Saturday, March 6, 2021
Home देश-समाज रोज पीटता था मौलवी, माँ ने पैरों में बँधवा दी जंजीर: भरतपुर के मदरसे...

रोज पीटता था मौलवी, माँ ने पैरों में बँधवा दी जंजीर: भरतपुर के मदरसे से भागे बच्चों ने बताई आपबीती

जाँच में पता चला है कि पिटाई के डर से बच्चे भाग न जाएँ, इस वजह से बच्चे की माँ ने ही मौलवी से कहकर उसके पैर में लोहे की जंजीर बँधवाई थी। बताया जाता है कि बच्चे मदरसे की बजाए सरकारी स्कूल में पढ़ना चाहते थे।

दीनी तालीम के नाम पर चल रहे मदरसे कैसे प्रताड़ना के केंद्रों में बदल चुके हैं इसकी पुष्टि करती हुई एक और घटना सामने आई है। घटना राजस्थान के भरतपुर की है। यहॉं के एक मदरसे से तीन बच्चे मौलवी की रोजाना की पिटाई से तंग आकर भाग गए। पुलिस को संदिग्ध हालात में मिले। एक बच्चे के पैर में जंजीर बॅंधी दी। शुरुआती जॉंच से पता चला है कि बच्चा मदरसा से भाग न जाए इसलिए मॉं ने ही मौलवी से कह जंजीर बॅंधवाई थी।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार भरतपुर के मछली मोहल्ला स्थित मदरसे में रोज-रोज की पिटाई से परेशान होकर 3 बच्चे मंगलवार (फरवरी 04, 2020) सुबह भाग गए। तीनों बच्चों की उम्र क्रमश: 12,13 और 14 साल थी। पुलिस को जयपुर-आगरा हाइवे स्थित विश्व प्रिय शास्त्री पार्क में ये बच्चे संदिग्ध हालात में घूमते हुए मिले। पुलिस को इनमें से एक बच्चे के पैर में लोहे की जंजीर बँधी मिली। वक्फ बोर्ड से मान्यता प्राप्त इस मदरसे में छोटे बच्चों के लिए आवासीय सुविधा भी है। ये तीनों बच्चे भी वहीं रहकर पढ़ाई कर रहे थे।

जाँच में पुलिस को पता चला कि पिटाई के डर से बच्चे भाग न जाएँ, इस वजह से बच्चे की माँ ने ही मौलवी से कहकर उसके पैर में लोहे की जंजीर बँधवाई थी। मौलवी यूसुफ ने हालॉंकि मदरसे में बच्चों की पिटाई की बात को गलत बताया है। उसने कहा कि बच्चों को मदरसे से भागने से रोकने के लिए उनके पैरों में जंजीर बाँधी गई थी।

इस घटना के सामने आने के बाद भरतपुर जिला प्रशासन ने तीनों बच्चों को बाल सुधार गृह में भिजवाया है। साथ ही, समाज कल्याण विभाग के उप निदेशक को मामले की जाँच के आदेश दिए गए हैं। दैनिक भास्कर की रिपोर्ट में बताया गया है कि ये तीनों बच्चे मदरसे में नहीं बल्कि सरकारी मांटेसरी स्कूल में पढ़ना चाहते हैं। बच्चे के पैरों में बँधी जंजीर को खोलने के लिए मदरसे के संचालक से चाबी मँगवाई गई।

गौरतलब है कि मुस्लिम समाज आज भी मुख्यधारा की शिक्षा प्रणाली को छोड़कर दीनी तालीम को ही महत्व देना पसंद करता है। मदरसे से भागे हुए इन बच्चों की कहानी ऐसी पहली घटना नहीं है। सितंबर के महीने में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था जब भोपाल के एक मदरसे में बच्चा जंजीर से बँधा हुआ मिला था।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सितंबर 15, 2020 को पुलिस ने दो बच्चों को प्रताड़ना से मुक्त कराते हुए एक मदरसे के संचालक और उसके सहायक को गिरफ्तार किया था। इनमें से एक बच्चे की उम्र 10 साल और दूसरे की 7 साल थी। इस मदरसे में 10 साल का बच्चा चेन से बॅंधा था और उसे आजाद कराने के लिए गैस कटर का इस्तेमाल करना पड़ा था।

ऐसा केवल भारत में ही नहीं होता है। अफ्रीकी देश सेनेगल, जहॉं की डेढ़ करोड़ की आबादी में से 90 फीसदी लोग मुस्लिम हैं, वहॉं के मदरसों के अमानवीय बर्ताव सुन देह में सिहरन पैदा हो जाती है। सेनेगल में मदरसों को डारा कहते हैं। उनमें पढ़ने वाले बच्चों को तालिब और पढ़ाने वाले मौलवी को माराबू कहते हैं। डारा में कुरान के अलावा शराफत भी सिखाई जाती है। यूॅं तो शराफत का मतलब विनम्रता होता है, लेकिन डारा शराफत के नाम पर बच्चों को भीख मॉंगने के लिए मजबूर करते हैं।

मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच की रिपोर्ट के मुताबिक सेनेगल में करीब 1 लाख तालिब भीख मॉंग रहे हैं। ऐसे ज्यादातर तालिब की उम्र 12 साल से कम है। कुछ तो 4 साल के ही हैं। इसी संस्था ने 2010 के अपने अध्ययन में अनुमान लगाया था कि सेनेगल के मदरसों में पढ़ने वाले करीब 50 हजार बच्चे भीख मॉंग रहे हैं। यानी करीब 10 साल में इनकी संख्या दोगुनी हो चुकी है।

शिक्षा की इस मदरसा पद्दति से निपटने के भारत सरकार कई प्रयास करती आ रही हैं। उत्तराखंड राज्य में मुस्लिमों एवं रोजगार सम्बन्धी चहुमुखी विकास के लिए भी सरकार द्वारा ’15 सूत्रीय कार्यक्रम’ जारी किए गए थे। लेकिन प्रश्न यह है कि समाज जब अपनी मजहबी कट्टरता से स्वयं बाहर नहीं आना चाहता है तो फिर कोई और आकर हमारी मदद कैसे कर सकता है?

यही कारण है कि आज भी देश के युवाओं का एक बड़ा हिस्सा पढ़े-लिखे होने के बावजूद भी अनपढ़ ही रह जाता है। जाहिर सी बात है कि एक ओर जहाँ मुख्यधारा की शिक्षा में विज्ञान पर बात हो रही है, बच्चे प्रतिस्पर्धा के माहौल के बीच रोजाना कुछ नया सीख रहे हैं, ऐसे में मदरसे में सदियों पुरानी तालीम लेकर वह बच्चा समाज से आखिर किस तरह से जुड़ पाएगा? उसे तो यह अवसर ही नहीं दिया जा रहा है कि वह अपने व्यक्तित्व का विकास कर सके।

मदरसा छात्रों और मौलवी के मलद्वार से बहा था खून, UP पुलिस का टॉर्चर: मीडिया गिरोह की साजिश का भंडाफोड़

कुरान पढ़ाने के नाम पर मदरसा में यौन शोषण, 300 छुड़ाए गए, जंजीर से बँधे थे

मदरसा के हेडमास्टर ने 19 वर्षीय युवती का किया यौन शोषण, शिकायत करने पर लगा दी आग

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘फेक न्यूज फैक्ट्री’ कॉन्ग्रेस का पैतरा फेल: असम में BJP को बदनाम करने के लिए शेयर किया झारखंड के मॉकड्रिल का पुराना वीडियो

कॉन्ग्रेस को फेक न्यूज की फैक्ट्री कहते हुए बीजेपी के मंत्री ने लिखा, “वीडियो में 2 मिनट पर देखें, किस तरह से झारखंड के मॉक ड्रिल को असम पुलिस द्वारा शूटिंग बताया जा रहा है।”

नंदीग्राम में ममता और शुभेंदु के बीच महामुकाबला: बीजेपी ने पहले और दूसरे फेज के लिए 57 कैंडिडेट्स के नामों का किया ऐलान

पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 57 सीटों पर कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी कर दी है। नंदीग्राम सीट से ममता के अपोजिट शुभेंदु अधिकारी को टिकट दिया गया है।

‘एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार देंगे’: बंगाल पुलिस की क्रूरता के शिकार एक परिवार का...

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा आम बात है। इसी तरह की एक घटना बैरकपुर थाना क्षेत्र के भाटपाड़ा में जून 25, 2019 को भी हुई थी, जब रिलायंस जूट मिल पर कुछ गुंडों ने बम फेंके थे।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों का इनकार, कहा- पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक हो, मौत का कारण बताएँ: रिपोर्ट

मनसुख हिरेन का शव लेने से परिजनों ने इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किए जाने के बाद ही वे शव लेंगे।

राकेश टिकैत से सवाल पूछने पर ‘किसानों’ ने युवती को धमकाया, किसी ने नाम पूछा तो किसी ने छीन ली माइक: देखें वीडियो

नए कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार का विरोध करने के लिए धनसा राजमार्ग पर डेरा डाले तथाकथित किसानों ने एक युवा महिला के सवाल करने पर इस कदर तिलमिला गए कि कोई उसका नाम पूछने लगा तो किसी ने माइक ही छीन ली।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,963FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe