Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजशंकराचार्य की चिट्ठी के बाद फिरोज काण्ड पर हरकत में आया PMO: छात्रों ने...

शंकराचार्य की चिट्ठी के बाद फिरोज काण्ड पर हरकत में आया PMO: छात्रों ने किया VC का पुतला दहन

संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय की गूँज प्रधानमंत्री तक पहुँच गई है क्योंकि प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस सम्बन्ध में प्रशासन से रिपोर्ट तलब की है। आनन-फानन में मंडलाधिकारी दीपक अग्रवाल ने विदेश दौरे पर होने के बावजूद पीएमओ को रिपोर्ट भेजी और....

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में छात्रों ने वाईस चांसलर का पुतला दहन किया। जेएनयू के प्रोफेसर रहे राकेश भटनागर फ़िलहाल बीएचयू के वीसी हैं। बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी के ‘धर्म विज्ञान संकाय (SVDV)’ में फ़िरोज़ ख़ान की नियुक्ति को लेकर छात्र नाराज़ हैं और लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी क्रम में कई छात्रों ने वीसी का पुतला-दहन किया। इन छात्रों में मृत्युंजय तिवारी आजाद, अभिषेक सिंह, अभिषेक त्रिपाठी, अवनींद्र राय, दिलीप मोरिया, आलोक सिंह, प्रवीण सिंह और अंशुमान द्विवेदी सहित सैकड़ों छात्र सम्मिलित हुए।

मामला अब सिर्फ़ फ़िरोज़ ख़ान की नियुक्ति को ग़लत बताने का नहीं है बल्कि इसकी आँच अब अन्य विभागों में हुई नियुक्तियों में भी पहुँच गई है। वीसी का पुतला-दहन करने वाले छात्रों ने आरोप लगाया कि कई अन्य विभायों में भी इसी तरह अयोग्य नियुक्तियाँ की गई हैं, जिनकी जाँच होनी चाहिए। उनका आरोप था कि फ़िरोज़ ख़ान की नियुक्ति की आड़ में वीसी अन्य अयोग्य नियुक्तियों को दबाने का प्रयास कर रहे हैं। पुतला-दहन यूनिवर्सिटी के सिंहद्वार पर किया गया।

अब इस मामले की गूँज प्रधानमंत्री तक पहुँच गई है क्योंकि प्रधानमंत्री कार्यालय ने इस सम्बन्ध में रिपोर्ट तलब की है। पीएमओ ने इस पूरे बवाल को लेकर प्रशासन से रिपोर्ट माँगी। आनन-फानन में मंडलाधिकारी दीपक अग्रवाल ने विदेश दौरे पर होने के बावजूद पीएमओ को रिपोर्ट भेजी। अब प्रशासन एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर रहा है, जिसे प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जाएगा। छात्रों ने आरोप लगाया है कि कई विभागों में अयोग्य नियुक्तियों के जरिए विश्वविद्यालय को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

उधर गुरुवार (नवंबर 21, 2019) को स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने छात्रों को अपना समर्थन दिया। VC राकेश भटनागर के आवास के बाहर जारी धरने के दौरान वहाँ पहुँच कर उन्होंने छात्रों को सम्बोधित भी किया। उन्होंने कहा कि मालवीय जी ने जिस विभाग की स्थापना हिन्दुओं के लिए की थी, उसमे ग़ैर-हिन्दुओं की नियुक्ति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि शब्दों को पढ़ लेना और उसे अनुभव करना, ये दो अलग-अलग चीजें हैं। शंकराचार्य ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर फ़िरोज़ ख़ान की नियुक्ति को धर्म के मान-बिंदुओं के विपरीत करार दिया।

शंकराचार्य ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख छात्रों का समर्थन किया

छात्रों ने कल प्रशासन को अपना माँग पत्र सौंपते हुए कई सवालों का विश्वविद्यालय प्रशासन से जवाब माँगा है। जिसे लेकर देर रात SVDV के संकाय प्रमुख, अन्य विभागाध्यक्षों और VC के बीच मीटिंग चली लेकिन किसी भी नतीजे पर नहीं पहुँचा गया। इस बीच खबर ये भी है SVDV के छात्रों पर दबाव बनाने के लिए विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे शशिकांत मिश्रा, शुभम और कृष्णा को प्रशासन ने धरनास्थल से हटाने का प्रयास किया। इसके बावजूद छात्रों का प्रदर्शन जारी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe