Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजशिया वक्फ बोर्ड की कई बीघा जमीन पर अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी का...

शिया वक्फ बोर्ड की कई बीघा जमीन पर अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी का कब्जा, मुक्त कराने के लिए CM योगी को लिखा पत्र

वक्फ बोर्ड से संबंधित जमीनों को हड़पने में अतीक अहमद और उसके गिरोह की भूमिका उसकी मौत के बाद सामने आई है। यह मामला तब सामने आया जब उत्तर प्रदेश पुलिस अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्तियों की जाँच कर रही है।

मृतक माफिया अतीक अहमद और जेल में बंद मुख्तार अंसारी ने वक्फ बोर्ड की जमीन पर भी कब्जा कर रखा है। उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड (UPSCWB) ने इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। उनसे इनके कब्जे वाली जमीनों को मुक्त कराने के लिए हस्तक्षेप का आग्रह किया है।

लाइव हिन्दुस्तान की एक रिपोर्ट के मुताबिक बोर्ड ने यूपी सरकार को पत्र लिखकर दोनों माफियाओं और उनके परिवारों के कब्जे वाली जमीन और संपत्तियों के बड़े हिस्से को मुक्त करने का आग्रह किया है। पत्र में कहा है कि गैंगस्टर अतीक अहमद के गुर्गों ने प्रयागराज के इमामबाड़ा गुलाम हैदर के छोटी कर्बला की कई बीघा जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है। लखनऊ के सआदतगंज क्षेत्र में अलल औलाद वक्फ के मुतवल्ली ने शिकायत की है कि वक्फ की 10-12 बीघा जमीन में से कई बीघे पर अवैध रूप से कब्जा है।

मुतवल्ली के हवाले से यह भी कहा गया है कि माफिया मुख्तार अंसारी की बीवी अफशां अंसारी उस फर्म की निदेशक हैं, जिसने अवैध रजिस्ट्री के जरिए जमीनों पर प्लॉटिंग कराई थी। शिया वक्फ बोर्ड के अधिकारियों ने यह भी आरोप लगाया कि प्रयागराज में छोटा कर्बला की जमीन से अवैध कब्जा हटवाने के लिए स्थानीय प्रशासन को कई बार पत्र लिखे, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

दिलचस्प बात यह है कि वक्फ बोर्ड से संबंधित जमीनों को हड़पने में अतीक अहमद और उसके गिरोह की भूमिका उसकी मौत के बाद सामने आई है। यह मामला तब सामने आया जब उत्तर प्रदेश पुलिस अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्तियों की जाँच कर रही है। जाँच में सामने आया है कि मारे गए माफियाओ-गैंगस्टर ने अपने व्यावसायिक इस्तेमाल के लिए वक्फ की संपत्तियों को हड़प लिया।

बता दें कि यूपी पुलिस ने इससे पहले 2016 में प्रयागराज में जीरो रोड पर चक इलाके में वक्फ की संपत्ति हड़पने के आरोप में अतीक के एक करीबी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। उसके रिश्तेदार ने वक्फ की संपत्ति पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया था। वर्तमान में उस जमीन का इस्तेमाल कंस्ट्रक्शन मैटेरियल को बेचने के लिए किया जा रहा है।

पिछले दिनों शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष अली जैदी ने वक्फ संपत्ति पर माफियाओं के कब्जे का खुलासा करते हुए ​कहा था, “वक्फ संपत्ति पर कब्जा करना माफियाओं के लिए सबसे आसान है। अतीक अहमद ने वक्फ संपत्ति पर एक कॉम्प्लेक्स बनाया था। हमारे वक्फ की एक संपत्ति पर फर्जी दस्तावेज बनाकर अवैध रूप से कंपनी रजिस्टर कराकर प्लॉट किया गया था, जिसमें मुख्तार अंसारी की बीवी अफशा अंसारी निदेशक थी। यह जमीन करोड़ों रुपए की है। हमने प्रशासन को इसके बारे में लिखा है और इन मुद्दों को हल करने के लिए सरकार से मदद माँगी है।”

माफियाओं की जब्त की गई जमीन पर गरीबों के लिए घर

हाल ही में ऐसी खबरें सामने आई थीं कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य में माफियाओं से जब्त की गई जमीन पर गरीबों के लिए घर बना रही है। इसकी शुरुआत प्रयागराज में मृतक माफिया अतीक अहमद के कब्जे से खाली की गई जमीन से की गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG में 0.001% की भी लापरवाही हुई तो… : सुप्रीम कोर्ट ने NTA और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर माँगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर 0.001 प्रतिशत भी किसी की खामी पाई गई तो हम उससे सख्ती से निपटेंगे।

तेजस्वी यादव के बगल में खड़े इस राजा को देखिए, वहीं के व्यवसायी को सुपारी देकर मरवाया जहाँ से माँ थी RJD उम्मीदवार: हत्या...

बिहार के पूर्णिया में 2 जून, 2024 को हुई एक व्यवसायी गोपाल यादुका की हत्या की सुपारी राजद नेता बीमा भारती के बेटे राजा ने दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -