Saturday, July 2, 2022
Homeदेश-समाजकानपुर में हिंसा मचा कर दंगाइयों ने छोड़ दिया था शहर, अब तक 24...

कानपुर में हिंसा मचा कर दंगाइयों ने छोड़ दिया था शहर, अब तक 24 गिरफ्तार: UP पुलिस लगाएगी NSA, PFI लिंक की भी होगी जाँच

कानपुर हिंसा की FIR पुलिस इंस्पेक्टर नवाब अहमद की तहरीर पर दर्ज हुई है। FIR में 38 आरोपित किए गए हैं। पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा दी गई तहरीर के मुताबिक हयात जफर हाशमी द्वारा जाम किए गए रास्ते पर भीड़ ने अस्पताल में जाने वाले बीमार व्यक्तियों को भी रोक दिया गया था।

UP के कानपुर में 3 जून 2022 (शुक्रवार) को हुई हिंसा के मुख्य आरोपित हयात जफर हाशमी की गिरफ्तारी के बाद कानपुर पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस की है। 4 जून 2022 (शनिवार) को हुई इस प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान उन्होंने बताया कि आरोपितों ने लखनऊ के एक यूट्यूब चैनल पर शरण ली थी। साथ ही उन्होंने हिंसा में शामिल आरोपितों पर NSA लगाते हुए उनके बैंक खातों की जाँच करवाए जाने का भी ऐलान किया है। दंगाइयों के PFI से जुड़े होने की भी आशंका जताई जा रही है।

IPS विजय सिंह मीणा के मुताबिक, “हिंसा में शामिल आरोपितों पर गैंगस्टर और NSA लगाया जाएगा। आरोपितों की सम्पत्तियों को जब्त किया जाएगा। कल से आज तक कुल 24 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। गिरफ्तार हुए लोगों के बैंक खातों की जाँच की जाएगी। उनके PFI या किसी अन्य संस्था से जुड़े होने के की भी पड़ताल की जाएगी। सभी को अदालत में पेश कर के 14 दिनों की पुलिस रिमांड ली जाएगी। अब तक की पूछताछ में आरोपितों ने अपने 5-6 सहयोगियों के नाम बता दिए हैं।”

पुलिस कमिश्नर कानपुर ने आगे बताया, “हिंसा के बाद आरोपित शहर छोड़ कर भाग गए थे। इसकी सूचना हमें मिली लेकिन हमने अपनी तलाश जारी रखी। सभी आरोपित FIR दर्ज हो जाने के बाद लखनऊ के एक न्यूज़ के यूट्यूब ऑफिस में छिप गए थे। हयात जफर को लखनऊ के हजरतगंज क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने वहाँ छापेमारी कर के इन सभी को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से आधे दर्जन मोबाइल फोन और कुछ कागजात मिले हैं। फोन और दस्तावेजों की जाँच की जा रही है।”

कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने आगे कहा, “हमें PFI से जुड़े कुछ लिंक मिले हैं। PFI ने मणिपुर और पश्चिम बंगाल में 3-6 का कुछ कॉल किया था। हमें यह सूचना मिली है कि PFI से कानपुर के आरोपितों का भी कोई लिंक है। हम इस पर जाँच कर रहे हैं। कुछ समय पहले CAA हिंसा में PFI के 5 लोग शामिल थे जिन पर भी हम जाँच कर रहे हैं। अगर उनकी कोई संलिप्तता पाई गई तो उन पर भी कड़ी कार्रवाई होगी। हम आरोपितों की फंडिंग स्रोत की तलाश कर रहे हैं।”

इंस्पेभीड़ ने रोक दिया था अस्पताल जा रहे मरीजों का रास्ता

कानपुर हिंसा की FIR पुलिस इंस्पेक्टर नवाब अहमद की तहरीर पर दर्ज हुई है। FIR में 38 आरोपित किए गए हैं। पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा दी गई तहरीर के मुताबिक हयात जफर हाशमी द्वारा जाम किए गए रास्ते पर भीड़ ने अस्पताल में जाने वाले बीमार व्यक्तियों को भी रोक दिया गया था।

FIR Copy

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe