Monday, March 1, 2021
Home देश-समाज दिल्ली के 3 बड़े अस्पतालों ने एडमिट करने से किया इनकार: इलाज के अभाव...

दिल्ली के 3 बड़े अस्पतालों ने एडमिट करने से किया इनकार: इलाज के अभाव में 7 महीने की मासूम ने तोड़ा दम, मामला हाईकोर्ट में

आरएमएल अस्पताल के दावे के विपरीत, मरीज के रजिस्ट्रेशन कार्ड में 'कोई बिस्तर उपलब्ध नहीं है' का बहाना दिया गया है। अदालत ने आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों को अपने बयान में असमानता की व्याख्या करने के लिए एक और हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली में एक बार फिर से लापरवाही वाली घटना सामने आई है। जिसमें एक सात महीने के मासूम ने इलाज न मिलने के कारण दम तोड़ दिया। बच्चे को मस्तिष्क में फोड़ा (मस्तिष्क में मवाद जमा हो जाना) था। परिजनों का आरोप है कि उन्होंने दिल्ली के लगभग तीन बड़े-बड़े सरकारी अस्पताल का दौरा किया, लेकिन किसी भी अस्पताल ने उसे एडमिट नहीं लिया, सभी ने इनकार कर दिया, जिसके बाद बच्चे की मौत हो गई

बच्ची के माता-पिता ने दिल्ली उच्च न्यायालय (HC) का रुख किया और उसे 3 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराने के लिए एक रिट याचिका दायर की, जहाँ उसी दिन उसका ऑपरेशन किया गया था, लेकिन दुर्भाग्य से कुछ ही घंटों बाद उसकी मृत्यु हो गई।

उसके माता-पिता ने बच्ची को उचित चिकित्सा उपचार दिलाने के लिए काफी हाथ-पैर मारे, जिसके बाद उसे सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

मामला अभी भी अदालत में लंबित है और अस्पतालों को बच्ची को एडमिट करने से इनकार करने के कारणों के बारे में जवाब देने के लिए कहा गया है। बच्ची को सबसे पहले 17 अगस्त को बाबू जगजीवन राम अस्पताल के आपातकालीन विभाग में ले जाया गया। वह बुखार, उल्टी, दौरे, और सेंसरियम या स्पष्ट रूप से सोचने में असमर्थता से पीड़ित थी।

एक दिन बाद, बच्ची को उचित स्वास्थ्य देखभाल के लिए एक उच्च केंद्र में भेजा गया। उसे 18 अगस्त को रोहिणी के डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर (BSA) अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ डॉक्टरों ने उसे एंटीबायोटिक्स, तरल पदार्थ और एंटीकॉनवल्सेंट दिया था।

मस्तिष्क का अल्ट्रासाउंड करने के बाद डॉक्टरों ने न्यूरोसर्जरी का सुझाव दिया। सर्जरी के लिए उसके परिवार को राम मनोहर लोहिया (आरएमएल), कलावती सरन और चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय जैसे अस्पतालों से संपर्क करने के लिए कहा गया।

माता-पिता ने आरएमएल, सफदरजंग, जीबी पंत और कलावती सरन अस्पतालों से संपर्क किया, लेकिन इन सभी ने स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए एडमिट करने से मना कर दिया। डॉक्टरों ने सर्जरी करने के लिए अपनी लाचारी जताई, बिना किसी उपचार के अगले तीन दिनों तक बच्चे को बीएसए अस्पताल में भर्ती रखा गया।

बाबा साहब अंबेडकर अस्पताल में भर्ती के दौरान बच्ची का प्राइवेट डाइग्नॉस्टिक लैबोरेट्री से कम्प्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन कराया गया, तो मस्तिष्क में फोड़ा की बीमारी के बारे में पता चला। इसके बाद बीएसए अस्पताल के अधिकारियों ने उसे बेहतर स्वास्थ्य सुविधा में स्थानांतरित करने का फैसला किया, क्योंकि उसकी हालत खराब हो गई थी। उसे एक रेज़ीड़ेंट डॉक्टर के साथ एक एम्बुलेंस प्रदान की गई थी। हालाँकि, आरएमएल और जीबी पंत अस्पताल के अधिकारियों ने उसे एडमिट करने से इनकार कर दिया, और उसे वापस बीएसए अस्पताल में लाया गया।

इसके बाद माता-पिता ने दिल्ली उच्च न्यायालय (HC) का रुख किया और उसे 3 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराने के लिए कहा गया, जहाँ उसी दिन उसका ऑपरेशन किया गया था, लेकिन दुर्भाग्य से ऑपरेशन के कुछ ही घंटों बाद उसकी मृत्यु हो गई। सफदरजंग अस्पताल के अधिकारियों ने अपने हलफनामे में कहा है कि उन्होंने मरीज को प्रवेश देने से कभी इनकार नहीं किया।

चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय, जो दिल्ली के दो सबसे बड़े बाल रोग अस्पतालों में से एक है, के अधिकारियों ने दावा किया कि उनके पास बाल चिकित्सा न्यूरोसर्जरी की सुविधा नहीं थी।

आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों ने जोर देकर कहा कि बच्चे को उपस्थित कर्मचारियों द्वारा उचित चिकित्सा सहायता दी गई थी और उसे बाल चिकित्सा न्यूरोसर्जरी आपातकाल में भेजा गया था, जहाँ उसे कथित तौर पर प्रवेश के लिए नहीं लाया गया था।

आरएमएल अस्पताल के दावे के विपरीत, मरीज के रजिस्ट्रेशन कार्ड में ‘कोई बिस्तर उपलब्ध नहीं है’ का बहाना दिया गया है। अदालत ने आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों को अपने बयान में असमानता की व्याख्या करने के लिए एक और हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसे लगेगा वैक्सीन, कहाँ कराएँ रजिस्ट्रेशन, कितने रुपए होंगे खर्च… 9 सवाल और उसके जवाब से जानें हर एक बात

कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 के साथ शुरू हो गया है। दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को...

केरल में कॉन्ग्रेस ने मुस्लिम वोटरों पर लगाया बड़ा दाँव, मुस्लिम लीग को दे दी 26 सीटें

केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कॉन्ग्रेस ने 'इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML)' के साथ सीट शेयरिंग फॉर्मूला फाइनल कर लिया है।

’50 करोड़ भारतीय मर जाए’ – यह दुआ करने वाले मौलाना को कॉन्ग्रेस-लेफ्ट गठबंधन में 30 सीटें, फिर भी दरार!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले वामदलों, कॉन्ग्रेस और मौलाना अब्बास सिद्दीकी के ISF के बीच हुए गठबंधन में दरार दिख रही है।

असम का गमछा, पुडुचेरी की नर्स: PM मोदी ने हँसते-हँसते ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

अब जब आम लोगों को कोरोना के खिलाफ बनी वैक्सीन लगनी शुरू हो गई है, पीएम नरेंद्र मोदी ने मार्च 2021 के पहले ही दिन कोरोना वैक्सीन की डोज ली।

यूपी में सभी को दी जाएगी एक यूनिक हेल्थ आईडी, शहरों में हजारों गरीबों को घर देने की तैयारी में योगी सरकार

जल्द व बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के लिए उत्तर प्रदेश के सभी लोगों के स्वास्थ्य का इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड तैयार किया जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है।

सोनिया को राहुल बाबा को PM बनाने की चिंता, स्टालिन को उधयनिधि को CM- 2जी, 3जी, 4जी सब तमिलनाडु में: अमित शाह

गृह मंत्री ने कहा कि सोनिया गाँधी को राहुल बाबा को प्रधानमंत्री बनाने की चिंता है और स्टालिन जी को उधयनिधि को मुख्यमंत्री बनाने की चिंता है। इन्हें ना देश की चिंता है और ना तमिलनाडु की, उनको बस अपने परिवार की चिंता है।

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

माँ बन गई ईसाई… गुस्से में 14 साल के बेटे ने दी जान: लाश के साथ ‘जीसस के चमत्कार’ की प्रार्थना

झारखंड के चतरा स्थित पन्नाटांड़ में एक किशोर ने कुएँ में कूद कर आत्महत्या कर ली क्योंकि वो अपने माँ के ईसाई धर्मांतरण से दुःखी था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,844FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe