Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजक्रिसमस का दिन, बागेश्वर धाम सरकार की राम कथा और 300 लोगों ने की...

क्रिसमस का दिन, बागेश्वर धाम सरकार की राम कथा और 300 लोगों ने की घर वापसी: पत्थलगाँव में भी 50 परिवार मूल धर्म में लौटे

दमोह में चल रही रामकथा में शामिल होने आए 300 लोगों को सनातन धर्म में लौटवाया। वहीं छत्तीसगढ़ के जशपुर में भी विशाल हिंदू सम्मेलन के दौरान अखिल भारतीय घरवापसी के प्रमुख प्रबल प्रताप सिंह ने 50 परिवारों ने हिंदू धर्म में घरवापसी करवाई।

भारत में धर्मांतरण के काले जाल से लोगों को बचाने के लिए घरवापसी के कई अभियान जगह-जगह चलाए जा रहे हैं। इसी क्रम में हाल में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ने 25 दिसंबर 2022 को दमोह में चल रही रामकथा में शामिल होने आए 300 लोगों को सनातन धर्म में लौटवाया। वहीं छत्तीसगढ़ के जशपुर में भी विशाल हिंदू सम्मेलन के दौरान अखिल भारतीय घरवापसी के प्रमुख प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने 50 परिवारों ने हिंदू धर्म में घरवापसी करवाई। कार्यक्रम के दौरान मिशनरियों का शिकार लोगों ने बताया कि उन्हें कैसे-कैसे लालच देकर ईसाई बनाया गया था।

बागेश्वर धाम सरकार ने 300 लोगों की करवाई घरवापसी

पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने 25 दिसंबर को दमोह के कृष्णा हाइट्स में हुए कार्यक्रम में 250-300 लोगों को शपथ दिलाई। उन्होंने पहले पूछा कि किसी ने जबरन तो उन्हें हिंदू धर्म स्वीकारने को नहीं कहा। जब इस बात से लोगों ने इनकार कर दिया तब उन्होंने कहा बोलो कि चाहे कुछ भी हो जाए आप लोग अपना धर्म किसी कीमत पर नहीं छोड़ोगे। धीरेंद्र शास्त्री ने उन्हें समझाया कि हमारे संतों ने, पूर्वजों ने सनातन की रक्षा के लिए प्राण तक दे दिए लेकिन भूलकर भी दूसरे धर्म में नहीं गए।

कार्यक्रम के दौरान उन्होंने पीड़ितों से पूछा कि उन्हें किस तरह का लालच देकर हिंदू धर्म छुड़वाया गया। इस पर एक युवक जितेंद्र ने बताया कि उनके पिता को कहा गया था कि ‘तुम्हारे बच्चे के पैर का इलाज करवा देंगे।’ हालाँकि दवाई एक रुपए की भी नहीं हुई। उलटा उन्हें कहा गया कि घर में चाहे कोई मर जाए लेकिन रविवार को चर्च जरूर आना है।

पंडित धीरेंद्र शास्त्री द्वारा घरवापसी करने वाले लोगों में से एक युवक (बागेश्वर धाम सरकार का वीडियो)

जितेंद्र ने बताया कि उन लोगों के आगे हिंदू धर्म को उलटा कहा जाता था जिसका उन्हें बहुत बुरा लगता था। पर कहीं से कोई सपोर्ट न मिल पाने के कारण वो कुछ नहीं कर पाते थे। इसी तरह एक युवक ने बताया कि उसे गाड़ी की किस्त भरने के नाम पर 1 लाख 32 हजार रुपए दिए गए थे और इलाज के लिए 60 हजार रुपए देकर ईसाई धर्म कबूल करवाया गया था।

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर ने सबकी बातें सुनने के बाद कहा कि अगर आप लोग लालच में न आते तो ये दिन नहीं आता। आप यदि भगवान की शरण में आओगे, हनुमान जी को ध्याओगे तो आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

दमोह की तरह जशपुर में भी पत्थलगाँव के किलकिला शिव मंदिर में अखिल भारतीय घरवापसी प्रमुख सूर्य प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने हिंदू विशाल सम्मेलन को आयोजित करवाया। ये आयोजन स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती के 96 वें बलिदान दिवस के उपलक्ष्य पर हुआ जहाँ कई संत आए एवं विश्व कल्याण महायज्ञ हुआ। इसी कार्यक्रम में पहलो जूदेव ने भगवान शिव की आराधना की। उसके बाद जय श्रीराम का नारा लगाते हुए 50 हिंदू परिवारों के सैकड़ों लोगों को हिंदू धर्म में वापसी करवाई।

जशपुर में आयोजित विशाल हिंदू समारोह

उन्होंने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद नहीं होते तो पूरे भारत में धर्मांतरण हो जाता लेकिन उन्होंने अपना जीवन समर्पण कर दिया और हिंदुओं को एक करने के लिए हमेशा लगे रहे। मेरे पिताजी स्व दिलीप सिंह जूदेव के इस घर वापसी के कार्यक्रम को मैं चलाता आ रहा हूँ जिसमें मेरा साथ देने के लिए मैं आप सभी का आभारी हूँ। जूदेव ने कहा हिंदुत्व किसी जाति का नही राष्ट्रीयता का प्रतीक है इतिहास गवाह है जहा हिंदू घटा है देश बटा है। इसीलिए हिंदू बचाना मंदिर बनाने से भी बड़ा कार्य है क्योंकि हिंदू ही मंदिर बनाएगा मंदिर हिंदू नही। अंत मे उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, “मैं विरोधियों को चुनौती देता हूँ ये धर्मांतरण का घिनौना कार्य बंद कर दो अन्यथा इसका दूरगामी परिणाम विचारणीय होगा।”

जशपुर में आयोजित विशाल हिंदू समारोह
Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -