Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजजहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की...

जहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की जय: मुर्दों को देख कसाब को आई थी उल्टी

अजमल कसाब इतना बड़ा डरपोक या फट्टू था कि जब पुलिस कमिश्नर मारिया उसे शव-गृह ले गए, तो उसे मुर्दों को देख कर उल्टी आ गई थी।

आतंकी के एक हाथ में कलावा और फिर उन्हीं हाथों से थामे एके-47, हिंदू के नाम का पहचान पत्र, और फिर हिरासत में आने पर आसानी से भारत माता की जय बोलना, यह सब दिखने और सुनने में भले ही आसान लग सकता है, लेकिन इसे समझना इतना आसान नहीं था। 26/11 के हमलावरों को हिंदू आतंकवाद साबित करने की यह एक साजिश थी, जो नाकाम हो गई। इस बात का खुलासा तत्कालीन मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने अपने द्वारा लिखी एक किताब में किया है।

राकेश मारिया ने ‘Let Me Say It Now’ नाम की लिखी अपनी एक किताब में एक नहीं बल्कि ऐसे कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। मारिया की किताब ने उन कई रहस्यों से भी परदा उठाया है, जो अभी तक सिर्फ एक राज बने हुए थे। किताब में राकेश मारिया ने लिखा है कि सुबह साढ़े चार बजे वो कसाब से कहते हैं कि वो अपना माथा ज़मीन से लगाए… और उसने ऐसा ही किया। इसके बाद जब कसाब खड़ा हुआ तो राकेश मारिया ने कहा, “भारत माता की जय बोल” कसाब ने फिर ऐसा ही किया। मारिया दोबारा भारत माता की जय बोलने के लिए कहते हैं और ऐसा ही करता है। तब के पुलिस कमिश्नर मारिया कसाब को शव-गृह भी ले गए थे, जहाँ उसे मुर्दों को देख कर उल्टी आ गई थी।

पूर्व मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने किताब में लिखा है कि कसाब को पाकिस्तानी आकाओं की ओर से हिंदू बनाकर भेजा गया था और मुंबई हमले को हिंदू आतंकी हमले की तरह पेश किए जाने की योजना थी। इसके लिए उसे बेंगलुरु के हिंदू निवासी के तौर पर पेश करने की योजना थी और समीर दिनेश चौधरी नाम का आईडी कार्ड देकर भारत भेजा गया था। इतना ही नहीं, उसके एक हाथ में कलावा भी बांधा गया था, जिससे साफ हो सके कि हमला करने वाले आतंकी हिंदू हैं, लेकिन यह सभी योजना काम नहीं आ सकी और आख़िर में उसकी पहचान पाकिस्तान के फरीदकोट के रहने वाले अजमल आमिर कसाब के तौर पर उजागर हो गई। यहाँ तक कि उसने खुद अपना गुनाह भी कबूल कर लिया था।

मारिया की किताब में यह भी दावा किया गया कि आतंक के आकाओं ने कसाब को बताया था कि भारत में मुस्लिमों को नमाज नहीं पढ़ने दी जाती, लेकिन जब कसाब को मेट्रो सिनेमा के पास एक मस्जिद में ले जाया गया तो वह मस्जिद देखकर बेसुध हो गया। जब उसने अपने लॉकअप से पाँच वक्त की नामज की आवाज सुनी, तो उसे अपनी गलतियों का धीर-धीरे अहसास हो गया।

किताब में लिखा गया है कि इसके बाद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को कसाब को मारने की सुपारी दी थी, क्योंकि उसे डर था कि अब पाकिस्तान की करतूतें सामने आ सकती हैं। किताब में यह भी जिक्र है कि हमले पर भेजे जाने से पहले कसाब को 1.25 लाख रुपए और एक हफ्ते की छुट्टी मिली थी। इन पैसों को कसाब ने अपनी बहन की शादी के लिए परिवार को दिए थे।

राकेश मारिया ने आतंकी अजमल कसाब से जुड़ा एक और खुलासा किया है कि कसाब की तस्वीर को मुंबई पुलिस ने नहीं बल्कि केंद्रीय एजेंसियों ने लीक किया था, जबकि मुंबई पुलिस तो कसाब की पहचान उजागर ही नहीं होने देना चाहती थी।

गौरतलब है कि कसाब सहित 10 आतंकियों ने समुद्र के रास्ते मुंबई में प्रवेश कर ताज होटल, नरीमन हाउस, छत्रपति शिवाजी समेत कई स्थानों को अपना निशाना बनाया था। इस हमले में 166 बेगुनाह लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 308 से अधिक लोग घायल हुए थे। सेना ने कार्रवाई में कसाब को छोड़कर सभी को मौके पर ही मार गिराया गया था। बाद में कसाब को दोषी पाए जाने पर उसे 21 नवंबर 2012 को पुणे जेल में फाँसी दे दी गई थी। वह पहला विदेशी था, जिसे भारत में फाँसी दी गई थी। 

नमाज, 1.25 लाख रुपए और बहन की शादी… 26/11 हमले के पीछे ‘हिंदू आतंकी’ कसाब की कहानी

हाथ में कलावा, समीर चौधरी नाम की ID: ‘हिंदू आतंकी’ की तरह मरना था कसाब को – पूर्व कमिश्नर ने खोला राज

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय हॉकी का ‘द ग्रेट वॉल’: जिसे घेर कर पीटने पहुँचे थे शिवसेना के 150 गुंडे, टोक्यो ओलंपिक में वही भारत का नायक

शिवसेना वालों ने PR श्रीजेश से पूछा - "क्या तुम पाकिस्तानी हो?" अपने ही देश में ये देख कर उन्हें हैरत हुई। टोक्यो ओलंपिक के बाद सब इनके कायल।

अफगानिस्तान के सबसे सुरक्षित इलाके में तालिबानी हमला, रक्षा मंत्री निशाना: ब्लास्ट-गोलीबारी, सड़कों पर ‘अल्लाहु अकबर’

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के विभिन्न हिस्सों में गोलीबारी और बम ब्लास्ट की आवाज़ें आईं। शहर के उस 'ग्रीन जोन' में भी ये सब हुआ, जो कड़ी सुरक्षा वाला इलाका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe