Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाज'बेटे को हाथ लगाने से पहले...' : 'जवान' के इस डायलॉग का समीर वानखेड़े...

‘बेटे को हाथ लगाने से पहले…’ : ‘जवान’ के इस डायलॉग का समीर वानखेड़े ने दिया धाँसू जवाब, आर्यन खान मामले में NCB के पूर्व जोनल डायरेक्‍टर को मिली बड़ी राहत

पिछले दिनों जब फिल्‍म का ट्रेलर आया, तब अचानक समीर वानखेड़े फिर से चर्चा में आ गए। फिल्‍म में एक डायलॉग है, जहाँ शाहरुख का किरदार कहता है, "बेटे को हाथ लगाने से पहले, बाप से बात कर।"

शाहरुख खान की फिल्म जवान का एक डायलॉग चर्चा में है वहीं के बेटे आर्यन खान से जुड़े कॉर्डेलिया ड्रग्‍स मामले में NCB के पूर्व जोनल डायरेक्‍टर समीर वानखेड़े को राहत मिली है जिससे मामले ने नया मोड़ ले लिया है। समीर पर आर्यन खान को बचाने के लिए 25 करोड़ रुपए घूस माँगने का आरोप लगा था। दरअसल, साल 2021 के कॉर्डेलिया क्रूज ड्रग्‍स केस में नारकोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो ने आर्यन खान को ड्रग्‍स का सेवन करने, ड्रग्‍स रखने और ड्रग्‍स खरीदने-बेचने का आरोप लगाया था।

ट्रिब्यूनल ने दी समीर को राहत 

इसी मामले में समीर वानखेड़े पर आरोप है कि उन्‍होंने आर्यन खान को गिरफ्तार करने की साजिश रची और फिर फिरौती के तौर पर 25 करोड़ की डिमांड की। अब सेंट्रल एमिनिस्‍ट्रेटिव ट्रब्‍यूनल (CAT) ने इस जाँच पर ही सवाल उठा दिए हैं। जिससे पूरा मामला ही बदलता नजर आ रहा हैं। 

जहाँ आर्यन को इस मामले में SIT की जाँच के बाद NCB ने क्‍लीन चिट दे दी थी। वहीं अब इस मामले में समीर को भी बड़ी राहत मिलने की खबर है। ‘ईटाइम्‍स’ की रिपोर्ट्स के मुताबिक, CAT ने अपने आदेश में वानखेड़े के ख‍िलाफ जाँच कर रही विशेष जाँच दल में NCB के डिप्‍टी डायरेक्‍टर जनरल ज्ञानेश्‍वर सिंह की मौजूदगी पर सवाल उठाए हैं। दरअसल, क्रूज पर जो छापेमारी हुई थी, उसके लिए समीर वानखेड़े ने जिन अध‍िकारियों से निर्देश लिए थे, उनमें ज्ञानेश्‍वर सिंह भी थे। ऐसे में CAT ने कहा है कि जिस अध‍िकारी ने आदेश दिए, वो खुद कैसे जाँच में शामिल हुआ।

पीठ ने कहा कि वानखेड़े अगर चाहें तो कैट के आदेश को रिकॉर्ड पर रखते हुए हलफनामा दायर कर सकते हैं। न्यायाधिकरण के अध्यक्ष न्यायमूर्ति रंजीत मोरे और सदस्य आनंद माथुर ने 21 अगस्त के अपने आदेश में कहा कि एनसीबी अधिकारी ज्ञानेश्वर सिंह विशेष जाँच दल (एसईटी) का हिस्सा नहीं हो सकते थे जो वानखेड़े के खिलाफ जाँच कर रहे थे। 

अधिकरण ने अपने आदेश में कहा, हमारी राय में प्रतिवादी संख्या चार (ज्ञानेश्वर सिंह) जाँच में सक्रिय रूप से शामिल होने के कारण एसईटी का हिस्सा नहीं हो सकते थे, जिसका गठन जब्ती के दौरान अधिकारियों की ओर से कथित प्रक्रियागत चूक की जाँच करने और उपरोक्त अपराध के संबंध में आगे की कार्रवाई के लिए किया गया था। हालाँकि, कैट ने एनसीबी की इस दलील पर गौर किया कि एसईटी रिपोर्ट प्रारंभिक प्रकृति की है और वानखेड़े के खिलाफ कार्रवाई के संबंध में केंद्र सरकार और एनसीबी द्वारा स्वतंत्र निर्णय लिया जाएगा।

गौरतलब है कि ट्रिब्‍यूनल समीर वानखेड़े की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें ज्ञानेश्वर सिंह की अध्यक्षता वाली SET के निष्कर्षों के मुताब‍िक, उनके खिलाफ सीबीआई द्वारा दर्ज जबरन वसूली और रिश्वतखोरी के मामले को रद्द करने की माँग की गई थी। मामले में समीर वानखेड़े के साथ ही चार अन्य पर शाहरुख़ खान से 2021 में उनके बेटे आर्यन को फँसाने के लिए 25 करोड़ रुपए की रिश्वत की माँग की थी।

‘जवान’ के डायलॉग का क्या है समीर कनेक्‍शन

शाहरुख खान इन आज रिलीज हुई अपनी फिल्‍म ‘जवान’ के प्रचार के सिलसिले में मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं। यह फिल्‍म आज गुरुवार (7 सितम्बर, 2023) को जन्‍माष्‍टमी के मौके पर रिलीज हुई है। वहीं पिछले दिनों जब फिल्‍म का ट्रेलर आया, तब अचानक समीर वानखेड़े फिर से चर्चा में आ गए। फिल्‍म में एक डायलॉग है, जहाँ शाहरुख का किरदार कहता है, “बेटे को हाथ लगाने से पहले, बाप से बात कर।”

सोशल मीडिया पर यह डायलॉग खूब वायरल हुआ था। जहाँ फैंस का कहना था कि ऐसा लगता है शाहरुख ने यह डायलॉग समीर वानखेड़े के लिए ही बोला है। वहीं इस डायलॉग के वायरल होने के बाद समीर वानखेड़े ने भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर निकोल लियोन्स का लिखा एक क्रिप्‍ट‍िक पोस्‍ट किया। उन्‍होंने लिखा, “मैंने आग का स्‍वाद लिया है और हर उस पुल की राख पर डांस किया है, जिसे मैंने कभी जलाया है। मुझे आपसे कोई डर नहीं है।”

बता दें कि शाहरुख खान की नवीनतम फिल्म ‘जवान’ में नयनतारा, विजय सेतुपति, सान्या मल्होत्रा, प्रियामणि के साथ-साथ दीपिका पादुकोण और थलपति विजय भी हैं। यह फिल्म एटली द्वारा निर्देशित रेड चिलीज़ एंटरटेनमेंट की प्रस्तुति है। फिल्म की निर्माता गौरी खान हैं, और गौरव वर्मा  सह निर्माता हैं। फिल्म को हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा में रिलीज किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जो प्रधानमंत्री है खालिस्तानी आतंकियों का ‘हमदर्द’, उसने अब दिलजीत दोसांझ को दिया ‘सरप्राइज’: PM ट्रुडो से मिलकर बोले भारतीय सिंगर- विविधता कनाडा की...

कनाडा पीएम ट्रुडो जो हमेशा से खालिस्तानी आतंकियों के 'हमदर्द' बनकर रहे उन्होंने हाल में दिलजीत दोसांझ को कनाडा में 'सरप्राइज' दिया।

कॉन्ग्रेस के चुनावी चोचले ने KSRTC का भट्टा बिठाया, ₹295 करोड़ का घाटा: पहले महिलाओं के लिए बस सेवा फ्री, अब 15-20% किराया बढ़ाने...

कर्नाटक में फ्री बस सेवा देने का वादा करना कॉन्ग्रेस के लिए आसान था लेकिन इसे लागू करना कठिन। यही वजह है कि KSRTC करोड़ों के नुकसान में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -