Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजमंदिर जा रही नाबालिग का राजस्थान में दिन दहाड़े गैंगरेप, आधे किलोमीटर तक बिना...

मंदिर जा रही नाबालिग का राजस्थान में दिन दहाड़े गैंगरेप, आधे किलोमीटर तक बिना कपड़ों के भागी

बच्ची इतनी डर चुकी थी कि वो मदद को आए दुकानदार से भी दूर भागने लगी। बिना कपड़ों के पीड़ित बच्ची करीब आधा किलोमीटर तक भागती रही। किसी तरह समझाने-बुझाने के बाद...

राजस्थान के जयपुर से 250 किलोमीटर दूर भिलवाड़ा जिले में एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। यहाँ 15 साली की एक बच्ची का 3 लोगों ने शराब के नशे में अपहरण करके गैंगरेप किया है। घटना सोमवार शाम की है, जब बच्ची अपने 2 दोस्तों के साथ मंदिर जा रही थी।

जानकारी के मुताबिक लड़की का अपहरण होते ही उसका एक दोस्त भागकर पास के बाजार गया और वहाँ एक दुकानदार को सारा वाकया बताकर उनसे मदद माँगी। जैसे ही मदद के लिहाज से वो दुकानदार वहाँ पहुँचा तो तीनों आरोपित लड़की को छोड़कर भाग गए। लेकिन बच्ची इतनी डर चुकी थी कि वो मदद को आए दुकानदार से भी दूर भागने लगी। बिना कपड़ों के पीड़ित बच्ची करीब आधा किलोमीटर तक भागती रही। किसी तरह समझाने-बुझाने के बाद जब वो रुकी, तो उस दुकानदार ने उसे कपड़ों से ढका और उसे घर लेकर गया।

पुलिस के मुताबिक इस मामले में तीनों आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है। आरोपितों की पहचान राजू कहर, कैलाश कहर और नारायण गुर्जर के रूप में हुई है। इनमें राजू और कैलाश की उम्र 20 के आसपास की बताई जा रही हैं, जबकि नारायण 40 वर्ष का है।

जिस युवक ने बच्ची को बचाया उन्होंने बताया, “मैं सोमवार की शाम अपनी दुकान पर बैठा था, जब एक डरा-सहमा लड़का मेरे पास आया। उसने बताया कि वो अपनी दो दोस्तों के साथ मंदिर जा रहा था कि तभी टहनल रोड पर 3 लोगों ने उसे रोक लिया। उन्होंने लड़के से उसकी बाइक छीनी और उसकी एक दोस्त को सुनसान जगह पर उसका बलात्कार करने ले गए।”

मीडिया से बातचीत में दुकानदार ने बताया, “जब मैं अपनी बाइक से उस जगह पर पहुँचा तो तीनों आरोपित लड़की को मार रहे थे। लेकिन मुझे देखते ही वो फरार हो गए। लड़की बहुत डरी हुई थी। वो मुझे भी देखकर वहाँ से भागने लगी, करीब आधा किलोमीटर वो बिन कपड़े भागी। मैं समझाता रहा कि मैं उसकी मदद के लिए आया हूँ, लेकिन उसने विश्वास नहीं किया। कुछ देर बाद जब उसने मुझ पर यकीन किया, तो वो रुकी, मैं उसे कपड़े दिए और वापस शहर लेकर आया। मैंने उसे अस्पताल ले जाने की बात कही, लेकिन उसने कहा कि उसे घर जाना है, क्योंकि उसके पिता की तबीयत खराब है।”

लेकिन, जब लड़की के घरवालों ने इस घटना के बारे में सुना,उन्होंने तत्काल पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद तीनों की गिरफ्तारी हुई। डीएसपी भरत सिंह, जो इस की जाँच कर रहे हैं, उन्होंने बताया कि तीनों आरोपित शाहपुर के रहने वाले हैं। इसके अलावा उन्होंने ये भी बताया कि उन्हें अपनी जाँच में घटनास्थल से चूड़ियों के टुकड़े, शराब की बोटल और खून के निशाने मिले हैं। लड़की के कपड़ों को भी बरामद कर लिया गया और लड़की का मेडिकल चेकअप करवाया गया है, जिसमें लड़की के शरीर पर हर जगह खरोंच के निशान हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe