Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजदिल्ली के 3 बड़े अस्पतालों ने एडमिट करने से किया इनकार: इलाज के अभाव...

दिल्ली के 3 बड़े अस्पतालों ने एडमिट करने से किया इनकार: इलाज के अभाव में 7 महीने की मासूम ने तोड़ा दम, मामला हाईकोर्ट में

आरएमएल अस्पताल के दावे के विपरीत, मरीज के रजिस्ट्रेशन कार्ड में 'कोई बिस्तर उपलब्ध नहीं है' का बहाना दिया गया है। अदालत ने आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों को अपने बयान में असमानता की व्याख्या करने के लिए एक और हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया है।

दिल्ली में एक बार फिर से लापरवाही वाली घटना सामने आई है। जिसमें एक सात महीने के मासूम ने इलाज न मिलने के कारण दम तोड़ दिया। बच्चे को मस्तिष्क में फोड़ा (मस्तिष्क में मवाद जमा हो जाना) था। परिजनों का आरोप है कि उन्होंने दिल्ली के लगभग तीन बड़े-बड़े सरकारी अस्पताल का दौरा किया, लेकिन किसी भी अस्पताल ने उसे एडमिट नहीं लिया, सभी ने इनकार कर दिया, जिसके बाद बच्चे की मौत हो गई

बच्ची के माता-पिता ने दिल्ली उच्च न्यायालय (HC) का रुख किया और उसे 3 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराने के लिए एक रिट याचिका दायर की, जहाँ उसी दिन उसका ऑपरेशन किया गया था, लेकिन दुर्भाग्य से कुछ ही घंटों बाद उसकी मृत्यु हो गई।

उसके माता-पिता ने बच्ची को उचित चिकित्सा उपचार दिलाने के लिए काफी हाथ-पैर मारे, जिसके बाद उसे सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

मामला अभी भी अदालत में लंबित है और अस्पतालों को बच्ची को एडमिट करने से इनकार करने के कारणों के बारे में जवाब देने के लिए कहा गया है। बच्ची को सबसे पहले 17 अगस्त को बाबू जगजीवन राम अस्पताल के आपातकालीन विभाग में ले जाया गया। वह बुखार, उल्टी, दौरे, और सेंसरियम या स्पष्ट रूप से सोचने में असमर्थता से पीड़ित थी।

एक दिन बाद, बच्ची को उचित स्वास्थ्य देखभाल के लिए एक उच्च केंद्र में भेजा गया। उसे 18 अगस्त को रोहिणी के डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर (BSA) अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहाँ डॉक्टरों ने उसे एंटीबायोटिक्स, तरल पदार्थ और एंटीकॉनवल्सेंट दिया था।

मस्तिष्क का अल्ट्रासाउंड करने के बाद डॉक्टरों ने न्यूरोसर्जरी का सुझाव दिया। सर्जरी के लिए उसके परिवार को राम मनोहर लोहिया (आरएमएल), कलावती सरन और चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय जैसे अस्पतालों से संपर्क करने के लिए कहा गया।

माता-पिता ने आरएमएल, सफदरजंग, जीबी पंत और कलावती सरन अस्पतालों से संपर्क किया, लेकिन इन सभी ने स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए एडमिट करने से मना कर दिया। डॉक्टरों ने सर्जरी करने के लिए अपनी लाचारी जताई, बिना किसी उपचार के अगले तीन दिनों तक बच्चे को बीएसए अस्पताल में भर्ती रखा गया।

बाबा साहब अंबेडकर अस्पताल में भर्ती के दौरान बच्ची का प्राइवेट डाइग्नॉस्टिक लैबोरेट्री से कम्प्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन कराया गया, तो मस्तिष्क में फोड़ा की बीमारी के बारे में पता चला। इसके बाद बीएसए अस्पताल के अधिकारियों ने उसे बेहतर स्वास्थ्य सुविधा में स्थानांतरित करने का फैसला किया, क्योंकि उसकी हालत खराब हो गई थी। उसे एक रेज़ीड़ेंट डॉक्टर के साथ एक एम्बुलेंस प्रदान की गई थी। हालाँकि, आरएमएल और जीबी पंत अस्पताल के अधिकारियों ने उसे एडमिट करने से इनकार कर दिया, और उसे वापस बीएसए अस्पताल में लाया गया।

इसके बाद माता-पिता ने दिल्ली उच्च न्यायालय (HC) का रुख किया और उसे 3 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराने के लिए कहा गया, जहाँ उसी दिन उसका ऑपरेशन किया गया था, लेकिन दुर्भाग्य से ऑपरेशन के कुछ ही घंटों बाद उसकी मृत्यु हो गई। सफदरजंग अस्पताल के अधिकारियों ने अपने हलफनामे में कहा है कि उन्होंने मरीज को प्रवेश देने से कभी इनकार नहीं किया।

चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय, जो दिल्ली के दो सबसे बड़े बाल रोग अस्पतालों में से एक है, के अधिकारियों ने दावा किया कि उनके पास बाल चिकित्सा न्यूरोसर्जरी की सुविधा नहीं थी।

आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों ने जोर देकर कहा कि बच्चे को उपस्थित कर्मचारियों द्वारा उचित चिकित्सा सहायता दी गई थी और उसे बाल चिकित्सा न्यूरोसर्जरी आपातकाल में भेजा गया था, जहाँ उसे कथित तौर पर प्रवेश के लिए नहीं लाया गया था।

आरएमएल अस्पताल के दावे के विपरीत, मरीज के रजिस्ट्रेशन कार्ड में ‘कोई बिस्तर उपलब्ध नहीं है’ का बहाना दिया गया है। अदालत ने आरएमएल अस्पताल के अधिकारियों को अपने बयान में असमानता की व्याख्या करने के लिए एक और हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमित शाह ने बना दी असम-मिजोरम के बीच की बिगड़ी बात, अब विवाद के स्थायी समाधान की दरकार

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों के पश्चात दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जिस तरह की सतर्कता और संयम दिखाया है उसका स्वागत होना चाहिए।

वे POK क्रिकेट लीग के चीयरलीडर्स, इधर कश्मीर पर भी बजाते हैं ‘अमन’ का झुनझुना: Pak वालों से ही सीख लो सेलेब्रिटियों

शाहिद अफरीदी, राहत फ़तेह अली खान और शोएब अख्तर कभी इस्लाम और पाकिस्तान के खिलाफ नहीं जा सकते, गलत या सही। भारतीय सेलेब्स इनसे क्या सीखे, जानिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,775FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe