Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजविकास दुबे के बाद MP पुलिस ने किया शूटर मोहम्मद अख्तर को गिरफ्तार, अतीक...

विकास दुबे के बाद MP पुलिस ने किया शूटर मोहम्मद अख्तर को गिरफ्तार, अतीक अहमद गैंग से जुड़े हैं इसके तार

शहडोल पुलिस ने यूपी के इलाहाबाद के प्रयागराज जिला अतासुइया थाना क्षेत्र के रहने वाले शूटर मो अख्तर को जिले के सोहागपुर थाना क्षेत्र से पकड़ा है। यह यूपी के नामी बदमाश अतीक अहमद गैंग का हिस्सा है। इसके ख़िलाफ़ करीब 10 से 12 संगीन अपराध दर्ज हैं।

विकास दुबे के बाद मध्यप्रदेश की पुलिस ने शहडोल से यूपी के एक और कुख्यात बदमाश को गिरफ्तार किया है। बदमाश की पहचान शूटर मोहम्मद अख्तर के रूप में हुई है। खबर है कि ये बदमाश अतीक अहमद गैंग से जुड़ा हुआ था। यूपी पुलिस को मोहम्मद अख्तर की तलाश लंबे समय से थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शहडोल पुलिस ने यूपी के इलाहाबाद के प्रयागराज जिला अतासुइया थाना क्षेत्र के रहने वाले शूटर मो अख्तर को जिले के सोहागपुर थाना क्षेत्र से पकड़ा है। यह यूपी के नामी बदमाश अतीक अहमद गैंग का हिस्सा है। इसके ख़िलाफ़ करीब 10 से 12 संगीन अपराध दर्ज हैं।

शहडोल पुलिस के अनुसार, उन्हें सूचना मिली थी कि उत्तरप्रदेश का ये बदमाश शहडोल में आया हुआ है। इसके बाद उन्होंने इसकी धड़पकड़ के लिए कोनी में स्थित एक घर में दबिश दी। जहाँ से इसे गिरफ्तार किया गया। ये घर अख्तर के भाई शफीक का था। पूछताछ में अख्तर ने बताया कि उसके तार अतीक अहमद गैंग से जुड़े हैं।

अब पुलिस मुख्यत: इस बात की जाँच कर रही है कि आखिर शहडोल से उसका क्या कनेक्शन है? और वो यूपी से वहाँ क्यों गया? अभी तक की पड़ताल में पुलिस ने पाया है कि शूटर मो अख्तर उर्फ बालम यूपी के गैंगस्टर अतीक का खास आदमी है। उसका शहडोल से पुराना नाता रहा है।

एसपी का कहना है कि मो अख्तर के ख़िलाफ़ स्थानीय स्तर पर कोई अपराध दर्ज नहीं है। लेकिन यूपी पुलिस से संपर्क किया जा रहा है। यदि यूपी में कोर्ट के आदेश पर छूटा हुआ है तो कहीं भी आने जाने की मनाही नहीं है। यदि यूपी के किसी भी जिले में अपराध पेंडिंग होंगे तो वहाँ की पुलिस को सौंपने की कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि पिछले दिनों बिकरु गाँव में हुई वारदात के बाद से यूपी पुलिस के निशाने पर कई ऐसे शातिर अपराधी हैं जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस अब पूरी तरह एक्शन में आ गई है।

पुलिस इस समय उन सभी गिरोहों का पता लगा रही है, जिन्होंने हत्या, लूट, छिनैती करने वालों के साथ भू-माफिया, गोहत्या व गौतस्करी जैसे अपराधों को अंजाम दिया। इस बीच उनके निशाने पर खासतौर पर अतीक अहमद की गैंग है। जिसके चलते गैंग से जुड़े सभी लोगों पर निगरानी बढ़ा दी गई है।

इसके अतिरिक्त मुकदमे में जमानत पर जेल से बाहर घूमने वाले और घटनाओ को अंजाम देने वालो की जमानत निरस्त करने की बात भी पिछले दिनों मीडिया में आई है। पुलिस रिकार्ड में पूर्व सांसद अतीक अहमद का इंटर स्टेट यानी आइएस-227 सबसे बड़ा गैंग है। इसमें उसके भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ समेत कुल 121 सदस्य हैं।

कौन है अतीक अहमद?

यहाँ बता दें, इलाहाबाद पश्चिम से 5 बार विधायक रह चुके अतीक अहमद को पिछले साल अहमदाबाद के साबरमती सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया गया था। उसने पिछले साल वाराणसी से पीएम मोदी के ख़िलाफ़ ताल ठोकने का मन बनाया था। लेकिन अंतिम समय में अपने पाँव पीछे खींच लिए। अतीक फूलपुर लोकसभा क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के टिकट पर सांसद भी रह चुका है। 2016 में कृषि विश्वविद्यालय (SHUATS) के कर्मचारियों की उसने बुरी तरह पिटाई की थी। इस घटना के बाद अखिलेश सरकार की ख़ूब भद्द पिटी थी। अभी अतीक अहमद गुजरात जेल में है। उसके खिलाफ 1979 से 2019 तक कुल 109 केस लंबित है।

उस पर आरोप है कि दिसंबर 2018 में देवरिया जेल में बंद रहने के दौरान अतीक ने अपने साथियों के द्वारा लखनऊ के आलमबाग क्षेत्र के निवासी मोहित जायसवाल का अपहरण करवा लिया और फिर जेल में ले जाकर उसके साथ मारपीट की गई। मोहित का आरोप था कि इस दौरान उनसे संपत्ति से जुड़े कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर भी करा लिए गए। राज्य सरकार ने भी इस घटना की पुष्टि की थी और कहा था कि उस दिन जेल में लगे सीसीटीवी कैमरों के साथ भी छेड़छाड़ की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे’: संजय राउत ने कामाख्या मंदिर और छठ पूजा को भी नहीं छोड़ा, कहा – मोदी-शाह...

संजय राउत ने कहा "हम शिवसेना हैं, हमारा डर ऐसा है कि हमें देख कर मोदी-शाह भी रास्ता बदल लेते हैं।" कामाख्या मंदिर और छठ पर्व का भी अपमान।

‘हाऊ कैन यू रोक’ : आजमगढ़ में निरहुआ से चुनाव हार कर अखिलेश यादव के भाई भूल गए अंग्रेजी, Video देख नहीं रुकेगी हँसी

आजमगढ़ उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के कैंडिडेट और अखिलेश यादव के भाई धर्मेंद्र यादव ने पुलिस अधिकारियों से की तू-तू, मैं-मैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe