Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'अदाएँ कोठे वाली': ABP न्यूज एंकर रूबिका लियाकत पर अभद्र टिप्पणी करने वाले AMU...

‘अदाएँ कोठे वाली’: ABP न्यूज एंकर रूबिका लियाकत पर अभद्र टिप्पणी करने वाले AMU छात्र मो आरिफ के खिलाफ शिकायत दर्ज

सोशल मीडिया पर आए एक पोस्टर में एबीपी न्यूज एंकर रुबिका लियाकत की तुलना एक जानवर से की गई थी, साथ ही रुबिका को कई न्यूज एंकरों के साथ वाली फोटो डालकर उनकी अदाओं को कोठे वाली महिलाओं के जैसा बताया गया था। इस पोस्ट को आरोपित छात्र मोहम्मद आरिफ खान ने अपने फेसबुक पोस्ट से शेयर किया था।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कॉलर निखिल माहेश्वरी पर महिला को अपमानित करने का आरोप लगाकर थाने में मुकदमा दर्ज कराने वाले एएमयू के छात्र मो. आरिफ खान खुद एक महिला पत्रकार को अपमानित करने का आरोपित है। एएमयू के पूर्व छात्र विक्रांत जौहरी ने महिला पत्रकार रुबिका लियाकत को लेकर अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में आरिफ खान के खिलाफ सिविल लाइन थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। इसके बाद पुलिस मामले की जाँच में जुट गई है।

एएमयू के पूर्व छात्र विक्रांत जौहरी ने ऑपइंडिया से बात करते हुए बताया कि एक महिला के सम्मान की दुहाई देकर हिंदू छात्रों को निशाना बनाने वाले छात्र मोहम्मद आरिफ खान खुद एक महिला विरोधी मानसिकता रखते हैं। इस बात का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि उन्होंने एक अल्पसंख्य समुदाय से आने वाली महिला पत्रकार रुबिका लियाकत को अपमानित करने वाली पोस्ट को अपने सोशल मीडिया एकाउंट से शेयर किया था।

विक्रांत जौहरी ने कहा कि इस मामले को अब हमने पुलिस प्रशासन के सामने रखा है साथ ही सिविल लाइन थाने में लिखित में शिकायत देकर छात्र आरिफ के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की माँग की है, जिससे कि ऐसी मानसिकता वाले छात्रों को सबक सिखाया जा सके।

आपको बता दें कि 12 अप्रैल सोशल मीडिया पर आए एक पोस्टर में एबीपी न्यूज एंकर रुबिका लियाकत की तुलना एक जानवर से की गई थी, साथ ही रुबिका को कई न्यूज एंकरों के साथ वाली फोटो डालकर उनकी अदाओं को कोठे वाली महिलाओं के जैसा बताया गया था। इस पोस्ट को आरोपित छात्र मोहम्मद आरिफ खान ने अपने फेसबुक पोस्ट से शेयर किया था।

वहीं सोशल मीडिया पर आते ही इस मामले ने इतना तूल पकड़ लिया कि आरिफ ने आनन-फानन में पोस्ट को डिलीट कर दिया। आपको बता दें कि मोहम्मद आरिफ के द्वारा इस तरह का कृत्य किया जाना कोई पहली बार की घटना नहीं है। इससे पहले भी तथाकथित छात्र नेता आरिफ खान ने सीएए, एनआरसी के विरोध में एएमयू कैंपस में हुए धरना प्रदर्शन में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था और हिंदुत्व की कब्र, योगी-मोदी की कब्र खोदने का नारा देने वाले ग्रुप में आरिफ के भी शामिल होने का आरोप है।

इतना ही नहीं एएमयू में हुए जिन्ना विवाद की भी आरिफ खान ने अगुआई की थी। इससे पहले आरिफ के खिलाफ भड़काऊ भाषण और 12 फरवरी को हिंदू छात्रों पर हमला करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। इस मामले में एसआईटी की जाँच टीम ने भी आरिफ को दोषी पाया था।

गौरतलब है कि रिसर्च स्कॉलर निखिल माहेश्वरी द्वारा 4 मई को सफूरा जरगर को लेकर सोशल मीडिया पर एक व्यंगात्मक पोस्ट की गई थी। इसके बाद आरिफ ने महिलाओं के सम्मान की दुहाई देते हुए निखिल के खिलाफ सिविल लाइन थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद पता चला कि आरिफ ने भी 12 अप्रैल को रुबिका को अपमानित करने वाली एक पोस्ट को शेयर किया था। इसके बाद यह बात सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो गई।

गौरतलब है कि अरब देशों की तरह अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) में हिंदू छात्रों को निशाना बनाया जा रहा है। कुछ हिंदू छात्रों के सोशल मीडिया पोस्ट का स्क्रीनशॉट लेकर उन्हें जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। इतना ही नहीं ऐसे छात्रों को अंदरखाने एएमयू से निष्कासित कराने की योजना बनाई जा रही है। अब जिला प्रशासन ने पूर्व छात्र निशित शर्मा की शिकायत पर इस मामले में कार्रवाई शुरू कर दी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe