Saturday, July 24, 2021
Homeविविध विषयअन्यBCCI ने सेना, CRPF को दान किए ₹20 करोड़, CSK ने भी दिए ₹2...

BCCI ने सेना, CRPF को दान किए ₹20 करोड़, CSK ने भी दिए ₹2 करोड़

बीसीसीआई ने आईपीएल की ओपनिंग सेरेमनी आयोजित ना कर, इसके लिए निर्धारित पैसा सैन्य बलों को देने का फैसला किया। यह फैसला पिछले महीने पुलवामा में आतंकी हमले में CRPF के 40 जवानों के बलिदान होने के बाद लिया था।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने IPL-2019 की ओपनिंग सेरेमनी की जगह पर एक सराहनीय कदम उठाया है, जिसकी सराहना समस्त खेलप्रेमियों ने की है। BCCI द्वारा शनिवार (मार्च 23, 2016) को IPL 2019 के प्रारंभिक मैच के पूर्व सशस्त्र बलों और CRPF को ₹20 करोड़ प्रदान करने की घोषणा की गई है।

बीसीसीआई ने आईपीएल की ओपनिंग सेरेमनी आयोजित ना कर, इसके लिए निर्धारित पैसा सैन्य बलों को देने का फैसला किया। यह फैसला पिछले महीने पुलवामा में आतंकी हमले में CRPF के 40 जवानों के बलिदान होने के बाद लिया था। बीसीसीआई ने फैसला किया की आर्मी को ₹11 करोड़ और सीआरपीएफ को ₹7 करोड़ दिए जाएँगे। इसी तरह नेवी और एयर फोर्स को ₹1-1 करोड़ दिए जाएँगे।

बीसीसीआई प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने कहा कि इस आतंकी हमले के मद्देनजर बोर्ड ने ओपनिंग सेरेमनी नहीं करने का फैसला किया था। प्रशासकों की समिति की सदस्य डायना इडुल्जी ने कहा, “बीसीसीआई हमेशा ही ऐसे संवेदनशील मामलों में मदद के लिए आगे आता रहा है। जब भी किसी को ऐसे मामले में मदद की दरकार होगी, बीसीसीआई मदद करेगा।”

इसके साथ ही चेन्नई सुपर किंग्स और भारत के बेहतरीन खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी ने CSK की तरफ से 2 करोड़ रुपए CRPF को उनकी राष्ट्र सेवा के संज्ञान में दिया।

खेलप्रेमियों ने ट्विटर पर इस पहल की सराहना की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe