Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाज'फेसबुक पोस्ट डिलीट करो, आगे से सावधान रहो': इलाहाबाद HC का आदेश, चंपत राय...

‘फेसबुक पोस्ट डिलीट करो, आगे से सावधान रहो’: इलाहाबाद HC का आदेश, चंपत राय के खिलाफ पत्रकार ने लगाए थे आरोप

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दूरदर्शन के पूर्व एंकर विनीत नारायण को आगाह किया कि वो आगे से इस तरह से फेसबुक पोस्ट लिखने में सावधानी बरतें।

‘विश्व हिंदू परिषद (VHP)’ के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष और ‘राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र’ ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय पर एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से आपत्तिजनक और अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में 3 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई थी। आरोपितों में दूरदर्शन के एंकर रहे विनीत नारायण का नाम भी शामिल था। कुछ दिनों पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले में विनीत नारायण को गिरफ़्तारी से राहत प्रदान की थी। चंपत राय के भाई ने विनीत नारायण के आरोपों को झूठा और साजिश करार दिया था।

अब इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पत्रकार विनीत नारायण को आदेश दिया है कि वो चंपत राय और उनके परिवार के खिलाफ पोस्ट किए गए फेसबुक पोस्ट को डिलीट करें। चंपत राय के भाई संजय कुमार बंसल ने भी कहा है कि फेसबुक पोस्ट हटा लिए जाने के बाद वो इस मामले को आगे नहीं बढ़ाना चाहते हैं। उन्होंने अपने अधिवक्ता के जरिए उच्च न्यायालय को बताया कि ये फेसबुक पोस्ट गलत और तथ्यों से परे है।

उन्होंने ये भी कहा कि बुरी नीयत से इस फेसबुक पोस्ट को लिखा गया था। बिजनौर के एसपी धर्मवीर सिंह ने इस मामले में काउंटर एफिडेविट दायर किया था। विनीत नारायण के वकील ने कोर्ट में ही 10 मिनट का समय माँग कर फेसबुक पोस्ट को डिलीट किया। साथ ही आश्वस्त किया कि आरोपित आगे से इस तरह के फेसबुक पोस्ट लिखने में सावधानी बरतेंगे। इस पर बंसल ने कहा कि फेसबुक पोस्ट डिलीट किए जाने के बाद वो आरोपितों के खिलाफ केस आगे नहीं बढ़ाना चाहते।

हालाँकि, एसपी के एफिडेविट को लेकर कोर्ट ने उन्हें फटकार भी लगाई और कहा कि ये पुलिस के गिरते स्टैण्डर्ड को दिखाता है। इस एफिडेविट को पढ़ने के बाद कोर्ट ने लापरवाही को लेकर ये टिप्पणी की। हालाँकि, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विनीत नारायण को भी आगाह किया कि वो आगे से इस तरह से फेसबुक पोस्ट लिखने में सावधानी बरतें। विनीत के आरोपों के बाद चंपत राय के खिलाफ मीडिया में भी काफी नेगेटिव कवरेज हुई थी।

फेसबुक पोस्ट में गाली-गलौज की भाषा का भी उपयोग किया गया था और साथ ही हिन्दुओं को ठेस पहुँचाने वाली बातें थीं। दरअसल, संजय बंसल को उनके मित्र राजीव गुप्ता ने ये पोस्ट व्हाट्सएप्प के माध्यम से भेजा था और कहा था कि वो उनके परिवार का पहले काफी सम्मान करते थे, लेकिन ये पढ़ कर लगता है कि चंपत राय और उनके परिवार सम्मान के योग्य नहीं है। इससे संजय बंसल को खासी ठेस पहुँची थी।

विनीत नारायण ‘DD1’ के एंकर रहे हैं और फ़िलहाल ‘द ब्रज फाउंडेशन’ के अध्यक्ष हैं। JNU से पढ़े विनीत नारायण ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में भी रिपोर्टर और ‘हिंदुस्तान’ में कॉरेस्पोंडेंट रहे हैं। उन्होंने अलका लाहोटी नामक महिला की संपत्ति पर कब्ज़ा करने का आरोप चंपत राय पर लगाया था। बता दें कि चंपत राय अविवाहित हैं और अपने घर न के बराबर ही आते-जाते हैं। चंपत राय सुप्रीम कोर्ट में चली राम मंदिर के मुकदमे की सुनवाई में मुख्य पैरोकार एवं पक्षकार रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,829FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe