Monday, May 20, 2024
Homeदेश-समाजTISS ने राष्ट्र-विरोधी गतिविधियों में लिप्त Ph.D छात्र को निलंबित किया: राम मंदिर प्राण...

TISS ने राष्ट्र-विरोधी गतिविधियों में लिप्त Ph.D छात्र को निलंबित किया: राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का किया था अपमान, अब कैम्पस में ‘नो एंट्री’

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज ने अपने पीएचडी स्टूडेंट को दो साल के लिए निलंबित कर दिया है। प्रिंसी नाम के छात्र पर संस्थान में बार-बार दुर्व्यवहार और देशविरोधी गतिविधियों का आरोप है।

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) ने पीएचडी छात्र रामदास प्रिंसी शिवानंदन को दो साल के लिए निलंबित कर दिया है। उन पर संस्थान में बार-बार दुर्व्यवहार और देशविरोधी क्रिया-कलापों में शामिल होने का आरोप लगाया गया है। उस पर ‘राम के नाम’ डॉक्यूमेंट्री के स्क्रीनिंग का भी आरोप है। इसके साथ ही प्रिंसी को दो साल के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइसेंज के सभी चारों कैंपस में एंट्री भी बैन कर दी गई है।

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, संस्थान ने डेवलेपमेंट स्टडीज में डॉक्टरेट कर रहे रामदास प्रिंसी शिवानंदन (30) पर मुंबई, तुलजापुर, हैदराबाद और गुवाहाटी में अपने कैंपस में प्रवेश करने पर भी पाबंदी लगा दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, TISS ने बीते 7 मार्च को रामदास को एक कारण बताओ नोटिस भेजा था, जिसमें 26 जनवरी को ‘राम के नाम’ की एक डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग में उनकी भूमिका का हवाला दिया गया था। नोटिस में इसे अयोध्या में राम मंदिर की मूर्ति प्रतिष्ठा के खिलाफ “अपमान और विरोध का प्रतीक” बताया गया था। इंस्ट्रीट्यूट ने नोटिस जारी कर इसकी स्क्रीनिंग न करने के लिए भी कहा था।

नोटिस में लिखा है, ”रामदास ने इसी साल जनवरी में दिल्ली में संसद के बाहर प्रोग्रेसिव स्टूडेंट फोरम और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के संयुक्त बैनर तले विरोध प्रदर्शन किया था।” संस्थान के मुताबिक, “यह संस्थान के नाम का दुरुपयोग जैसा मामला था।” इसमें ये भी कहा गया कि प्रोग्रेसिव स्टूडेंट फोरम का इंस्टीट्यूट से कोई लेना-देना नहीं है। बता दें कि प्रोग्रेसिव स्टूडेंट फोरम एक वामपंथी झुकाव वाला संगठन है।

संस्थान की ओर से जारी आदेश

TISS ने छात्र रामदास प्रिनिसिवनंदन (30) को नोटिस भेजकर कहा कि उसने अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा समारोह का अपमान करने के लिए डॉक्यूमेंट्री का प्रदर्शन किया। कैंपस में बीबीसी के बैन लग चुके डॉक्यूमेंट्री की भी स्क्रीनिंग की गई थी। इसके साथ ही विवादास्पद वक्ताओं को बुलाकर भगत सिंह पर लेक्चर दिलाया गया था।

टाटा इंस्टीट्यूट की तरफ से जारी नोटिस के मुताबिक, ‘स्पष्ट है, छात्र अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर जानबूझकर और इरादतन देशविरोधी गतिविधियों में शामिल रहा। TISS ने कहा कि छात्र का आचरण देशहित में नहीं है और एक सार्वजनिक संस्थान होने के कारण TISS यह बर्दाश्त नहीं करेगा। उधर, आरोपित छात्र ने कहा है कि वह इस निलंबन के खिलाफ अपील करेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -