Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजपालतू कुत्ते को आग से बचाने की कोशिश में सेना के अधिकारी ने गँवाई...

पालतू कुत्ते को आग से बचाने की कोशिश में सेना के अधिकारी ने गँवाई जान

मेजर अंकित ने अपनी पत्नी और कुत्ते को तो सुरक्षित बचा लिया लेकिन दुर्भाग्यवश इसके बाद मेजर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

जम्मू-कश्मीर में आग से अपने पालतू कुत्ते को बचाने की कोशिश में सेना के एक अधिकारी ने अपनी जान दाँव पर लगा दी। दरअसल, बारामूला जिले के गुलमर्ग क्षेत्र में अपने पालतू कुत्ते को आग से बचाते वक्त मेजर अंकित बुद्धराज बुरी तरह जल गए। मेजर अंकित ने अपनी पत्नी और कुत्ते को तो सुरक्षित बचा लिया लेकिन दुर्भाग्यवश इसके बाद मेजर की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, शनिवार (फरवरी 29, 2020) करीब 2 बजे अचानक ही मेजर अंकित बुद्धराज के घर में आग लग गई थी। घटना के समय घर के अंदर ही मौजूद मेजर अंकित ने साहस का परिचय देते हुए तुरंत अपनी पत्नी और एक कुत्ते को आग से बचाते हुए सफलता पूर्वक बाहर निकाल लिया।

इसके बाद वह फिर आग से घिरे अपने घर के दूसरे कुत्ते को बचाने के लिए चले गए। तब तक आग पूरे घर में तेजी से फैल गई थी। दूसरे कुत्ते को बचाने की कोशिश में मेजर अंकित का शरीर 90% आग से झुलस गया। जिसके कारण मौके पर ही उनकी मौत हो गई। बता दें कि उनकी पत्नी और दोनों कुत्ते सुरक्षित हैं। मेजर अंकित गुलमर्ग के एसएसटीसी में अटैच थे।

सूचना पाकर मौके पर पहुँची फायर ब्रिगेड की टीम ने आग पर काबू पा लिया था। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मेजर अंकित के शव को चिकित्सकीय-कानूनी औपचारिकताओं के लिए उप-जिला अस्पताल में भेजा। पुलिस अभी आग लगने की वजह शॉर्ट-सर्किट बता रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: चुनाव में कर्जमाफी का वादा… अब मुकर गई कॉन्ग्रेसी सरकार, किसानों को मिल रहे कुर्की के नोटिस

प्रदेश में तमाम किसान हैं जिन्होंने 1 लाख रुपए से लेकर साढ़े 3 लाख रुपए तक लोन लिया था, और अब उनके पास नोटिस गए हैं। बैंक उन्हें कुर्की के नोटिस भेज रहा है।

सिद्धू के नाम ऑडियो, कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की आत्महत्या: कहा – ‘पार्टी को 30 साल दिए, शादी भी नहीं… कोई फायदा नहीं’

ऑडियो के मुताबिक किसी प्लॉट संबंधी एक मामले में बाजवा को फँसाने की तैयारी चल रही थी, इसी से आहत होकर उन्होंने आत्महत्या का फैसला किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,980FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe