Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाज'मैं पूजा हूँ, आदिल खान है मेरी मौत का जिम्मेदार' - बब्लू बन फँसाया...

‘मैं पूजा हूँ, आदिल खान है मेरी मौत का जिम्मेदार’ – बब्लू बन फँसाया प्रेमजाल में, इस्लाम कबूल नहीं करने पर दूसरे से सगाई

“मेरा नाम पूजा है और मैं आत्महत्या करने जा रही हूँ। खलीक खान का बेटा आदिल खान मेरी मौत का ज़िम्मेदार है।” यह लिख कर पीड़िता ने फाँसी लगा ली। पिता ने बताया कि आदिल ने इस्लाम कबूल करने का दबाव बनाने के लिए...

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लव/ग्रूमिंग जिहाद का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ 26 वर्षीय दलित युवती ने शुक्रवार (8 जनवरी 2021) को आत्महत्या कर ली। यह कदम उठाने से पहले उसने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें उसने अपनी मौत के लिए आदिल खान नाम के युवक को ज़िम्मेदार ठहराया है। 

सुसाइड नोट में आदिल खान को ठहराया ज़िम्मेदार 

भोपाल के टीटी नगर क्षेत्र में रहने वाली युवती अपने कमरे में मृत पाई गई थी। पुलिस मामले की जानकारी मिलते ही घटनास्थल पर पहुँची और वहाँ से एक सुसाइड नोट बरामद किया। जिसमें युवती ने आदिल खान को अपनी मौत के लिए ज़िम्मेदार ठहराया था। उसने अपने सुसाइड नोट में लिखा था, “मेरा नाम पूजा है और मैं आत्महत्या करने जा रही हूँ। खलीक खान का बेटा आदिल खान मेरी मौत का ज़िम्मेदार है।” 

इसके बाद युवती के परिजनों ने आदिल खान के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने उस पर सम्बंधित धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज करके उसे गिरफ्तार कर लिया है। इसमें आत्महत्या के लिए उकसाना भी शामिल है। 

दोस्ती करने के लिए आदिल खान ने बदला था अपना नाम 

मृतक युवती के पिता ने आरोप लगाया है कि आदिल ने हिन्दू बन कर उनकी बेटी को अपने झाँसे में लिया। आरोपित ने उनकी बेटी से दोस्ती करने के लिए अपना नाम बबलू बताया। युवती के पिता ने अपने बयान में कहा, “मेरी बेटी को जब उसके झूठ के बारे में पता चला, तब उसने दूरी बनाने का प्रयास किया। बदले में आदिल ने उसे मौखिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।” 

दोनों पिछले 8 सालों से दोस्त थे। युवती के भाई ने बताया कि शुक्रवार की शाम पूजा अपने कमरे में गई और उसने अपना कमरा बंद कर लिया। उस वक्त घर में सभी लोग मौजूद थे। जब परिवार वालों के आवाज़ देने पर भी युवती ने दरवाज़ा नहीं खोला तब उन्होंने दरवाज़ा तोड़ दिया। इसके बाद उन्हें जो नज़र आया, उसे देख कर उनके पैरों तले ज़मीन खिसक गई, पूजा अपने कमरे में फंदे पर लटकी हुई थी। 

पूजा के भाई ने यह भी बताया कि आदिल उस पर इस्लाम कबूल करने का दबाव बनाता था। जब उसकी बहन ने ऐसा करने से मना कर दिया तब आदिल ने दूसरी युवती के साथ सगाई कर ली। इस बात से निराश होकर पूजा ने आत्महत्या कर ली। 

युवती के परिजनों की माँग है कि आदिल खान को गिरफ्तार करके उस पर हाल ही में लाए गए धर्मांतरण (लव जिहाद) विरोधी क़ानून के अंतर्गत कार्रवाई की जाए। हालाँकि पुलिस ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि इस प्रकरण में जबरन धर्मांतरण का मामला दर्ज होगा या नहीं। आरोपित पर आत्महत्या के लिए उकसाने और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया चुका है। 

जबरन धर्मांतरण के विरुद्ध मध्य प्रदेश सरकार का क़ानून 

मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शनिवार (9 जनवरी 2021) को प्रदेश सरकार द्वारा पारित किए गए जबरन धर्मांतरण के विरुद्ध क़ानून को अनुमति प्रदान की थी। यह क़ानून प्रदेश के भीतर धोखे से किए जाने वाली धर्मांतरण की घटनाओं को रोकने के लिए लाया गया है। इस क़ानून के दायरे में ऐसे मामले भी आएँगे जिनमें धर्मांतरण को शादी का आधार बना दिया जाता है। 

इस क़ानून के तहत दोषी पाए जाने वालों या इसकी साज़िश में शामिल लोगों को 10 साल की कैद या जुर्माना देना पड़ सकता है। ऐसा ही एक क़ानून उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भी लेकर आई है। पिछले कुछ समय में लव/ग्रूमिंग जिहाद के मामलों में काफी बढ़ोतरी हुई है, उन मामलों को रोकने के लिए धर्मांतरण विरोधी क़ानून बनाने की माँग उठ रही थी। पिछले साल उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित एक ही इलाके में लव/ग्रूमिंग जिहाद के कई मामले सामने आए थे। इसके बाद उत्तर प्रदेश ने उस मामले की जाँच के लिए एसआईटी का गठन किया था।   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe