Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजधर्म-प्रचार के लिए राँची की मस्जिद में छिपे हुए थे 19 विदेशी सहित 24...

धर्म-प्रचार के लिए राँची की मस्जिद में छिपे हुए थे 19 विदेशी सहित 24 लोग: पुलिस ने गिरफ्तार कर क्वारंटाइन सेंटर भेजा

इन विदेशी नागरिकों में पोलैंड, अफ्रीका, मलेशिया और इंग्लैंड सहित कई देशों के लोग थे। सबसे ज्यादा मलेशिया से 8 लोग थे। इन सभी को खेलगाँव में स्थित आइसोलेशन सेंटर में भेजा गया है। देर रात 12 बजे के बाद इन्हें पुलिस ने शिकंजे में लिया। ये सभी मजहबी प्रचार के लिए मस्जिद में छिपे हुए थे।

कोरोना वायरस को लेकर भारत में स्थिति दिनोंदिन गंभीर होती जा रही है। इससे पहले ख़बर आई थी कि पटना की एक मस्जिद में कई विदेशी छिपे हुए थे। अब राँची में पुलिस ने 19 विदेशी नागरिकों को क्वारंटाइन किया है। हिन्दपीढ़ी क्षेत्र में छिपे हुए मिले ये सभी ब्रिटिश नागरिक हैं। ये सब स्थानीय ‘बड़ी मस्जिद’ में रुके हुए थे। इन विदेशी नागरिकों के साथ-साथ पुलिस ने दिल्ली व राँची के दो-दो और हैदराबाद के एक युवक को भी आइसोलेशन में शिफ्ट किया गया है। कुल 24 लोग थे।

पूछताछ में सभी विदेशी नागरिकों ने बताया है कि वो सभी तबलीग जमात के लिए राँची आए थे। कुछ लोगों ने इसकी सूचना डीसी को दी, जिसके बाद उन्हें शिकंजे में लिया गया। इन सभी को हिरासत में लेकर क्वारंटाइन किया गया है। साथ ही एक मेडिकल टीम ने इन सबकी जाँच भी की है। इससे पहले राँची के बुंडू में पुलिस ने चीनी नागरिक समेत 11 विदेशी नागरिकों को क्वारंटीन के लिए भेजा था। डीएसपी को सूचना मिली थी कि चीन और अन्य देश के कुछ मौलवी तमाड़ के रणगाँव के पास एक मस्जिद में रुके हैं, जिसके बाद ये कार्रवाई की गई थी।

इन विदेशी नागरिकों में पोलैंड, अफ्रीका, मलेशिया और इंग्लैंड सहित कई देशों के लोग थे। सबसे ज्यादा मलेशिया से 8 लोग थे। इन सभी को खेलगाँव में स्थित आइसोलेशन सेंटर में भेजा गया है। देर रात 12 बजे के बाद इन्हें पुलिस ने शिकंजे में लिया। ये सभी मजहबी प्रचार के लिए मस्जिद में छिपे हुए थे। जिला प्रशासन इस बारे में और जानकारी पता लगा रहा है।

झारखण्ड में अभी तक कोरोना वायरस का एक भी मरीज सामने नहीं आया है लेकिन पुलिस एहतियातन पूरी सतर्कता बरत रही है। सभी स्कूल-कॉलेजों को बंद कर दिया गया है और शैक्षिक संस्थानों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि वो इस अवधि में बच्चों के अभिभावकों से फी व किसी अन्य प्रकार का शुल्क न लें। ऐसा करने पर कड़ी कार्रवाई की बात कही गई है। पूरे देश में अब तक कोरोना वायरस के 1190 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 102 ठीक हुए हैं और 29 की जान चली गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe