Thursday, October 22, 2020
Home फ़ैक्ट चेक मीडिया फ़ैक्ट चेक मदरसा छात्रों और मौलवी के मलद्वार से बहा था खून, UP पुलिस का टॉर्चर:...

मदरसा छात्रों और मौलवी के मलद्वार से बहा था खून, UP पुलिस का टॉर्चर: मीडिया गिरोह की साजिश का भंडाफोड़

"न तो मदरसा के बच्चों के मलद्वार से खून बहा और न ही मौलवी (असद रज़ा हुसैनी) की गुदा में रॉड डाली गई। पुलिस ने ऐसा कुछ नहीं किया। हमें अपना मुँह ख़ुदा को दिखाना है। इसलिए झूठ बोलने का कोई मतलब नहीं है।"

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन क़ानून (CAA) के ख़िलाफ़ देश भर में हुए दंगों के बाद ‘लिबरल-सेक्युलर’ मीडिया ने इस्लामी और वामपंथी प्रोपेगेंडाबाज़ों के साथ हाथ मिला लिया है। यह बात किसी से छिपी नहीं है कि यूपी में विरोध-प्रदर्शनों के नाम पर दंगों को अंजाम देने के दौरान पुलिसकर्मियों और मीडियाकर्मियों पर जानलेवा हमले किए गए, उन्हें ज़िंदा जला देने की कोशिश तक की गई। लेकिन, इन सब बातों से बे-ख़बर प्रोपेगेंडाबाज़ों ने फ़र्ज़ी ख़बरों के ज़रिए पुलिस को बदनाम करने का दुष्प्रचार शुरू किया

लिबरल मीडिया गैंग ने पुलिस को लेकर यह झूठ फैलाया कि दंगों के दौरान पुलिस ने मुस्लिम भीड़ पर अत्याचार किए, उन्हें गिरफ़्तार किया। यह भी झूठ फैलाया किया कि पुलिस ने दंगे पर क़ाबू करते हुए लोगों को चोटिल किया, उनका ख़ून बहाया।

ऐसी ही एक एक ख़बर हाल ही में सामने आई कि CAA के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन के बाद सआदत मदरसे के छात्रों को पुलिस ने 20 दिसंबर को हिरासत में लिया था। इस दौरान उन्हें चोटें आईं थी, उनकी हड्डियाँ टूट गईं थी और यहाँ तक ​​कि उनके मलाशय से ख़ून बह रहा था। लेकिन, ये ख़बर झूठी हैं क्योंकि इस मामले पर पीड़ितों ने ख़ुद इस बात से इनकार किया कि पुलिस ने उनका शोषण किया। अब जब उन छात्रों ने ही पुलिस पर लगे आरोपों का खंडन कर दिया तो इसका मतलब यह हुआ कि पुलिस को बदनाम करने के लिए लिबरल मीडिया ने षड्यंत्र रचा था।

टेलीग्राफ ने इस प्रकरण को लेकर एक के बाद एक कई झूठी ख़बरें फैलाई। ऐसी ही एक ख़बर थी 29 दिसंबर की। इसमें यह दावा किया गया था कि एंटी-सीएए दंगों के दौरान, उत्तर प्रदेश पुलिस ने मुजफ्फरनगर शहर के सआदत हॉस्टल-कम-अनाथालय के लगभग 100 बच्चों को हिरासत में लिया और उन्हें प्रताड़ित किया।

टेलीग्राफ ने अपनी ख़बर में लिखा कि हिरासत में लिए गए लड़कों को टॉयलेट जाने से कई बार मना कर दिया गया था और उनमें से कुछ को इतना टॉर्चर किया गया कि उन्हें रेक्टल ब्लीडिंग (मलाशय से खून) हुई थी।

टेलीग्राफ में प्रकाशित ख़बर का स्क्रीनशॉट

कॉन्ग्रेस पार्टी के मुखपत्र नेशनल हेराल्ड ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें यह भी बताया गया कि मदरसा के नाबालिग छात्रों को गिरफ़्तार किया गया था और कुछ को कथित तौर पर प्रताड़ित किया गया, इस वजह से उन्हें रेक्टल ब्लीडिंग (मलाशय से खून) हुई थी।

नेशनल हेराल्ड की ख़बर का स्क्रीनशॉट

यहाँ तक कि British Daily- The Guardian ने भी इस घटना के बारे में आधा-सच ही बताया। उस आधे सच में यह दावा किया गया था कि पुलिस ने मौलवी और उसके 35 छात्रों को हिरासत में लिया, जिनमें 15 कथित तौर पर नाबालिग और अनाथ थे और उन्हें पास के पुलिस बैरक में ले जाया गया, जहाँ उनके कपड़े उतारे गए और मारपीट की गई। इस ख़बर में यह दावा भी किया गया था कि पुलिस ने मौलवी (असद रज़ा हुसैनी) की गुदा में रॉड डाल दी, जिससे उनके गुदा से ख़ून बहने लगा।

The Guardian की रिपोर्ट का स्क्रीशॉट

कविता कृष्णन जो कि अति-वामपंथी कट्टरपंथी तत्व के रूप में भारत विरोधी प्रचार के लिए जानी जाती हैं, उन्होंने भी यूपी पुलिस के ख़िलाफ़ फ़र्ज़ी ख़बरें फैलाना जारी रखा। उसने दावा किया कि मदरसा के बच्चों को यूपी पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया गया था, जिससे उनके गुदा से ख़ून बह रहा था।

वामपंथी स्वरा भास्कर ने भी इसी तरह के बयान दिए, जिसमें दावा किया गया कि ‘कथित’ बलात्कार मुजफ्फरनगर में हुआ और इस घटना के लिए उन्होंने यूपी पुलिस को ज़िम्मेदार ठहराया।

इन सभी झूठी ख़बरों का खंडन द प्रिंट ने अपनी एक रिपोर्ट में किया और यह स्पष्ट किया कि सआदत छात्रावास के नाबालिग लड़कों ने ख़ुद दावा किया कि उनके गुदा से ख़ून बहने की ख़बरें झूठी हैं। सीतापुर के रहने वाले 21 साल के इरफ़ान हैदर ने द प्रिंट को बताया कि ‘कुछ मदरसा छात्रों को पुलिस यातना का दंश झेलना पड़ा’ जैसी सारी ख़बरें झूठी थी, इनका कोई आधार नहीं था।

मदरसे के मौलवी असद रज़ा हुसैनी के एक रिश्तेदार और विश्वासपात्र नावेद आलम ने, द प्रिंट को बताया कि यह सच नहीं है। न तो बच्चों और न ही मौलाना साहब को रेक्टल ब्लीडिंग हुई, न ही उन्हें बेरहमी से पीटा गया, जो अपने आप में एक भयानक अनुभव होता। ऐसा कुछ हुआ ही नहीं, इसलिए हमें कोई आरोप लगाने की ज़रूरत नहीं है।

एक अन्य रिश्तेदार, मोहम्मद आज़म ने कहा, “हमें अपना मुँह ख़ुदा को दिखाना है। इसलिए झूठ बोलने का कोई मतलब नहीं है। जो हुआ वह अपने आप में एक बड़ी बात थी।”

ग़ौर करने वाली बात यह है कि मीडिया गिरोह हो या फिर कोई खास वर्ग, CAA की आड़ में विरोध-प्रदर्शन के नाम पर दंगा करने वालों की पोल पुलिस खोल ही देती है। मुज़फ़्फ़रनगर के एसपी सतपाल अंतिल ने बताया था, “मीनाक्षी चौक और महावीर चौक के बीच कम से कम 50000 लोगों की भीड़ थी, जो पुलिस पर हमला कर रही थी और हिंसा और बर्बरता में लिप्त थी। जब हमने भीड़ को रोकने की कोशिश की, तो दंगाइयों एक समूह परिसर के अंदर गया और परिसर के अंदर से हम पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद हमने परिसर में प्रवेश किया और फिर 70 लोगों को गिरफ़्तार किया।”

यूपी पुलिस ने भी ट्विटर के माध्यम से मुज़फ़्फ़रनगर पुलिस के ख़िलाफ़ झूठी अफ़वाहों और दुर्भावनापूर्ण अभियान के बारे में लोगों को सच्चाई से अवगत कराया था। पुलिस ने बताया था कि 20.12.2019 को मुज़फ़्फ़रनगर की घटनाओं में पुलिस कार्रवाई के कारण कोई हताहत नहीं हुआ था। बल्कि इसके उलट, दंगाइयों ने आगजनी कर वाहनों में आग लगाई, एक हिंसक भीड़ ने पुलिस पर फायरिंग की। इसके लिए FIR दर्ज की गई। फिर पुलिस ने विश्वसनीय साक्ष्य के आधार पर उपद्रवियों को गिरफ़्तार किया।

टूटे हाथ वाले मौलवी की तस्वीर का दूसरा पहलू: मदरसे के अंदर से पुलिस पर हुई थी गोलीबारी, तब लिया एक्शन

दंगाई भीड़ में शामिल 7-14 साल के बच्चों ने की पत्थरबाज़ी, जबलपुर के SP का चौंकाने वाला ख़ुलासा

दंगों से कुछ तस्वीरें, जो बताती हैं पुलिस वाले भी चोट खाते हैं, उनका भी ख़ून बहता है…


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिया विरोधी दंगों की खबर ट्वीट करने पर ट्विटर ने दिया भारतीय सम्पादक को ‘पाकिस्तानी कानून’ वाला नोटिस

ट्विटर ने दक्षिणपंथी पोर्टल 'ऑर्गनाइज़र' के संपादक प्रफुल्ल केतकर की एक रिपोर्ट पर यह कहते हुए आपत्ति जताई है कि यह पाकिस्तान के कानून का उलंघन करती है।

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

कपटी वामपंथियो, इस्लामी कट्टरपंथियो! हिन्दू त्योहार तुम्हारी कैम्पेनिंग का खलिहान नहीं है! बता रहे हैं, सुधर जाओ!

हिन्दुओ! अपनी सहिष्णुता को अपनी कमजोरी मत बनाओ। सहिष्णुता की सीमा होती है, पागल कुत्ते के साथ शयन नहीं किया जा सकता, भले ही तुम कितने ही बड़े पशुप्रेमी क्यों न हो।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

पैगंबर मोहम्मद के ढेर सारे कार्टून… वो भी सरकारी बिल्डिंग पर: फ्रांस में टीचर के गला काटने के बाद फूटा लोगों का गुस्सा

गला काटे गए शिक्षक सैम्युएल पैटी को याद करते हुए और अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करने के लिए पैगम्बर मोहम्मद के कार्टूनों का...

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

दाढ़ी नहीं कटाने पर यूपी पुलिस के SI इंतसार अली को किया गया सस्पेंड, 3 बार एसपी से मिल चुकी थी चेतावनी

"इंतसार अली बिना किसी भी तरह की आज्ञा लिए दाढ़ी रख रहे थे। कई बार शिकायत मिल चुकी थी। इस संबंध में उन्हें 3 बार चेतावनी दी गई और..."
- विज्ञापन -

शिया विरोधी दंगों की खबर ट्वीट करने पर ट्विटर ने दिया भारतीय सम्पादक को ‘पाकिस्तानी कानून’ वाला नोटिस

ट्विटर ने दक्षिणपंथी पोर्टल 'ऑर्गनाइज़र' के संपादक प्रफुल्ल केतकर की एक रिपोर्ट पर यह कहते हुए आपत्ति जताई है कि यह पाकिस्तान के कानून का उलंघन करती है।

चीनी Huawei, ZTE को स्वीडन ने भी प्रतिबंध लगा कर भगाया, कहा – ‘चोरी करके अपनी सेना की ताकत बढ़ा रहा था’

स्वीडन की सेना और सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से सुझाव मिलने के बाद चीनी Huawei और ZTE को अगले महीने होने वाले स्पेक्ट्रम आवंटन से...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

इस्लामी कट्टरपंथी ने कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ।

तेजस्वी की भीड़ ‘इंक्रिडिबल’, मोदी की भीड़ से कोरोना: स्टार प्रचारक सागरिका घोष ने बाँटा ज्ञान

सागरिका घोष ने तेजस्वी यादव की चुनावी रैली को तो 'इंक्रिडिबल' बताया मगर PM मोदी को ये नसीहत देती देखी गई कि उन्हें कोरोना के कारण बिहार में चुनावी रैली नहीं करनी चाहिए।

सलमान लड़कियों को वीडियो कॉल करके दिखाता था अपना प्राइवेट पार्ट, फोट काटने पर 30 महिलाओं को भेज चुका था ‘गंदी वीडियो’

सलमान राजस्थान में रहने वाले अपने दोस्त का नंबर इस्तेमाल कर रहा था। उसने इस नंबर से कई अन्य महिलाओं के साथ भी ऐसी बदसलूकी की थी।

ईद पर झुक कर सलाम Vs नवरात्र पर कटरीना वाली ‘रात’ और सलमान की ‘डंडी’: Eros Now ने माँगी माफी

इरोज नाउ ने ईद के मौके पर पहले शालीनता से बधाईयाँ दी हैं। वहीं नवरात्र के मौके पर दोयम दर्जे की मानसिकता का प्रदर्शन किया है।

पैगंबर मोहम्मद पर पोस्ट करने वाले कॉन्ग्रेस MLA के भतीजे को जमानत, इसी पोस्ट के कारण हुई थी बेंगलुरु हिंसा

कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनकर कहा कि जिन धाराओं में नवीन के ख़िलाफ़ मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें अधिकतम सजा की अवधि तीन वर्ष है और...

‘गधा ओवैसी जोकर जहाँ दिखे उसे चप्पलों से मारना चाहिए’: मुग़ल प्रिंस तुसी का फूटा KCR-ओवैसी पर गुस्सा

तुसी ने ओवैसी को लताड़ लगते हुए कहा, "कमीने तुझे शर्म आनी चाहिए, तू शर्म से मर जा रे कमीने तू, गधा, बेवकूफ। मैं आवाम से कहूँगा कि चप्पल से मारें इसको।"

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार में बिल गेट्स वाला गाँव, उस ‘इवेंट मैनेजमेंट’ से क्या हुआ? | Bill Gates took photos here

2011 में यह गाँव मीडिया की सुर्खियों में था। यहाँ की एक बिटिया, जिसका नाम रानी है, को बिल गेट्स ने गोद में लिया था। लेकिन 10 साल बाद भी...

ब्रजेश पांडे, जिन्नावादी उस्मानी को कॉन्ग्रेस का टिकट: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Congress becoming Muslim League

मशकूर अहमद उस्मानी को दरभंगा के जाले से टिकट दिया गया है, तो वहीं ब्रजेश पांडे को रोहिनगंज नाम की जगह से टिकट मिला है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,979FollowersFollow
336,000SubscribersSubscribe