ोन करने की जरूरत होगी। यह भी जरूरी नहीं कि फ़ोन सामने वाला उठाए ही।

WhatsApp ने यह स्वीकार किया है कि उसकी साइबर सिक्युरिटी में गंभीर सेंध लगी है। इसके चलते हैकर आपके फ़ोन में स्पाइवेयर (आपकी जासूसी करने और आपका डाटा लीक करने वाले वायरस) इंस्टॉल कर सकते हैं, वह भी महज एक WhatsApp कॉल से। आप कॉल उठाएँ या न उठाएँ, इससे भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा। यह खतरा एंड्रॉइड और आईफ़ोन दोनों ही स्मार्टफोनों में है।

इज़राइली कंपनी ने बनाया वाइरस, किया WhatsApp को सावधान

इज़राइल की NSO ग्रुप नामक साइबर इंटेलिजेंस कंपनी ने इस वायरस का निर्माण किया है। उन्होंने WhatsApp को इस बारे में चेतावनी देने के साथ ही अमेरिका में कानूनी और पुलिस अधिकारियों, और अन्य साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों को भी आगाह कर दिया है।

इस कमजोरी का फायदा उठाकर कोई भी हमलावर अपने दुश्मन के फ़ोन को साइबर हमले और डाटा लीक का शिकार बना सकता है। इसके लिए उसे केवल WhatsApp के जरिए सामने वाले को फ़ोन करने की जरूरत होगी। यह भी जरूरी नहीं कि फ़ोन सामने वाला उठाए ही। उसके न उठाने पर भी वायरस उसके फ़ोन में भेजा जा सकता है। रिपोर्ट के अनुसार ऐसी किसी कॉल का इतिहास भी कॉल लॉग से मिटाया जा सकता है।

WhatsApp ने दूर की समस्या, जारी किया नया ऍप अपडेट

WhatsApp ने मामले पर जानकारी देते हुए NSO की ढूँढ़ी हुई खामी की पुष्टि तो की, लेकिन साथ में जोड़ा कि खामी को दूर कर दिया गया है। उनके अनुसार यह खामी इसी महीने उनके संज्ञान में आई थी, और सोमवार को जारी ऍप अपडेट में इसे दूर कर दिया गया है। WhatsApp ने अपने सभी उपभोक्ताओं से जल्दी से जल्दी अपनी ऍप अपडेट कर लेने की अपील भी की है, ताकि उनका डाटा सुरक्षित रह सके। इसके अलावा कंपनी ने उपभोक्ताओं को सामान्य एहतियातों का पालन करने के साथ-साथ अपने फ़ोन का ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) भी लेटेस्ट अपडेट पर रखने की भी सलाह दी है।

WhatsApp ने अपनी ओर से अमेरिकी सरकार और पुलिस को भी इत्तला दे दी है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,052FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe