Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाजईद के दिन पुलिस अधिकारी को घेर कर मारा, मोबाइल छीन लिया... क्योंकि वो...

ईद के दिन पुलिस अधिकारी को घेर कर मारा, मोबाइल छीन लिया… क्योंकि वो कब्रिस्तान में जुटी भीड़ का फोटो ले रहे थे

“यह आदमी भीड़ की तस्वीर ले रहा है, उसे पीट कर उसका फोन छीन लो। पुलिस वाला है तो क्या हुआ।” - इस उकसावे के बाद इकट्ठी हुई मुस्लिम भीड़ ने पुलिस अधिकारी को पीट दिया।

अहमदाबाद के जुहापुरा में एक कब्रिस्तान (मुस्लिम कब्रिस्तान) में जमा हुई मुस्लिमों की भीड़ ने अहमदाबाद पुलिस के एक अधिकारी को भीड़ की तस्वीरें और वीडियो बनाने के लिए पीट दिया। उनका मोबाइल फोन भी छीन लिया गया। अहमदाबाद की वेजलपुर पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज किया है। अब तक पाँच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए पाँचों आरोपी मोहम्मद अहमद उर्फ ​​राजा सिद्दीकी, मजहर खान पठान, फिरोज मोहम्मद शेख, इफ्तेखार कल्याणी, सुल्तान और परवेज शब्बीर शेख हैं। ये पाँचों मुस्लिम कब्रिस्तान में भीड़ के साथ जमा हुए थे। वे कथित तौर पर ईद के मौके पर कब्र पर फूल चढ़ाने आए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, स्पेशल ब्राँच में एएसआई कृष्णकुमार भवसिंह कब्रिस्तान पहुँचे और ईद के लिए उमड़ी भीड़ की तस्वीरें लेने लगे। इसी दौरान भीड़ में से कुछ लोगों ने उन्हें देख लिया और उन पर हमला कर उनका मोबाइल फोन छीन लिया।

जब पुलिस अधिकारी अपनी ड्यूटी कर रहा था, तो भीड़ के कुछ लोगों ने कहा, “यह आदमी भीड़ की तस्वीर ले रहा है, उसे पीटकर उसका फोन छीन लो। क्या हुआ अगर वो एक पुलिसकर्मी है।” फिर क्या था उकसावे के बाद इकट्ठी हुई मुस्लिम भीड़ ने पुलिसकर्मी को पीट दिया। हालाँकि, किसी तरह से एएसआई अपनी जान बचाकर वहाँ से निकल गए।

बाद में उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। शुरुआती जाँच में पता चला है कि कुछ आरोपितों के खिलाफ पहले से केस दर्ज हैं। वहीं बाकियों की तलाश कर पुलिस उनकी गिरफ्तारी की कोशिश कर रही है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के बढ़ते केस के बीच गुजरात सरकार ने वायरस के प्रसार को रोकने के लिए बड़ी सभाओं पर रोक लगा रखी है। इसी कड़ी में एएसआई भव सिंह अपने सीनियर अधिकारियों के आदेश का पालन करते हुए कब्रिस्तान पहुँच थे, जहाँ कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया जा रहा था। वहाँ पर भारी भीड़ देख उसका सबूत इकट्ठा करने के इरादे से उन्होंने भीड़ की फोटो खींची, लेकिन भीड़ ने फोटो खींचते देख कर उन पर हमला कर दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

निहंगों ने की दलित युवक की हत्या, शव और हाथ काट कर लटका दिए: ‘द टेलीग्राफ’ सहित कई अंग्रेजी अख़बारों के लिए ये ‘सामान्य...

उन्होंने (निहंगों ) दलित युवक की नृशंस हत्या करने के बाद दलित युवक के शव, कटे हुए दाहिने हाथ को किसानों के मंच से थोड़ी ही दूर लटका दिया गया।

मुस्लिम भीड़ ने पार्थ दास के शरीर से नोचे अंग, हिंदू परिवार में माँ-बेटी-भतीजी सब से रेप: नमाज के बाद बांग्लादेश में इस्लामी आतंक

इस्‍कॉन से जुड़े राधारमण दास ने ट्वीट कर बताया कि पार्थ को बुरी तरह से पीटा गया था कि जब उनका शव मिला तो शरीर के अंदर के हिस्से गायब थे। 

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,877FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe