Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजझारखंड के साहिबगंज में पुलिस पर भीड़ का हमला, भाग निकला रबीउल शेख: भगदड़...

झारखंड के साहिबगंज में पुलिस पर भीड़ का हमला, भाग निकला रबीउल शेख: भगदड़ में एक की मौत

रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने पलाशगाछी पंचायत के मुखिया के घर में शरण लेकर जान बचाई। बाद में राधानगर पुलिस ने मौके पर पहुॅंच उन्हें सुरक्षित निकाला।

झारखंड के साहिबगंज जिले में एक बार फिर पुलिस पर हमला हुआ है। यह घटना तब हुई जब पुलिस सादे कपड़ों में राधानगर थाना क्षेत्र के प्राणपुर बाजार में रबीउल शेख को पकड़ने गई थी। वह ननबैंकिंग कंपनी वारिस फाइनांस में गबन का आरोपित है। घटना गुरुवार (30 सितंबर 2021) की है।

दैनिक जागरण की खबर के शेख को पकड़ने के लिए गोड्डा जिले की मेहरमा थाना पुलिस पहुँची तो उस पर भीड़ ने हमला कर दिया। इसका फायदा उठाकर आरोपित भाग निकला। पुलिस पर हमले में शामिल लोग कथित तौर पर शेख के परिचित थे। उसके खिलाफ गोड्डा जिले के ठाकुरगगंटी थाना क्षेत्र के एक व्यक्ति ने पैसे गबन करने की शिकायत दर्ज करवा रखी है।

इस संबंध में जब ऑप इंडिया गोड्डा जिले के पुलिस अधीक्षक को कॉल किया तो उन्होंने रांची में एक जरूरी मीटिंग में व्यस्त होने की बात कही। स्थानीय समाचार पोर्टल ग्लोब 24 के अनुसार मेहरमा थाने के अवर निरीक्षक के नेतृत्व में 3 पुलिसकर्मी सादी वर्दी में बोलेरो वाहन से गुरुवार प्राणपुर पहुँचे। शेख को जब वाहन में बिठाया जाने लगा तब भीड़ ने पुलिस पर हमला बोल दिया। इसके बाद भगदड़ मच गई। इसी भगदड़ में शेख भाग निकला। वहीं 50 वर्षीय अब्दुस सलाम की मौत हो गई।

रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने पलाशगाछी पंचायत के मुखिया के घर में शरण लेकर जान बचाई। बाद में राधानगर पुलिस ने मौके पर पहुॅंच उन्हें सुरक्षित निकाला। न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार सफेद कपड़ों में पुलिस के होने के कारण ग्रामीणों ने उन्हें अपहरणकर्ता समझकर हमला कर दिया। राधानगर में पुलिस बल पर हमले का ये पहला मामला नहीं है। 2017 में इसी राधानगर के प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्र में उग्र भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe