तेलंगाना की ‘सर्वश्रेष्ठ तहसीलदार’ गिरफ्तार, ₹93.5 लाख नकद और 400 ग्राम सोना जब्त

एंटी करप्शन ब्यूरो ने तेलंगाना के रंगारेड्डी जिले में तहसीलदार वी लावण्या के घर छापेमारी की। इसमें ₹93.5 लाख और 400 ग्राम सोने की ज्वैलरी के अलावा कई अहम दस्तावेज बरामद किए गए।

2 साल पहले तेलंगाना सरकार की तरफ से सर्वश्रेष्ठ तहसीलदार का पुरस्कार प्राप्त कर चुकी वी लावण्या को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने बुधवार (जुलाई 10, 2019) देर रात तेलंगाना के रंगारेड्डी जिले में तहसीलदार वी लावण्या के घर छापेमारी की। जिसमें ₹93.5 लाख और 400 ग्राम सोने की ज्वैलरी के अलावा कई अहम दस्तावेज बरामद किए गए। ये बरामदगी लावण्या के हैदराबाद के हयातनगर में स्थित घर से हुई है।

यह कार्रवाई एसीबी (Anti Corruption Bureau) ने ₹4 लाख घूस लेने के मामले में की है। एससीबी के अधिकारियों ने बताया कि कोंदुरु ग्राम राजस्व अधिकारी (वीआरओ) एम अंतैयाह को बुधवार को ₹4 लाख घूस लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया था। दरअसल, वीआरओ के खिलाफ एम भास्कर नाम के एक किसान ने एंटी करप्शन विंग से शिकायत की थी। शिकायत में उसने कहा था कि उसकी जमीन का ऑनलाइन रिकॉर्ड अपडेट करने के लिए ₹8 लाख की रिश्वत माँगी गई थी।

जानकारी के मुताबिक, भास्कर से कथित रूप से ₹8 लाख देने के लिए कहा गया था। रिश्वत की डील के मुताबिक, इन ₹8 लाख में से ₹5 लाख एमआरओ के लिए थे और शेष ₹3 लाख वीआरओ को मिलने वाले थे। इससे पहले भास्कर ने पासबुक के लिए वीआरओ को ₹30 हजार दिए थे और फिर जब उसने अपनी जमीन की ऑनलाइन रिकॉर्डिंग में मौजूद गलतियों को ठीक करने के लिए कहा, तो रिश्वत के तौर पर उससे ₹8 लाख की माँग की गई। इसके बाद भास्कर ने इसकी शिकायत एसीबी से कर दी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

किसान (भाष्कर) की शिकायत पर एसीबी के अधिकारियों ने पूछताछ कर एमआरओ को हिरासत में ले लिया। जब इस बारे में लावण्या से पूछताछ की गई तो उन्होंने जोर देते हुए कहा कि उनका रिश्वत से कोई लेना-देना नहीं है। जिसके बाद एसीबी ने उनके घर पर छापा मारा और आय से अधिक संपत्ति के आरोप में उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जाँच के दौरान लावण्या की निजी कार में नौ पट्टादार पासबुक और तकरीबन 45 निजी संपत्तियों से जुड़े दस्तावेज भी पाए गए। ऐसे में ये आशंका जताई जा रही है कि ये पासबुक किसानों की भूमि रिकॉर्ड के पासबुक होंगे, जिसे लावण्या ने जब्त कर रखा होगा और इसे लौटाने के एवज में मोटी रकम ऐंठने की उम्मीद रही होगी।

इस बीच एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक किसान लावण्या के पैरों में गिरकर उसकी गुहार सुन लेने के लिए गिड़गिड़ाता नजर आ रहा है। खबर के मुताबिक, उस किसान का नाम भास्कर है। वहीं, लावण्या दो साल पहले तेलंगाना सरकार की ओर से सर्वश्रेष्ठ तहसीलदार का पुरस्कार भी हासिल कर चुकी हैं। लावण्या के पति ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में सुपरिंटेंडेंट के पद पर कार्यरत बताए जाते हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी, राम मंदिर
हाल ही में ख़बर आई थी कि पाकिस्तान ने हिज़्बुल, लश्कर और जमात को अलग-अलग टास्क सौंपे हैं। एक टास्क कुछ ख़ास नेताओं को निशाना बनाना भी था? ऐसे में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि कमलेश तिवारी के हत्यारे किसी आतंकी समूह से प्रेरित हों।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

100,990फैंसलाइक करें
18,955फॉलोवर्सफॉलो करें
106,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: